‘अगले साल मार्च तक सभी ट्रेनों में होंगे बायो ट्वायलेट’

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा है कि पूर्व मध्य रेल में चलने वाली सभी ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की तैयारी चल रही है. जल्द ही झाझा-मुगलसराय सेक्शन पर राजधानी एक्सप्रेस की स्पीड बढ़ाई जाएगी. वहीं बुलेट ट्रेन के बारे में उन्होंने कहा कि वर्ष 2023 में देश की पहली बुलेट ट्रेन अहमदाबाद और मुंबई के बीच शुरू हो जाएगी. शुक्रवार को पटना में पत्रकारों से बातचीत में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने कहा कि बिहार में मुगलसराय-झाझा रूट पर पैसेंजर ट्रेनों की स्पीड 100 से बढ़ाकर 110 किलोमीटर प्रति घंटे कर दी गई है. रेलवे बोर्ड चेयरमैन की मानें तो बिहार में चलने वाले सभी दैनिक पैसेंजर(लोकल) ट्रेनों का कायापलट होने वाला है. लोकल ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों की असुविधा को देखते हुए 5000 एलएचबी कोच का निर्माण हो रहा है, जिनसे पैसेंजर ट्रेनों के पुराने कोचों को बदल दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि ट्रेनों और रेल ट्रैक की साफ-सफाई पहले से बेहतर हुई है. अगले साल मार्च तक देश के सभी ट्रेनों के ट्वायलेट को बायो ट्वायलेट में बदल दिया जाएगा.

एक दिवसीय दौरे पर पटना आए रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने पटना के ज्ञान भवन में चल रहे तीन दिवसीय ‘‘फोटो सह रेल प्रदर्शनी‘‘ का अवलोकन किया। उन्होंने इस भव्य प्रदर्शनी की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसके माध्यम से रेलवे के अतीत से लेकर वर्तमान तक की जो तस्वीरें उकेरी गई हैं वह अतुलनीय हैं। अश्वनी लोहानी पटना के रेलवे सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पीटल पहुंचे जहां उन्होंने हॉस्पीटल में मरीजों हेतु उपलब्ध आधुनिकतम सुविधाओं का जायजा लिया.




पटना के बापू सभागार  में आयोजित रेल सप्ताह समारोह में रेलकर्मियों को संबोधित करते हुए अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड ने कहा कि ट्रैकमैन, गैंगमैन जैसे रेलकर्मी रेलवे की सम्पत्ति हैं। रेलवे के संरक्षित परिचालन में इनका योगदान काफी महत्वपूर्ण है । उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार में प्रत्येक क्षेत्र में हम काफी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं और इसे और बेहतर करना हम सबकी जिम्मेवारी है ।

इस मौके पर पूर्व मध्य रेल के जीएम एल.सी. त्रिवेदी ने कहा कि भारतीय रेल को देश की जीवन रेखा होने का गौरव प्राप्त है । 16 अप्रैल 1853 को यात्रा आरम्भ कर, 165 वर्षों में लगभग, 65 हजार किलोमीटर रेलवे लाइनों के तंत्र ने,  न केवल देश को एक सूत्र में पिरोया, बल्कि आर्थिक और सामाजिक उन्नति में भी इसकी प्रमुख भूमिका रही है । भारतीय रेल के शुभारम्भ के उन्हीं ऐतिहासिक अवसर को याद करते हुए, हर वर्ष, 10 से 16 अप्रैल तक, ‘रेल सप्ताह समारोह’ मनाने की परम्परा है।

समारोह के दौरान समग्र क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य दक्षता के लिए 2017-18 का महाप्रबंधक शील्ड धनबाद मंडल को प्रदान किया गया जबकि रनर्स अप कप मुगलसराय मंडल को मिला। पूर्व मध्य रेल में सफाई अभियान के लिए बड़े स्टेशनों की श्रेणी में संयुक्त रूप से पटना एवं मुगलसराय जंक्शन को, मध्यम श्रेणी स्टेशनों की श्रेणी में मधुबनी स्टेशन को तथा छोटे स्टेशनों की श्रेणी में हजारीबाग टाउन स्टेशन को पुरस्कृत किया गया ।

राजभाषा के अधिकाधिक प्रयोग एवं प्रोत्साहन के लिए दानापुर मंडल को राजभाषा अंतरमण्डलीय दक्षता शील्ड तथा इस क्षेत्र में बेहतर प्रदर्षन के लिए रनर्स अप कप मुगलसराय मण्डल को प्रदान किया गया ।इसके साथ ही, कार्मिक दक्षता शील्ड दानापुर मंडल, सिग्नल दक्षता के लिए धनबाद मंडल को,परिचालन दक्षता के लिए धनबाद मण्डल को, चिकित्सा दक्षता शील्ड धनबाद मंडल को,संरक्षा शील्ड समस्तीपुर मंडल को, इंजीनियरिंग दक्षता शील्ड धनबाद मंडल को प्रदान किया गया ।

इस अवसर पर दानापुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री आर.पी. ठाकुर, समस्तीपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री आर.के. जैन, सोनपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री अतुल्य सिन्हा, धनबाद मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री एम.के.अखौरी एवं मुगलसराय मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री किषोर कुमार सहित मुख्यालय एवं पांचों मण्डलों से आए उच्चाधिकारीकण, महिला कल्याण संगठन की सदस्यायें, पूर्व मध्य रेल के मान्यता प्राप्त यूनियन के अधिकारी एवं सदस्य तथा बड़ी संख्या में रेलकर्मी एवं उनके परिवार के सदस्य भी उपस्थित थे ।

 

पटना से राजेश तिवारी