कर्मयोगी सम्मान से सम्मानित हुए त्रिनेत्र गुफा के साधक

सासाराम, 23 जनवरी. रोहतास जिला के सासाराम में स्थित चंदन गिरी, त्रिनेत्र गुफा में गोरखनाथ मंदिर के निर्माण व जीर्णोद्धार में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भक्तों को पिछले दिनों सम्मानित किया गया. सासाराम के गौरव के रूप में स्थापित श्री गोरखनाथ मंदिर के निर्माण में किए गए अभूतपूर्व सहयोग के लिए यह पुरस्कार प्रदान किया गया है. त्रिनेत्र गुफा के साधकों में गोपालनाथ गोस्वामी, मुरलीधर गोस्वामी, आचार्य विनोद, प्रदीप गोस्वामी,ददन गोस्वामी, त्यागी बाबा,भीम नाथ सहित ग्यारह साधक सदस्यों को कर्म-योगी सम्मान से सम्मानित किया गया.

यह सम्मान “योगी योगेश्वर” ने प्रदान किया. इस अवसर पर योगी योगेश्वर ने सभी भक्तों को अंग वस्त्र धारण करवाकर सम्मानित किया और साथ ही उन्हें एक स्मृति चिन्ह प्रदान किया.




कौन हैं योगी योगेश्वर ?

वाराणसी के विश्व प्रसिद्ध काल भैरव मंदिर के प्रधान गद्दीदार सिद्ध योगी स्वर्गीय बाबा रूपनाथ 1820 के सरपौत्र,वयोवृद्ध योगी प्रेमनाथ योगेश्वर के सुपुत्र योगी प्रकाश नाथ योगेश्वर को “योगी योगेश्वर” के नाम से लोग पुकारते हैं. मृदुभाषी और हंसमुख प्रवृति के धनी योगी योगेश्वर को योग के क्षेत्र में कर्मयोगी सम्मान, योग रत्न सम्मान, योग-भूषण सम्मान, बेस्ट एंकरिंग अवार्ड, 2012 में भीषण बाढ़ में डूब रहे तीन लोगों की जान बचाने के लिए वीरता सम्मान एवं वाराणसी के अत्यधिक प्राचीन काशी खंडोकत् आठ मंदिरों का जीर्णोद्धार करवाने एवं 2000 से ज्यादा नि:शुल्क मंत्रयोग शिविर व योग शिविर का सफल आयोजन करने के लिए काशी गौरव अलंकार सम्मान सहित कई सम्मान से शासन एवं प्रशासन ने इन्हें सम्मानित किया है. योगी योगेश्वर नाथ #patnanow को भी कई सालों से धर्म और योग से सम्बंधित मुद्दों पर मार्गदर्शन देते रहे हैं. ग्रहों के चाल की गणना हो या फिर किसी आपदा में घिरे विषयों से निकलने का परामर्श, योगी हमेशा खड़े रहते हैं.

उक्त अवसर पर योगी योगेश्वर ने कहा कि स्वस्थ विचार ही स्वस्थ राष्ट्र को बल प्रदान कर सकता है उन्होंने सभी को ढेर सारी शुभकामनाएं और सभी को धन्यवाद दिया. सभी सदस्यो का माल्यार्पण धर्मेन्द्र नाथ गोस्वामी ने किया.

PNCB