भोजपुरी में फूहड़ता के खिलाफ हाईकोर्ट का आदेश | मामले को DM और SSP के समक्ष रखें

पटना, 27 अगस्त (ओपी पांडेय) | भोजपुरी में फैले अश्लीलता से तंग लोगो द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर पटना हाई कोर्ट ने सुनवाई की. यह याचिका अविनाश कुमार द्वारा दायर की गयी थी. लगातार भोजपुरी गानो में उसके गिरते स्तर से इस भाषा की मर्यादा तार-तार हुआ है. दायर जनहित याचिका पर पटना हाई कोर्ट ने आज सुनवाई की. जस्टिस एस पांडेय की खंडपीठ ने याचिका पर सुनवाई करते हुए मामलें को पटना के डीएम और एसएसपी के समक्ष रखने का निर्देश दिया है. न्यायालय को बताया गया कि भोजपुरी बहुत पुरानी और प्रतिष्ठित भाषा हैं, जिसे न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में भी बोला जाता हैं.बताते चलें कि अश्लीलता के खिलाफ आवाज उठाने में अम्बा, पुरुआ, आखर, बेजोड़ जैसी कई संस्थाएं हैं जो लगातार इन फूहड़ता फैलाने वालों के खिलाफ लगातार जागरूकता फैलाने के साथ ऐसे फूहड़ लोगों का सामाजिक बहिष्कार भी किया है. पटना नाउ ने भोजपुरी से अश्लीलता के खिलाफ इस अभियान को हमेशा प्रमुखता से छापा है. अश्लील कलाकारों की खबर पटना नाउ ने कभी नहीं छापा है. जहां एक ओर ऐसे भोजपुरी के लिए अच्छे करने वाले लोग हैं वही हाल के दिनों में भोजपुरी में बन रहे गानों स्तर लगातार गिरा हैं जिससे इस भाषा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. अगर समाजिक कार्यकताओं की माने तो यह गिरावट सरकार की अनदेखी से आई है. कोर्ट ने तो पहले भी ऐसे फूहड़ लोगों पर कड़े कार्रवाई करने का निर्देश जारी किया है लेकिन प्रशासनिक स्तर पर कोई कार्रवाई नही हुई है जिससे फूहड़ता

Read more

कल्‍लू ने बनाया भोजपुरी किसिंग का रिकॉर्ड

फिल्‍म ‘रब्‍बा इश्‍क ना होवे’ में किया 304 बार किस भारतीय सिनेमा में अब तक सिरियल किसर के नाम से इमरान हाशमी की बात होती थी, मगर उनका रिकॉर्ड अब टूटता नजर आ रहा है। किसिंग के मामले में भोजपुरी सिनेमा के सुपर स्‍टार अरविंद अकेला कल्‍लू उनसे काफी आगे निकल चुके हैं . कल्‍लू ने अपनी आज प्रदर्शित हुई फिल्‍म ‘रब्‍बा इश्‍क ना होवे’ में फिल्‍म की अभिनेत्री ऋ‍तु सिंह को 304 बार किस किया है, जो किसी भी फिल्‍म इंडस्‍ट्री के अंदर इतने किसिंग सीन पहली बार हुये हैं. बता दें कि इस फिल्‍म में कल्‍लू कई अवतार में नजर आ रहे हैं. हालांकि शुरूआत में वे एक ब्रह्मचारी युवक की भूमिका में हैं, जो महिलाओं से दूर भागता है. मगर ऋ‍तु सिंह की इंट्री के बाद उन्‍हें प्‍यार में यकीन हो जाता है और शायद यही वजह है कि वे खुद पर काबू नहीं रख पाते हैं और किसिंग का रिकॉर्ड बना दिया. वहीं, फिल्‍म को भी जबरदस्‍त ओपनिंग मिली है और फिल्‍म सुपर हिट है.    वहीं, समीक्षकों का मानना है कि भोजपुरी सिनेमा में अब तक किसी फिल्‍म में इतने किसेज देखने को नहीं मिले थे. कल्‍लू और ऋतु के बीच फिल्‍माये गए इन किसिंग सिक्‍वेंस में सबसे खास बात ये है कि ये कहीं से वलगर नहीं लग रहे हैं. सारे सीन सेंशेनल दिखाई दे रहे हैं. इससे साफ पता चलता है कि भोजपुरी सिनेमा के मेकिंग में परिपक्‍वता आई है. वहीं, दर्शकों को भी दोनों की केमेस्‍ट्री खूब पसंद आ रही है और लोगों के बीच कल्‍लू और ऋतु के बीच फिल्‍माये गए

Read more

दीपावली पर मिलेगी भोजपुरी को सरकार की सौगात !

‘काँटो की राह’ में खड़ी ‘भोजपुरी’ कब शुरू होगी भोजपुरी की पढ़ाई? छठ के बाद मिलेगी खुशखबरी! राजभवन द्वारा VKSU में भोजपुरी की पढ़ाई पर लगे विराम के बाद एक बार फिर राजभवन द्वारा भोजपुरी भाषा की पढ़ाई को पुनः चालू करने के लिए सुगबुगाहट ने फिर से एक भोजपुरी के लिए जैसे रोशनी जगा दी है. दीपावली और छठ पर्व के बाद हो सकता है कि उपहार स्वरूप इस संदर्भ में राजभवन से कोई आदेश आ जाये. इस कार्य मे VC ने अपनी विशेष सक्रियता दिखाई और इस संदर्भ में उन्होंने राज्यपाल से लेकर मुलाकात भी किया. राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात कर आये VKSU के VC सैय्यद मुमताजुद्दीन काफी उत्साहित हैं. उन्होंने पटना नाउ से बातचीत करते हुए जिस अंदाज में और जोश के साथ राजभवन के सकरात्मक बात की चर्चा की उससे यही उम्मीद जताई जा रही है कि भोजपुर वासियो को जल्द ही नए राज्यपाल द्वारा दीपावली के उपहार के रूप में भोजपुरी की पढ़ाई को फिर से चालू करने रूपी आदेश को दिया जा सकता है. VC ने बताया कि राज्यपाल से मुलाकात के बाद घंटो इस बात पर चर्चा हुई और उसके बाद राज्यपाल द्वारा बुलायी गयी बैठक में उन्होंने भाग भी लिया. VC के अनुसार राज्यपाल का रूख भोजपुरी को लेकर बड़ा ही सक्रिय है. उम्मीद है कि दिपावली और छठ की छुटियों के बाद राजभवन से खुशखबरी भोजपुरिया जनमानस को मिल सकती है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि जबतक राजभवन से इस संदर्भ को लेकर चिठ्ठी नही आती तबतक कुछ भी

Read more

“भोजपुरी की पढ़ाई चालू करने के होगा हर सम्भव प्रयास”

पूर्व केन्द्रीय मंत्री अखिलेश सिंह पहुंचे आरा संघम शरणम गच्छामि हो गए हैं सुशासन बाबू 2019 के चुनाव की सरगर्मियां अभी से ही दिखने लगी हैं. सभी पार्टियों ने अपने अपने एजेंडे और प्लान के साथ लोगों के बीच अपनी पहुंच बनाना तेज कर दी हैं. रालोसपा के बाद कांग्रेस के पूर्व केन्द्रीय मंत्री का आगमन आरा हुआ. जिनके सम्पर्क का बहाना बिहार के पहले मुख्यमंत्री और स्वन्त्रता सेनानी स्व. डॉ कृष्ण सिंह हैं. 17 सालों से त्योहार की तरह प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी व बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ श्रीकृष्ण सिंह की जयंती को धूमधाम से मनाने वाली कांग्रेस पार्टी की प्रदेश कमिटी इस बार इस जयंती को मनाने के लिए पूरी मुस्तैदी से मुस्तैद है. इस जयंती पर पूरे प्रदेश को आमंत्रित करने आये पूर्व केन्द्रीय मंत्री अखिलेश सिंह का जिले में जोरदार स्वागत हुआ. अपने प्रिय नेता के आगमन पर कोईलवर से ही यूथ कांग्रेस, NSUI और जिला कांग्रेस कमिटी के सदस्यों ने जगह-जगह मोटरसाइकिल और अन्य वाहनों के साथ उन्हें रोककर माल्यार्पण किया और गर्मजोशी के साथ नारे लगाए. NSUI ने अपने संगठन का एक प्रतीक रूपी पट्टा पूर्व मंत्री को सम्मानपूर्वक पहना उनसे सर्किट हाउस तक उसे पहने रहने का आग्रह किया. अपने जोरदार स्वागत से अभिभूत और प्रभावित अखिलेश सिंह ने वह प्रतीक पट्टा सर्किट हाउस पहुंचने के बाद NSUI के छात्र नेताओं से ही खुलवा सम्मानित स्नेह अर्पित किया. देश को 27% चीनी देने वाले मिलों से अब धुंआ आना बंद है आरा पहुँचे पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा

Read more

9 माह बाद भी नहीं शुरू हो सकी भोजपुरी की पढ़ाई

भोजपुरी के लिए महाजुटान और महाचिन्तन भोजपुरी के लिए महाधरना में एक हुए लोग अलग पार्टियों में होने के बाद भी बैठे एक मंच पर अबतक दिल्ली में कई बार जंतर-मंतर पर भोजपुरी को 8वीं अनुसूची में शामिल करने के लिए आवाज उठाने वाली संस्था ‘भोजपुरी जन-जागरण अभियान’ ने अब प्रदेश में भी अपना विस्तार किया है. इसका उदाहरण गुरुवार को भोजपुरी के लिए महाधरना के रूप में आरा में देखने को मिला. जिला समाहरणालय के समक्ष लगभग सैकड़ों लोगों की जमात भोजपुरी के लिए उठी. लोगों की भीड़ की वजॆह से यातायात को सुचारू करने में यातयात पुलिस के पसीने छूटते रहे. भोजपुरी में फैले अश्लीलता को दूर करने, भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने और भोजपुरी की पढ़ाई सभी महाविद्यालयों में चालू करने की मांगों के साथ भोजजअ के प्रदेश अध्यक्ष कुमुद पटेल की अगुआई में यह महाधरना आयोजित किया गया. कई पार्टियों के लोग आये एक मंच पर भोजपुरी बचाओ अभियान के पिछले साल 5 सितंबर के भोजपुर बंदी के दौरान जिस तरह सभी दलों के लोगों ने एक साथ आकर भोजपुरी के लिए आवाज उठाई थी, ठीक उसी तरह इस महाधरना में भी भोजपुरिया लोगों ने दलगत भावना से परे होकर इसे समर्थन दिया और इस महाधरना में शामिल हुए. शामिल हुए लोगों में सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता हाजी नूर मदनी, सिने अभिनेता सत्यकाम आंनद, कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता गुंजन पटेल, श्रीधर तिवारी, विनोद सिंह, ब्रह्मांड पार्टी के जितेंद्र कुमार (अधिवक्ता), जद यू के जमीनी और कदावर नेता भाई ब्रह्मेश्वर सिंह और नंदकिशोर यादव,मृत्युंजय भारद्वाज,अम्बा के राकेश

Read more

भोजपुरी जनजागरण अभियान

भोजपुरी जन-जागरण अभियान ने भोजपुरी की पढ़ाई शुरू करने, अश्लीलता पर रोक और 8वीं भाषा में इसे शामिल करने के लिए आरा में महाधरना का आयोजन किया. इस अवसर पर धरने में जुटे भोजपुरियन ने भोजपुरी की पढ़ाई को मान्यता देने और इसे संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल करने की मांग की. लोग की भारी भीड़ की वजह से धरने की जगह पर यातायात प्रभावित हो गया. बता दें कि भोजपुरी जनअभियान को लोगों का जबरदस्त समर्थन मिल रहा है. सुप्रीम कोर्ट के वकील हाजी मदनी और बॉलीवुड सिने अभिनेता सत्यकाम आनन्द भी इसमें शामिल हुए. जद यू के जमीनी नेता भाई ब्रह्मेश्वर, नन्द किशोर यादव के साथ कांग्रेस के श्रीधर तिवारी भी धरने में शामिल हुए.   आरा से ओपी पांडे

Read more