भारत समेत 57 देशों में पहुंच चुका है ओमिक्रॉन

सिर्फ भारत में ओमिक्रोन के 26 मामले
बेंगलुरू में डॉक्टर संक्रमित, विदेश यात्रा का कोई रिकॉर्ड नहीं
वायरस बदल रहा है, लेकिन हमारा सामूहिक संकल्प नहीं बदलना चाहिए- डॉ टेड्रोस
सरकार की अपील सचेत रहें लोग




यहां सुने —-


भारत में ओमिक्रॉन के 26 मामले सामने आ चुके हैं। ये मामले दिल्ली, मुंबई, पुणे, बेंगुलरू और जयपुर जैसे शहरों में सामने आए हैं।अधिकांश मामले विदेश से लौटे यात्रियों में पाए गए हैं. वहीं बेंगलुरू में एक ऐसे डॉक्टर को संक्रमित पाया गया है जिसका विदेश यात्रा को कोई रिकॉर्ड नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि कोरोना वायरस का नया ओमिक्रॉन वेरिएंट महामारी की दिशा को बदल सकता है। महानिदेशक डॉ टेड्रोस एडनॉम गेब्रियेसस ने कहा कि सभी देश एक साथ मिलकर ओमिक्रॉन को वैश्विक संकट बनने से रोक सकते हैं। उन्होंने सभी देशों से जितना तेज हो सके, उतनी तेजी से अपने नागरिकों का वैक्सीनेशन करने और लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए पाबंदियां लगाए रखने की अपील की। ओमिक्रॉन के बारे में मीडिया से बात करते हुए डॉ टेड्रोस ने कहा, “वैश्विक प्रसार और म्यूटेशन्स की बड़ी संख्या जैसे ओमिक्रॉन के कुछ फीचर्स संकेत देते हैं कि इसका महामारी की दिशा पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। हम ओमिक्रॉन को वैश्विक संकट बनने से रोक सकते हैं। ये वायरस बदल रहा है, लेकिन हमारा सामूहिक संकल्प नहीं बदलना चाहिए।”उन्होंने कहा कि शुरुआत सबूत संकेत देते हैं कि ओमिक्रॉन डेल्टा वेरिएंट की तुलना में कम बीमार करता है।

पहली बार दक्षिण अफ्रीका में पकड़ में आए ओमिक्रॉन वेरिएंट का वैज्ञानिक नाम B.1.1.529 है और इसकी स्पाइक प्रोटीन में 32 म्यूटेशन हैं। विशेषज्ञों का कहना है यह वेरिएंट वायरस के अन्य वेरिएंट्स की तुलना में अधिक संक्रामक और खतरनाक हो सकता है। इसके वैक्सीनों को चकमा देने की आशंका भी लगाई जा रही है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ करार दिया है और इस एलान के बाद कई देश यात्रा प्रतिबंध लागू कर चुके है।
ओमिक्रॉन पर वैक्सीनों के प्रभावी न होने की आशंकाओं के बीच विभिन्न कंपनियों अपनी कोविड वैक्सीनों का इस पर परीक्षण कर रही हैं।फाइजर और बायोएनटेक की शुरूआती स्टडीज में सामने आया है कि ओमिक्रॉन के खिलाफ उनकी वैक्सीन 25 गुणा कम न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडीज पैदा करती है।हालांकि अगर लोगों को बूस्टर खुराक लगाई जाती है तो वैक्सीन ओमिक्रॉन से अन्य वेरिएंट्स जितनी ही सुरक्षा दे सकती है।अभी तक WHO बूस्टर खुराक के खिलाफ रहा है।

PNCDESK #aapkikhabar