क्या अपशगुन था कबूतर ?

SP ने उड़ाया शांति के लिए कबूतर, लेकिन फैली रही अशांति
भोजपुर SP सोमवार को नई पुलिस लाइन ग्राउंड में प्रक्षेत्रीय पुलिस खेल प्रतियोगिता का शुभारंभ शांति के लिए कबूतर उड़ा कर कर रहे थे और इधर जिले में बाबा साहब के समर्थक सड़को पर तांडव बन हिंसा पर उतारू थे.


दो दिवसीय प्रक्षेत्रीय खेलकूद प्रतियोगिता का शुभारंभ कल आरा में हुआ. प्रतियोगिता का शुभांरभ SP अवकाश कुमार ने कबूतर उड़ा कर किया. दो दिवसीय इस प्रतियोगिता में 11 जिलों की पुलिस टीम भाग ले रही है. आमतौर पर कबूतर उड़ाना शांति का प्रतीक माना जाता है लेकिन सोमवार को शांति के दूत कबूतर उड़ तो गए जरूर लेकिन भीम सेना के उत्पात ने शांति के दूत समझे जाने वाले कबूतरों पर भी सवाल खड़ा हो गया. हो भी क्यों न शांति के लिए किए जाने वाले प्रयास के बाद् यदि अशांति दिखे तो सवाल तो यक्ष बन खड़े हो ही जाते हैं.




रोड पर आगजनी, तोड़फोड़, दुकानों का समान फेंकना, दुकानदारों को पीटना, ये सब देखकर ऐसा लगा जैसे प्रदर्शन या विरोध मकसद नही बल्कि इसी उद्देश्य से ही समर्थक आये हों.

पटना नाउ ब्यूरो की रिपोर्ट