बाबू कुंवर सिंह विजयोत्सव – भव्य तैयारियां अपने अंतिम चरण में

शिवपुर घाट से कुच करेगी “कुँवर” की फौज 
विजयोत्सव समारोह की तैयारी अंतिम चरण में
3 दिवसीय होगा समारोह, 
समारोह के मुख्य अतिथि होंगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार
आरा, 22 अप्रैल (ओ पी पांडेय और सत्य प्रकाश सिंह की रिपोर्ट) । आजादी के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम,1857  में अंग्रेजो को नाको चना चबाने को मजबूर कर देने वाले भोजपुर के अमर वीर योद्धा, बाबू कुंवर सिंह के  विजयोत्सव  की भव्य तैयारियां अपने अंतिम चरण में हैं. 160वी वर्षगाँठ पर इस बार विजयोत्सव की तैयारी तीन दिवसीय राजकीय सम्मान के साथ मनाया जा रहा है. जिसे अंतिम रूप देने में जिले के वरीय अधिकारियों के साथ कर्मचारी भी लगे हुए है. यह बिहार के साथ ही देश का पहला क्षण होगा, जब वीर बांकुड़ा बाबू कुंवर सिंह के विजयोत्सव के मौके पर उनके जन्मस्थली जगदीशपुर में 23 – 25 अप्रैल तक भव्य आयोजन होगा. विजयोत्सव को यादगार बनाने के लिए जिला प्रशासन युद्धस्तर पर जुटा हुआ है.
तीन दिवसीय इस खास आयोजन का आगाज उनके बलिदान को याद करने के साथ होगा. अंग्रेजों द्वारा लोहा लेते समय उनकी गोलियों से घायल वीर कुँवर सिंह ने जिस शिवपुर घाट पर अपना हाथ काट गंगा को अर्पित कर दिया था, उसी घाट से उनकी विजयोत्सव यात्रा की शुरुआत होगी. यूपी और भोजपुर की सीमा पर स्थित शिवपुर घाट से 23 अप्रैल को सुबह 7 बजे शोभा यात्रा निकाली जाएगी. यह शोभायात्रा लगभग 30 किलोमीटर  की दूरी तय कर, जगदीशपुर के नयका टोला मोड़ होते हुए जगदीशपुर किला परिसर तक जाएगी. शोभायात्रा में कई कलाकार, बाबू कुँवर सिंह और उनके सैनिकों की वेश-भूषा तैयार हो पूरे लाव-लश्कर के साथ शामिल होंगे. शोभायात्रा के गुजरने वाले रास्ते पर फूलों की बारिश की जाएगी. शोभायात्रा में शामिल लोगों का स्वागत करने के लिए के शोभायात्रा के अंतिम पड़ाव खुद बिहार के मुखिया CM नीतीश कुमार खुद मौजूद होंगे. शिवपुर घाट से निकलने वाली शोभा यात्रा को CM, किला परिसर में 10 बजे रिसीव करेंगे. उसके बाद 10 बजकर 20 मिनट पर मुख्यमंत्री द्वारा अमर सेनानी बाबू वीर कुंवर सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण कर झंडोतोलन किया जाएगा.
इस मौके पर जगदीशपुर किला परिसर सहित जगदीशपुर के दुलौर गांव में भाला फेंक,कुश्ती,कबड्डी समेत कई प्रतियोगिताओँ का आयोजन  किया जाएगा. आयोजन स्थल पर रात मे सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा. वही 23 अप्रैल को आरा के महाराजा कॉलेज स्थित आरा हाउस से रिले मशाल निकाला जाएगा जो जगदीशपुर तक पहुँचेगा और उसके बाद आरा हाउस में भी बाबू वीर कुँवर सिंह के जीवन पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा.
वीर बांकुड़ा बाबू कुँवर सिंह की जन्मस्थली जगदीशपुर में 3 दिवसीय इस विजयोत्सव समारोह के पहले दिन CM नीतीश कुमार,डिप्टी CM सुशील मोदी समेत कई मंत्री और विधायक मौजुद रहेंगे. पूरा किला परिसर CCTV कैमरे की निगरानी में रहेगा साथ ही सुरक्षा की अचूक व्यवस्था प्रशासन द्वारा की जा रहीं हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सभा स्थल के लिए 70 फीट लम्बा व 40 फीट चौड़ा वाटर प्रूफ भव्य पंडालनुमा सभागार का निर्माण किया जा रहा है. मंच निर्माण में जोर-शोर से कारीगर लगे हुए हैं. 25 एकड़ में फैले विजयोत्सव समारोह स्थल पर राजस्थान के पुष्कर से आए कारीगरों द्वारा आकर्षक 25 वातानुकूलित स्विस काटेज बनाया गया है. टायलेट व बेड सहित सारी सुविधाओं से लैस इन कॉटेजों में बाहर से आये अतिथि ठहरेंगे. समारोह में हिंदी के साथ भोजपुरी के नामचीन गायक और गायिका अपना जलवा बिखेरेंगे. भोजपुरी के प्रसिद्ध गायक भरत शर्मा,गायिका मालिनी अवस्थी, उषा कुमारी, मोहन राठौर द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा.  इस मौके पर झिझिया नृत्य के अलावा कई अन्य कार्यक्रमों की प्रस्तुति की जाएगी.
कार्यक्रम स्थल पर सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए पंडाल बनाये जा  रहे है जहां लोग विभिन्न कलाओं का लुत्फ उठाएंगे वही लजीज व्यंजनो के स्टॉल की व्यवस्था की गई है जहां भोजन के शौकीन लोग लजीज पकवानों का आनंद उठाएंगे. सभा स्थल पर जाने के लिए 10 भव्य गेट का निर्माण किया गया है. फिलहाल जिला प्रशासन द्वारा इस कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए वीर कुंवर सिंह किला मैदान और आरा के महाराजा कॉलेज स्थित “आरा हाउस” का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है. साथ ही किला को आकर्षक रूप देने के लिए किले के नीचले भाग वाले मैदान में फूल-पौधे, और लाइट की व्यवस्था के साथ ही उसके साफ-सफाई का कार्य भी युद्ध स्तर पर चलाया जा रहा है जो अपने अंतिम रूप में है. वही किला के ऊपरी भाग में कृत्रिम घास लगाई जा रही है और दीवारों पर कलाकारों द्वारा आकर्षक कलाकृतियां बनायी गयी है.
किले के अन्दर वायरिंग की समुचित व्यवस्था भी की गई है. संग्रहालय को साफ सुथरा कर वीर कुंवर सिंह की जीवनी से संबधित कई तरह के लेख व पोस्टर संकलन कर उसे संग्रहालय में जगह दिया जा रहा है. पुरातत्व विभाग द्वारा संग्रहालय परिसर में अस्त्र-शस्त्र भी समय  से पूर्व लगाया जाएगा जिसकी तैयारियां जोरों पर है.
    https://youtu.be/jdxm1w1ZgDE