12 जनपथ से बेदखल या नए राजनीतिक संग्राम की तैयारी !

नई दिल्ली,1 अप्रैल. राजनीति भी अजीब होती है. सत्ता में रहते वक्त रसूख ऐसा कि परिंदे भी पांव न मार पाएं. लेकिन सत्ता से बेदखल होने के बाद परिंदे भी पहचानने से इंकार कर दें. दूर तो दूर अपने भी अपने होने से इंकार दें. राजनीति के शतरंज को अपनी चाल से मात देने वाले स्व. रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के साथ ऐसा ही हुआ . देश की राजधानी दिल्ली में सत्ता में अपने दमखम के साथ काबिज 12 जनपथ से चिराग पासवान को इस तरह बेदखल किया गया कि किसी ने सोचा भी नही होगा. अभी कुछ ही दिन पूर्व हुए बिहार विधानसभा में अपनी धमक से जेडीयू का समीकरण बिगाड़ने वाले चिराग का चिराग इस तरह बुझ जाएगा किसी ने सोचा नहीं था. चिराग को 12 जनपथ से बेदखल करने की राजनीति पर लगभग 3 दशक से देश की राजनीति को देखने वाले वरिष्ठ पत्रकार रवि शेखर प्रकाश की रिपोर्ट – 12 जनपथ से चिराग पासवान के समान को उठाकर सड़क पर फेक उन्हे बंगले से बेदखल कर दिया गया. बिखरे समान देखकर रोने लगे पासवान. राम विलास पासवान कभी सियासत का किंग मेकर हुआ करते थे. राम विलास पासवान के मृत्यु के बाद वक्त बदला ,सियासत ने रंग बदले. राजनीति के मायने ही बदल गये. इनका पुरा कुन्बा बिखर गया. तारे ज़मीं पर. देश में उप राष्ट्रपति का चुनाव होने को है. हो सकता है नीतीश कुमार नोमिनेट हो. नीतीश के बाद जेडीयू का क्या हक्ष्र होगा, इसपर मंथन जारी है. जून तक बिहार मंतत्रिमंडल

Read more

केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

बिहार की राजनीति में पिछले तीन दशक से काबिज केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का गुरुवार की शाम निधन हो गया. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे और अस्पताल में भर्ती थे. 74 साल की रामविलास पासवान राजनीति के मौसम विज्ञानिक के तौर पर विख्यात थे. बिहार की सियासत में लालू यादव और नीतीश कुमार के साथ रामविलास पासवान की तिकड़ी काफी मशहूर रही. रामविलास पासवान के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि ‘देश ने अपना नेता खोया है पर मैंने अपना बड़ा भाई खो दिया. मेरे लिए यह पीड़ा असहनीय. उनकी कमी मेरे जीवन में हमेशा खलेगी’ बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह ने भी रामविलास पासवान के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. pncb

Read more