बिहार में मैट्रिक पास भी बन सकेंगे स्वास्थ्य अनुदेशक

 8386 पदों पर होनी है बिहार में भर्ती शारीरिक शिक्षा में सर्टिफिकेट-डिप्लोमा-डिग्री की योग्यता जरूरी बिहार में शिक्षक नियोजन नियमावली 2012 के प्रावधान के अनुरूप अहर्ता रखने वाले अभ्यर्थी मध्य विद्यालयों में शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक के रूप में नियुक्त होंगे. इस नियमावली में साफ किया गया है कि भारत की नागरिकता, मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण और किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से शारीरिक शिक्षा में सर्टिफिकेट-डिप्लोमा-डिग्री की योग्यता निर्धारित अहर्ता है. इसी आधार पर पात्रता परीक्षा 2019 ली गई थी. यही योग्यता वर्तमान में चल रही नियुक्ति प्रक्रिया में लागू होगी. इसको लेकर शिक्षा विभाग के प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने आदेश जारी कर दिया है. यानी मैट्रिक उत्तीर्ण भी स्वास्थ्य अनुदेशक बन सकेंगे.  आदेश में यह भी स्पष्ट किया है कि कई जिलों द्वारा इस संबंध में मार्गदर्शन की मांग की जा रही थी. इसी को देखते हुए जिलों को यह आदेश जारी किया जा रहा है. मालूम हो कि शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक के 8386 पद हैं, जबकि वर्ष 2019 की पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की संख्या 3523 है. नियोजन नियमावली 2020 में यह प्रावधान किया गया है कि शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक की नियुक्ति के लिए आवश्यक अहर्ता इंटर परीक्षा में 50 प्रतिशत के साथ राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त किसी भी संस्थान से शारीरिक शिक्षा में कम-से-कम दो वर्ष का प्रमाणपत्र-डिप्लोमा होना निर्धारित है. पर, 30 मार्च, 2022 द्वारा निर्धारित नियोजन में 2012 नियमावली और पात्रता परीक्षा 2019 में निर्धारित अहर्ता ही मान्य होगी, न कि 2020 की नियमावली. PNCDESK

Read more

15 सितंबर तक बिहार के इस विभाग में होंगी 30 हजार नियुक्तियां

पटना, 01 जून।। बिहार में बड़े पैमाने पर बहाली की प्रक्रिया शुरू हो गई है. करीब तीस हजार पदों पर बहाली की ये प्रक्रिया 15 सितंबर तक पूरी कर लेने का लक्ष्य रखा गया है. दरअसल बिहार में कोरोना महामारी ने स्वास्थ्य विभाग की तमाम खामियों को उजागर कर दिया है. कोविड की दूसरी लहर ने राज्य में जिस तरह की तबाही मचाई है, उसे देखते हुए बिहार सरकार ने संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है. इसी के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के खाली पड़े करीब तीस हजार डॉक्टर, नर्स और पारा मेडिकल स्टाफ के पदों पर बहाली हो रही है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कोरोना के संभावित आने वाले तीसरे फेज से लड़ने के लिए विभाग के अपर मुख्य सचिव सहित उच्चाधिकारियों के साथ बैठक कर विस्तृत कार्ययोजना बनायी है. मंगल पांडेय ने बताया विभाग के द्वारा विभिन्न स्तरों पर सघन समीक्षा करते हुए भविष्य के लिए तैयारी की जा रही है। वर्ष 2021-22 में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कुल लगभग 30 हजार नियुक्तियां विभिन्न पदों पर की जाएंगीं. मंगल पांडेय ने बताया कि व्यवस्थाओं को और बेहतर करने के लिए मानव बल की आवश्यकता है. इस क्रम में 6338 विशेषज्ञ एवं सामान्य चिकित्सक, 3270 आयुष चिकित्सक, जीएनएम (एनएचएम)- 4671 एवं एएनएम (एनएचएम)- 9233 की नियुक्ति 15 सितंबर 2021 तक कर लेने का निर्देश दिया गया है. इसके साथ ही अन्य विभिन्न पदों पर लगभग 7 हजार नियुक्ति की प्रक्रिया को बिहार तकनीकी सेवा आयोग के माध्यम से पूरा करने का निर्देश दिया गया

Read more