नीतीश हैं प्रेरणा – जदयू में शामिल हुए नरेंद्र सिंह ने कहा

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बृहस्पतिवार 21 फरवरी को समाजसेवी नरेंद्र सिंह ने आज पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित मिलन समारोह में जनता दल यू की सदस्यता ली. जदयू के बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने नरेंद्र सिंह को सदस्यता दिलाई. सदस्यता ग्रहण करने के बाद नरेंद्र सिंह ने जनता दल यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह का आभार किया. इस समारोह में नरेंद्र सिंह के साथ-साथ नेहा सूर्यवंशी, बीरेंद्र कुमार सिंह, अनिरूद्ध कुमार उर्फ अनिल कुमार और लवकुश शर्मा को भी सदस्यता दिलाई गई.नरेंद्र सिंह ने कहा कि अब तक वे एक व्यवसाय के साथ – साथ सामाजिक कार्यों में सक्रिय रहे हैं. बचपन से ही समाज के सभी वर्गों की सेवा करने की इच्छा‍ रही है. लेकिन आज यह पहला मौका है, जब किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े हैं. उन्हों ने कहा कि वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 15 वर्षों के कार्यों से प्रेरित हैं और यही वजह है कि उन्होंने सक्रिय राजनीति में कदम रखा और निर्णय लिया है कि वे नीतीश कुमार के जनहित के कार्यों में एक सिपाही की तरह सहयोग करेंगे. साथ ही सरकार की योजनाओं को गरीबों तक पहुंचायेंगे, चाहे वो सवर्ण गरीब हो या दलित. मास लेवल पर लोगों की सेवा करने के लिए कोई न कोई राजनीतिक दल के साथ जुड़ना जरूरी है, इसलिए नीतीश कुमार के मार्गदर्शन में काम करने के लिए राजनीति में शामिल हो रहे हैं. पहले बिहारी कहना अपमान समझा जाता था, मगर नीतीश कुमार

Read more

रालोसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष ने जेडीयू ज्वाइन किया

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | आज दिनांक 18 फरवरी 2019 दिन सोमवार को बिहार प्रदेश कार्यालय में जदयू के प्रधान महासचिव सह सांसद आरसीपी सिंह, विद्यानंद विकल, छोटू सिंह सहित कई गणमान्य लोगों के उपस्थिति में रालोसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष कौशल कुमार सिंह ने अपने सैकड़ो साथियों के साथ जदयू की सदस्यता ग्रहण की. सदस्यता के दौरान कौशल कुमार सिंह ने बताया कि नशा, बाल-विवाह, दहेज-विवाह जैसे सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अभियान तथा सात निश्चय कार्यों के द्वारा पंचायत स्तर पर विकास से प्रभावित होकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संरक्षण में कार्य करने का संकल्प लेते हुए जनता दल यूनाइटेड पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. रालोसपा दिन व दिन दिशा विहिन हो बिखरती चली जा रही है. बताते चले कि समाजसेवी कौशल कुमार सिंह बांका जिले के धरैया थाना अंतर्गत गौरा गाँव के रहने वाले हैं. उनकी शिक्षा-दीक्षा गाँव व भागलपुर तथा जमशेदपुर शहर में हुई है. कौशल कुमार सिंह आज राज्य एवं जिले में युवा उद्यमी के रूप में अपनी पहचान बनाई है. युवाओं के बीच में वो आइकॉन हैं जिनका मानना है कि आज खेती किसानी घाटे का सौदा बन गई है और गाँवो से युवाओं का अन्य राज्यों की ओर पलायन तथा जाती की राजनीति को बढ़ावा दिया गया है. अब यह बहुत जरूरी हो गया है कि हम संकीर्ण मानसिक सोच से आगे बढ़े और कृषि संकट समाधान के प्रति एक समग्र सोच विकसित करें. इन्होंने बांका जिला क्षेत्रों में लगभग 10 वर्षो से लगातार सामाजिक सरोकार से जुड़े कार्य करते रहे हैं.

Read more

जदयू में शामिल हुए पीके, नीतीश ने दिलाई सदस्यता

जदयू ने चुनाव से पहले अपना बड़ा पासा फेंका है. पार्टी के पूर्व रणनीतिकार प्रशांत किशोर को जदयू में शामिल किया गया है. राज्य कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने उन्हें सदस्यता दिलाई. लोकसभा चुनाव से पूर्व जदयू राज्य कार्यकारिणी की महत्वपूर्ण बैठक 1, अणे मार्ग में सम्पन्न हुई. जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में हुई इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने की. जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी, राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) व राज्यसभा में दल के नेता आरसीपी सिंह, मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, पूर्व मंत्री  नरेन्द्र सिंह समेत सभी राष्ट्रीय पदाधिकारी, जदयू कोटे से मंत्रिमंडल के सभी सदस्य, विधानमंडल दल के सभी सदस्य, प्रदेश कार्यसमिति के सभी सदस्य तथा सभी जिलाध्यक्ष मौजूद रहे. जदयू ‘कास्ट बेस्ड’ नहीं, ‘काम बेस्ड’ पार्टी: नीतीश कुमार सभा को संबोधित करते हुए  नीतीश कुमार ने कहा कि जदयू ‘कास्ट बेस्ड’ नहीं, ‘काम बेस्ड’ पार्टी है. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि आपको अपनी ताकत का अहसास रहना चाहिए. चुनाव की चिन्ता हरगिज ना करें. उन्होंने पूरे विश्वास के साथ कहा कि हमलोगों की ताकत लोकसभा में तो बढ़ेगी ही, विधानसभा में भी भारी बहुमत से हम वापस आएंगे. नीतीश कुमार ने पंचायत स्तर तक संगठन को मजबूत करने के लिए पदाधिकारियों को कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए. उन्होंने बूथ लेवल एजेंट की नियुक्ति कर उन्हें प्रशिक्षित करने, प्रकोष्ठों के बीच समन्वय स्थापित करने तथा जिला स्तर पर राजनैतिक सम्मेलन करने पर जोर दिया. लोकसभा में ताकत बढ़ेगी और विधानसभा में भारी बहुमत से वापस

Read more

सीट बंटवारे पर बोले मुख्यमंत्री

2019 लोकसभा चुनाव में बिहार की 40 सीटों में से किसे कितनी सीट मिलेगी, इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार बयान दिया है. सीएम ने कहा कि सीट बंटवारे पर फैसला जल्द ही हो जाएगा. एनडीए के सभी घटक दल बीजेपी, जदयू, लोजपा और रालोसपा के मुख्य नेता एक साथ बैठेंगे और इस मसले को हल करेंगे. उन्होंने कहा कि सीटों को लेकर आमने-सामने बात होगी. अमित शाह से मुलाकात के बाद लोक संवाद में सीएम ने बीजेपी अध्यक्ष से मुलाकात पर  कहा कि उनसे कई मुद्दों पर बात हुई है. लेकिन बंद कमरे में जो बातें हुईं उसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता. उन्होंने ये भी कहा कि जितनी बातें मीडिया में आ रही थीं, उनपर तो अमित शाह ने बोल ही दिया. सीएम नीतीश के मुताबिक, एक महीने में सीट बंटवारे को लेकर बातचीत संभावित है. बीजेपी के प्रस्ताव पर जदयू और अन्य घटक दल मिलकर बात करेंगे.

Read more

चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाएगा शरद गुट

जनता दल यूनाइटेड (JDU) के संस्थापक रहे शरद यादव अब कोर्ट की शरण में जाएंगे. शरद यादव गुट ने जेडीयू के चुनाव चिन्ह तीर पर अपना दावा जताते हुए चुनाव आयोग में अपील की थी. लेकिन चुनाव आयोग ने नीतीश कुमार के जदयू के पक्ष में फैसला दिया था. शरद यादव पक्ष के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि उन्हें चुनाव आयोग के फैसले पर एतराज है. इसलिए अब वे इसके खिलाफ दिल्ली हाइकोर्ट में अपील करेंगे. शुक्रवार को चुनाव आयोग ने नीतीश खेमे के पक्ष में अपना फैसला सुनाया था जिसके बाद नीतीश कुमार गुट ने खुशी जाहिर करते हुए कहा था कि ये सच्चाई की जीत है. इस मामले पर नीतीश कुमार ने कहा कि जो भी हो, लेकिन इसपर पार्टी को प्रचार खूब मिला. बता दें कि जदयू पार्टी पर अपना कब्जा जमाए रखने की कवायद में नीतीश और शरद यादव गुट लगे हैं. नीतीश कुमार के साथ एक ओर विधायकों और सांसदों से लेकर पार्टी की पूरी फोज है वहीं शरद यादव के पास गिने-चुने लोग ही हैं. इसके साथ ही अब शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता भी खतरे में है.

Read more

अब CM के साथ सेल्फी लेना नहीं होगा आसान

सेल्फी पर मचे बवाल के बाद सीएम नीतीश कुमार ने आज एक कार्यक्रम में सफाई दी. बता दें कि जदयू के एक नेता राकेश सिंह ने 2 दिन पहले सीएम हाउस में नीतीश कुमार के साथ एक सेल्फी ली थी. उस सेल्फी के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही बवाल मच गया. क्यों मचा बवाल, जानने के लिए यहां क्लिक करें- https://goo.gl/5yB8rT बवाल के बाद आज आखिरकार मुख्यमंत्री ने एक कार्यक्रम के दौरान मंच से अपने संबोधन में इसका जिक्र करते हुए कहा– CLICK HERE- जानकार सूत्रों के मुताबिक इस घटना के बाद अब सीएम शायद ही किसी अनजान चेहरे के साथ सेल्फी लेंगे. क्योंकि इस सेल्फी ने सरकार के साथ सीएम नीतीश और जदयू की भी अच्छी खासी किरकिरी कर दी है.   पूरी खबर जानने के लिए क्लिक करें- https://goo.gl/5yB8rT

Read more

सत्र से पहले महागठबंधन की बैठक से परहेज क्यों!

28 जुलाई से बिहार विधनमंडल का मॉ़नसून सत्र शुरू हो रहा है. बिहार के इतिहास में इस बार ये सत्र ऐतिहासिक होने जा रहा है जब सरकार के भविष्य पर अनिश्चितता छाई हुई है. ना तो सीएम और ना ही डि्टी सीएम सदन में एक साथ बैठने की स्थिति में हैं क्योंकि दोनो के बीच तल्खी की बातें सार्वजनिक हैं. यही नहीं, सत्र से पहले राजद और जदयू अपने-अपने विधायक दल की बैठक बुधवार को कर रहे हैं लेकिन महागठबंधनव की संयुक्त बैठक की कोई चर्चा नहीं है. इसका सीधा फायदा विपक्षी दल बीजेपी को मिलता दिख रहा है. बीजेपी ने पहले ही तेजस्वी के इस्तीफे को लेकर मॉनसून सत्र नहीं चलने देने की चेतावनी दी है. अब अगर सत्र के दौरान बीजेपी तेजस्वी के इस्तीफे की मांग करती है या फिर इसपर चर्चा की मांग करती है तो क्या सरकार की तरफ से जदयू या नीतीश कोई जवाब देने की हालत में होंगे.  इन सब को देखते हुए बुधवार से लेकर आने वाले कुछ दिन बिहार की राजनीति में अहम होने वाले हैं. बता दें कि बुधवार 26 जुलाई को राजद और जदयू, दोनों ही दलों ने अपने-अपने विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है. दोपहर 12.30 बजे से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर राजद विधानमंडल दल की बैठक आयोजित है तो सीएम नीतीश कुमार के आवास पर शाम 5.30 बजे से जदयू विधानमंडल दल की बैठक होगी. जदयू ने पहले यह बैठक 27 जुलाई को निर्धारित किया था. राजद ने बैठक में अपने सभी विधायकों व विधान

Read more

अब सरकार बचाने की जुगत में नीतीश

राष्ट्रपति चुनाव के बहाने सीएम नीतीश को अच्छा वक्त मिल गया है मामले को लंबा खींचने का. सूत्रों के मुताबिक, लालू के ताजा स्टैंड से नीतीश असहज हो गए हैं. अब वे कोई ना कोई जरिया ढूंढ रहे हैं जिससे ये मामला भी खत्म हो जाए और सरकार गिरने की नौबत भी ना आए. इन सबके बीच, राष्ट्रपति चुनाव के लिए दो गुटों में बंटे महागठबंधन के घटक दलों ने रविवार को पटना में अपने- अपने विधायक दल की बैठक बुलाई. जाहिर तौर पर विधायक दल की बैठक का मुद्दा राष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग ही था. राजद-कांग्रेस ने जहां विधायक दल की संयुक्त बैठक एक निजी होटल में की, वहीं जदयू ने एक अणे मार्ग में अपने विधायकों की बैठक की. इधर NDA विधायक दल की बैठक सुशील मोदी के आवास पर हुई. राजद-कांग्रेस की बैठक में लालू ने अपने विधायकों को कड़े लहजे में चेतावनी देते हुए कहा कि जिसका वोट गड़बड़ हुआ उसका पत्ता अगली बार विधायकी से साफ हो जाएगा. बता दें कि राजद और कांग्रेस मीरा कुमार को सपोर्ट कर रहे हैं जबकि जदयू ने NDA प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को समर्थन दिया है. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बुलाई गई इस बैठक में तेजस्वी के मामले पर भी चर्चा हुई. राजद विधायकों ने एक स्वर में दोहराया कि डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे, चाहे परिणाम जो हो. इधर जदयू की बैठक में इस मामले पर पार्टी विधायकों की एक राय थी. जदयू विधायकों ने कहा कि तेजस्वी को इस्तीफा दे देना चाहिए. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की

Read more

खूब काम आ रही जदयू की प्रेशर पॉलिटिक्स

प्रेशर पॉलिटिक्स के सहारे खींच रही महागठबंधन की सरकार आए दिन देते हैं एक-दूसरे के खिलाफ बयान बीजेपी के बूते राजद पर दबाव बना रहा जदयू रघुवंश प्रसाद सिंह और भाई वीरेन्द्र के तीखे बयानों ने पहले से ही मुसीबत में पड़े महागठबंधन की सरकार की रही-सही कसर भी पूरी कर दी है. मुख्यमंत्री को निशाने पर रखने वाले राजद के बयानों पर जदयू ने इस बार कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है. जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने राजद नेता रघुवंश सिंह और विधायक भाई वीरेन्द्र के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. भाई वीरेन्द्र (File pic)                                                    संजय सिंह (File pic) जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के सी त्यागी ने कहा कि जदयू महागठबंधन की मां है, दाई नहीं. K C त्यागी ने कहा कि 5 साल के लिए गठबंधन हुआ था. पांच साल पूरे होने में काफी वक़्त बचा हुआ है, जो गठबंधन को तोड़ने का काम करेगा जनता उनको जवाब देगी. लालू से उम्मीद नहीं की वे रघुवंश और भाई वीरेंद्र पर कोई कड़ी कारवाई करेंगे. ऐसी गतिविधियों से गठबंधन की उम्र कम होगी. के सी त्यागी के बयान पर पलटवार करते हुए राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि जदयूू नहीं, बिहार की आवाम है महागठबंधन की मां. मनोज झा ने नरम रूख अपनाते हुए कहा कि राजद और जदयू दोनों पार्टी के नेताओं को बयानबाजी से बचना चाहिए और जदयू नेता इस

Read more