50 लोगों ने किया रक्तदान, बने युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत

विहंगम योग संस्थान ने किया रक्तदान शिविर का आयोजन आरा, 29 अक्टूबर. रक्तदान महादान है लेकिन अभी भी रक्तदान को लेकर फैली भ्रंतियों की वजह से लोग रक्तदान के लिए आगे नही आते हैं जिससे समय पर रक्त नही मिल पाने की स्थिति में मरीजों की मौत हो जाती है. ऐसी परिस्थिति में भी बहुत से ऐसे लोग हैं जो रक्त के लिए बस मौका तलाशते हैं और अपने जन्मदिन, या अपने प्रियजनों के जन्मदिन के मौके पर रक्दान कर किसी के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा रखते हैं. ऐसे ही जज्बा वाले लोगों ने अपने प्रिय गुरुके जन्मदिन पर रक्तदान कर शुक्रवार को मिसाल पेश किया जिससे न सिर्फ ब्लड-बैंक में रक्त की उपलब्धता बढ़ी बल्कि सैकड़ो युवाओं के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत भी. ब्रह्म विद्या विहंगम योग के तत्वावधान में शुक्रवार को रक्तदान शिविर का आयोजन रेडक्रॉस में संपन्न हुआ जहाँ 50 यूनिट रक्तदान रक्तदाताओं ने दिया. उक्त रक्दान शिविर सदगुरु पद उतराधिकारी संत प्रवर विज्ञान देव जी महाराज के जन्म दिवस के अवसर पर आयोजित किया गया! रक्तदान को महादान मानने वाले संत समाज के गुरु भाई-बहनों ने हर्षोल्लास के साथ भाग इस शिविर में भाग लिया और रक्तदान किया. ब्रह्म विद्या विहंगम योग केवल आध्यात्मिक संस्था ही नहीं बल्कि एक सामाजिक संस्था भी हैं! इस संस्था के द्बारा समय-समय पर अनेकानेक समाजिक कार्य किए जाते हैं. इस अवसर पर उप विकास आयुक्त भोजपुर हरि नारायण पासवान,रेडक्रॉस के चेयरमैन डॉ बी० एन० यादव, वाइस चेयरमैन डॉ राजेश सिंह, उप संरक्षक लालदास राय,डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा, ने

Read more

मुश्किल वक्त में निभाएं अपनी जिम्मेदारी, इस दिन रक्तदान के लिए आइए IAS भवन

थैलेसीमिया प्रभावित बच्चों के सहायतार्थ 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर IAS भवन में मेगा रक्तदान शिविर का आयोजन पटना,13 जून. 14 जून 2021 को ‘विश्व रक्तदाता दिवस’ के अवसर पर ‘पी.एम.सी.एच पटना, में थैलीसीमिया से पीड़ित नन्हें बच्चों के लिए निर्मित ‘डे केयर सेंटर’ हेतु, IAS. भवन, निकट एयरपोर्ट प्रवेश द्वार, पटना में प्रातः 10 बजे रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है. बताते चलें कि बिहार सरकार द्वारा थैलीसीमिया से पीड़ित बच्चों के उपचार एवं देखभाल के लिए 14 जून 2020 को राज्य के पहले ‘थैलीसीमिया डे केयर सेंटर’ की शुरुआत की गई थी. इस दिशा में राज्य सरकार द्वारा कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं, अब तक राज्यभर में 1700 थैलीसीमिया पीड़ित नन्हें बच्चों को ब्लड ट्रांसफ्यूज़ किया गया है. उन्हें उपचार हेतु नि:शुल्क दवाएँ भी उपलब्ध करायी जा रही हैं. वर्ष 2021 में 3 नन्हें बच्चों का सफल ऑपरेशन भी किया गया, इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निजी कोष (मुख्यमंत्री राहत कोष) से थैलीसीमिया से पीड़ित इन बच्चों के बोन मैरो ट्रांसप्लांट के लिए 3 लाख से 6 लाख तक की राशि का भुगतान सीधे अस्पतालों के खाते में दी गयी है. 11 जून 2021 तक राज्य भर में 330 बच्चों का रजिस्ट्रेशन किया जा चुका है, तथा इसका सघन अभियान चलाया जा रहा है. गत वर्ष से सभी पीड़ित बच्चों को उनके लिए जरूरी आयरन कम करने की दवा इस ‘डे केअर’ के माध्यम से निःशुल्क प्रदान की जा रही हैं. वन विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह ने बताया

Read more