अमिताभ बच्चन का मेकअप करना सबको अच्छा लगता है- धर्मवीर

By pnc Sep 22, 2016
जिनके काम में दिखती हैं रचनाशीलता
गया था एक्टिंग करने बन गया मेकअप आर्टिस्ट
कैमरा के सामने आप बगैर मेकअप के नहीं जा सकते मेकअप लगाना ही होगा इसके लिए भी एक एक्सपर्ट की जरुरत  होती है जो आपके चेहरे को फिल्म और चरित्र के हिसाब से तैयार करता है.कैमरा और मेकअप का सम्बन्ध बहुत ही गहरा है.16 साल से मेकअप आर्टिस्ट का काम कर रहे धर्मवीर मेकअप को एक क्रिएटिव काम मानते हैं इसमें सारा ध्यान रंगों के संयोजन और डिमांड पर रहती है .धर्मवीर ने नाटक ,धारावाहिक और फिल्मों में अपने बेहतरीन काम से सबको प्रभावित हुई है. एक फिल्म के सेट पर रवीन्द्र भारती के साथ धर्मवीर श्रीवास्तव की बातचीत

dha

फिल्म इंडस्ट्री में सीखा बहुत कुछ 




मोतिहारी के मध्यमवर्गीय फॅमिली से आने वाले धर्मवीर श्रीवास्तव का रुझान बचपन से कला के प्रति था.उन्होंने अपने इस करियर की शुरुआत 1998 में की और आज एक लम्बा अनुभव है. अभिनय  करने की चाहत से रंगमंच पहुंचे पर  मेकअप करना शुरू कर दिया और अब फिल्म में अपनी सफलता के झंडे गाड़ रहे है. मंगल पाण्डेय,सिर्फ तुम ,ग़दर ,अर्थ ,मुझे कुछ कहना है में बतौर सहायक मेकअप आर्टिस्ट  के रूप में काम किया है.इनकी लेटेस्ट फिल्म है कॉर्पोरेट,राँझना और बजरंगी भाई जान .इसके अलावा एड फिल्म ,कॉर्पोरेट शूट ,फैशन शो और प्रोडक्ट शूट भोजपुरी की कई हिट फ़िल्मों  के साथ छोटी- बड़ी एक हजार फिल्में और टीवी शोज कर चूका हूँ .अमिताभ बच्चन के साथ सब कोई काम करना चाहता है वो हैं ही अच्छे. आपकी रचनात्मकता को वे दुगना कर देते हैं.

14408980_1726800490915806_837375859_ndha

 धर्मवीर कहते है कि मैं 16 सालों से इस क्षेत्र में काम कर रहा हूं. हमेशा से फिल्मी हस्तियों का मेकअप करने का ख्वाब था.दूरदर्शन और ईटीवी में काम किया उसके बाद 2003 में टी सीरीज में काम किया.ज्यादा अच्छे ऑफर मिले तो मुंबई की ओर रुख कर लिया. वो कहते है कि आज इस मुकाम पर हूं कि मैंने एंकर, टीवी शोज, मूवीज से लेकर तरह-तरह के लोगों का मेकअप किया है. टीवी शोज और मूवीज के अलावा करीब 2 साल एक न्यूज चैनल के लिए भी काम किया है.एक मेकअप इवेंट ऑर्गनाइज कर रहे हैं, जिसकी तैयारियां भी चल रही हैं. इसमें अलावा हम वर्कशॉप भी  आयोजित कर रहे है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग सीख सकें. कार्यशाला में मेकअप से जुड़ी तमाम बातों के बारे में बताना ही नहीं उन्हें लाइव मेकअप भी कराया जाता है. ऐसे कार्यशालाओं  में मेकअप के सभी स्तर को बताया जाता है ,खास तौर पर  ब्राइडल रैंप वॉक शो का भी आयोजन किया जाता है. इससे फैशन पैशन और रोजगार तीनों मिलते हैं मेकअप में. मेकअप तो हर कोई जानता है आपके नजरिए से इसमें अलग क्या है? मेकअप का मतलब ही है लुक को अप करना. अक्सर लोगों को लगता है कि आपको बस मेकअप करना आना चाहिए तो काम हो जाएगा, पर अब वो सिचुएशन नहीं है. जैसा मौका, वैसा मेकअप करने की डिमांड है. तभी आप बाकी सब से अलग दिख सकते हैं.साथ ही आपकी क्रिएटिविटी भी दिखनी चाहिए तभी आप अलग दिख सकते है.
14389699_1726800537582468_2097178960_n
धर्मवीर कहते है कि मेकअप करने के दौरान सबसे जरूरी है कि आप यह देखें कि आप किस मौके के लिए तैयार हो रहे हैं. आपकी स्किन टोन कैसी है. हर व्यक्ति की स्किन टोन और कलर अलग होता है.ऐसे में आप एक तरह का मेकअप अप्लाई नहीं कर सकते. इसके अलावा मौसम कैसा है, प्रोडक्ट और लाइटिंग क्या हैं. साथ ही मेकअप लगाने की टेक्नीक, चेहरे को उभारने और दबाने के तरीकों की भी जानकारी होना बेहद जरूरी है.अपने गुरू हाजीपुर के सतीश कुमार सर्वेश को याद करते हुए कहा कि बारीकियां मुझे उन्हीं से सीखने को मिली.

dharmveer14429651_1726787790917076_727332223_n

 

Related Post