गलियां-सड़क चकाचक पर ‘नल’ से नहीं टपक रहा ‘जल’

गड़हनी,22 अप्रैल. भोजपुर जिले का गड़हनी प्रखंड के लगभग 6 किलोमीटर पर स्थित बलिगांव पंचायत है.बलिगांव पंचायत की पहचान अंग्रेजों द्वारा स्थापित कोठी से जाना जाता हैं. बताया जाता है कि इस कोठी में अंग्रेजों ने इस क्षेत्र का अपना ऑफिस बनाया था. इस कोठी में छह रूम, कुआँ सहित कई चीजें हैं जो आज जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं. जब-तब लोग इसे देखने जाते हैं या बाहर से आये लोगो को दिखाने ले जाते हैं. यह कोठी इस पंचायत की खास पहचान है. वही दूसरी पहचान बाबू कुँवर सिंह 1857 के लड़ाई में बलिगांव रुक कर पोखरा में स्नान ध्यान किए थे, जो आज उसी पोखरा के किनारे बाबा बलीश्वर नाथ का शिव मंदिर बनाया गया हैं. पोखरा के सौन्दर्यीकरण नही होने से छठ पूजा के दौरान छठव्रतियों की भी परेशानी होती हैं. पंचायत सरकार भवन पिछले साल 2020 में बन कर तैयार है लेकिन अभी तक पंचायत के मुखिया सुनील कुमार को हैंड ओवर नही हुआ हैं. पंचायत के सात निश्चय योजना, पंचम वित्त आयोग चौदहवीं एवं पन्द्रहवीं योजना के अंतर्गत लगभग ढाई करोड रूपये का काम किया गया गया है.मुखिया ने बताया कि पंचायत में राशि भरपूर नही मिला हैं जिससे बलिगांव पंचायत का भरपूर विकास नही हुआ हैं, जिसका आरोप प्रशासनिक अधिकारी पर लगाया है. पंचायत में कुल गांव बलिगांव , श्रीनगर , अजनाप, रौशनटोला, ललित के बथान, खेलाड़ी टोला, लालगंज, छोटकी तेंदुनी, डिहरी, महथिनटोला, डीह पर , भगवान टोला शामिल हैं. पांच वर्षो में पंचायत में काफी कम फंड मिलने के बावजूद भी संभवत सभी 16

Read more