ये ऐतिहासिक रेल ब्रिज क्यों हो गया बंद!

आज दिनांक 10 मई, 2020 से पुराना किऊल ब्रिज बंद हो गया है तथा इसके बदले नया किऊल ब्रिज को रेल परिचालन के लिए चालू कर दिया गया   है . दिनांक 08 मई को नया किऊल ब्रिज पर ट्रायल रन किया गया था जो पूरी तरह सफल रहा . अब ट्रेनों के परिचालन के लिए पूरी तरह फिट पाते हुए नए किऊल ब्रिज पर आज दिनांक 10 मई, 2020 से आधिकारिक रूप से ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया है . इस पुल से किऊल-लखीसराय के बीच अप एवं डाउन दिशा में प्रतिदिन 150 यात्री ट्रेनें तथा मालगाड़ियों का परिचालन किया जाता है . हालांकि 17 मई तक सभी प्रकार की रेल सेवाएं स्थगित हैं, परंतु वर्तमान में इस रेलमार्ग पर चलने वाली मालगाड़ियां और कुछ श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन नए किऊल रेल पुल से किया जाएगा . 17 मई के बाद जब भी ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ होगा तो सभी ट्रेनों की आवाजाही नए रेल पुल से ही होगी . अब नए किऊल ब्रिज से ट्रेनों का संरक्षित परिचालन हो सकेगा . साथ ही ट्रेनों की अधिकतम गतिसीमा में वृद्धि का मार्ग प्रशस्त हो गया है . अब इस पुल से ट्रेनों का परिचालन अधिकतम 110 किलोमीटर प्रतिघंटा तक की गति से किया जा सकेगा . आज दिनांक 10.05.2020 को किउल-लखीसराय ब्रिज होकर स्टाफ स्पेशल गुजरी . इस प्रकार इस ऐतिहासिक पुल से गुजरने वाली यह अंतिम रेल सेवा  बनी . 100 वर्षों से भी अधिक अवधि के दौरान इस पुल से अनगिनत यात्री ट्रेनों और मालगाड़ियों के

Read more

पटना नाउ न्यूज इम्पैक्ट : बदला गया फटा तिरंगा

24 घण्टे के अंदर आरा रेलवे परिसर में बदल गया फटा हुआ तिरंगा आरा, 29 अप्रैल. फ़टे तिरंगे को लेकर पटना नाउ द्वारा प्रकाशित खबर ‘आरा में रेलवे कर रहा है तिरंगे का अपमान’ का जबरदस्त असर हुआ है. रेलवे इस खबर के बाद एक्शन मोड में है. त्वरित कार्रवाई करते हुए 24 घण्टे के अंदर रेलवे ने आरा जंक्शन परिसर में 100 फीट की ऊंचाई पर लहरा रहे फ़टे तिरंगे को बदल दिया है. फ़टे तिरंगे को सम्मान के साथ निस्तारित कर उसकी जगह नये तिरंगे को लगा दिया गया है. बताते चलें कि इस लॉक डाउन में जहाँ सभी वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं. फोन पर खबरों की सूचना और वाट्सअप पर आयी सूचनाओं के आधार पर पत्रकारिता हो रही है वैसे में पटना नाउ के पत्रकार जगह-जगह घूम कर ग्राउंड रिपोर्ट दे रहे हैं और देखते हैं कि कहाँ आपके लिए खबर है? कहाँ राष्ट्र के स्वभिमान से जुड़ी खबर है? इसके पूर्व भी राष्ट्रीय सम्मान व स्वाभिमान से जुड़े मुद्दे को पटना नाउ ने हमेशा उठाया है. लॉक डाउन की वजह से वीरान पड़े रेलवे परिसर में लहराते 100 फीट ऊँचे तिरंगे पर किसी का ध्यान नही गया था. रेलवे ने राष्ट्रीय ध्वज के सम्मान के लिए ध्यान आकृष्ट करने के लिए पटना नाउ को धन्यवाद भी कहा. अगर आपको भी राष्ट्रहित से जुड़ा कोई खबर दिखे तो देर न करें हमें जरूर बताएँ. आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट

Read more

यहां तैयार भी हो गए 2600 से ज्यादा PPE किट

अगले माह के अंत तक 30 हजार पीपीई किट तैयार करने का लक्ष्य कोविड-19 जैसी खतरनाक महामारी को देखते हुए पूर्व मध्य रेल द्वारा एक कार्ययोजना के तहत् कार्यों का निष्पादन किया जा रहा है . इसी क्रम में रेलवे चिकित्सक और चिकित्साकर्मियों द्वारा इस वायरस से संक्रमित अथवा संदिग्ध मरीजों का इलाज भयमुक्त होकर किया जा सके, इसके लिए पीपीई किट तैयार किए जा रहे हैं . पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि 21 अप्रैल को एक दिन में 280 पीपीई किट तैयार किए  गए . जबकि अब तक कुल 2040 पीपीई किट तैयार किया जा चुका है . पूर्व मध्य रेल द्वारा दिनांक 31 मई, 2020 तक कुल 30 हजार पीपीई किट तैयार कर लिया जाएगा जिसकी दिशा में रेलकर्मी दिन-रात लगे हैं . इससे अग्रिम पंक्ति के चिकित्साकर्मियों के लिए आवश्यक पोशाक के उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा तथा चिकित्साकर्मी भयमुक्त होकर कोविड-19 के मरीजों का इलाज कर  पाएंगे. बता दें कि भारतीय रेल के सभी 26 क्षेत्रीय रेलों तथा उत्पादन इकाइयों द्वारा पीपीई किट तैयार किया जा रहा है . इनमें सर्वाधिक पीपीई किट तैयार करने के मामले में उत्तर रेलवे के बाद पूर्व मध्य रेल दूसरे स्थान पर है . सीपीआरओ ने बताया कि कोरोना वायरस चूंकि संक्रामक बीमारी है, इसलिए इससे बचने के लिए लोग मास्क पहन रहे है, बार-बार साबुन से हाथ धो रहे हैं, एक-दूसरे से दूरी बनाए रखे हुए हैं . लेकिन कोरोना मरीजों के इलाज में लगे डॉक्टर, नर्स, पैरा मेडिकल स्टाफ आदि को सिर

Read more

‘अगले साल मार्च तक सभी ट्रेनों में होंगे बायो ट्वायलेट’

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा है कि पूर्व मध्य रेल में चलने वाली सभी ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की तैयारी चल रही है. जल्द ही झाझा-मुगलसराय सेक्शन पर राजधानी एक्सप्रेस की स्पीड बढ़ाई जाएगी. वहीं बुलेट ट्रेन के बारे में उन्होंने कहा कि वर्ष 2023 में देश की पहली बुलेट ट्रेन अहमदाबाद और मुंबई के बीच शुरू हो जाएगी. शुक्रवार को पटना में पत्रकारों से बातचीत में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने कहा कि बिहार में मुगलसराय-झाझा रूट पर पैसेंजर ट्रेनों की स्पीड 100 से बढ़ाकर 110 किलोमीटर प्रति घंटे कर दी गई है. रेलवे बोर्ड चेयरमैन की मानें तो बिहार में चलने वाले सभी दैनिक पैसेंजर(लोकल) ट्रेनों का कायापलट होने वाला है. लोकल ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों की असुविधा को देखते हुए 5000 एलएचबी कोच का निर्माण हो रहा है, जिनसे पैसेंजर ट्रेनों के पुराने कोचों को बदल दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि ट्रेनों और रेल ट्रैक की साफ-सफाई पहले से बेहतर हुई है. अगले साल मार्च तक देश के सभी ट्रेनों के ट्वायलेट को बायो ट्वायलेट में बदल दिया जाएगा. एक दिवसीय दौरे पर पटना आए रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने पटना के ज्ञान भवन में चल रहे तीन दिवसीय ‘‘फोटो सह रेल प्रदर्शनी‘‘ का अवलोकन किया। उन्होंने इस भव्य प्रदर्शनी की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसके माध्यम से रेलवे के अतीत से लेकर वर्तमान तक की जो तस्वीरें उकेरी गई हैं वह अतुलनीय हैं। अश्वनी लोहानी पटना के रेलवे सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पीटल पहुंचे जहां उन्होंने हॉस्पीटल में मरीजों हेतु

Read more