धीरे-धीरे पटरी पर आ रही जिन्दगी

न्याय न मिलने तक दुकानों को बंद रखने का किया फैसला

बाजारों में बढ़ी चहलकदमी




यातायात सामान्य ,कई दुकानें अभी भी बंद 

भोजपुर  जिले  के पीरो अनुमंडल  में उपद्रव के बाद आठवें  दिन हालात में सुधार दिखा. बाजारों में थोड़ी चहलकदमी दिख रही है लेकिन बाजार में ज्यादार दुकानें आज भी बंद ही रही. 14 अक्टूबर के दोपहर से बंद हुआ सभी कंपनियों का इंटरनेट सेवा फिर से बहाल कर दी गई है. फ़ोन पर व्वायस कॉलिंग हालांकि  दोपहर से ही बहाल कर दी गयी. एसडीओ सुमन कुमार और बीडीओ मनोरंजन कुमार पांडेय पीरो में  अपनी नजर बनाए हुए हैं फिर भी बाजार में अभी तक रौनक नहीं लौटी है. अधिकतर दुकानदार अपनी दुकानें प्रशासन द्वारा एकतरफा कार्रवाई की वजह से अभी तक नहीं खोल पाए हैं. दुकानदारों  में अभी भी रोष है. लोगों का कहना है कि हालात पर काबू पाने में विफल रहे प्रशासन ने अपनी विफलता छुपाने के लिए इंटरनेट और मोबाईल सेवा को ठप्प किया है. लगभग 65 घण्टे तक मोबाईल और 95 घंटे तक इंटरनेट को बंद कर हालात पर काबू पाने का प्रशासन अपना पीठ थपथपा रही है. जिले के अन्य जगहों के मोबाईल उपभोक्ताओं में भी रोष है कि उनके पैसे देने के बाद भी मोबाइल ऑपरेटरों की सेवा नहीं ले पा रहे थे . बाजारों में पोस्टपेड और प्रीपेड ग्राहक इस बात की चर्चा भी सुनने को मिली की अब यही दिन देखने बाकी रह गए हैं, अभी मोबाईल बंद हुआ है, कुछ दिनों में बिजली,पानी,राशन बंद होगा और फिर प्रशासन कहेगा सब कंट्रोल में है. इधर डीआईजी मोहम्मद रहमान को अविलंब हटाने के लिए हम के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान, विक्रमगंज के पूर्व विधायक राजेश्वर राज, और भाजपा के सुशील कुमार मोदी ने भी बात कही है.इस बीच एकतरफा कार्रवाई को लेकर सिविल कोर्ट आरा में डीआजी पर प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई  है. पुलिस लगातार गस्त लगा  रही है.

img_20150606_071411
खरीदारों की भीड़ बाजार में आ रही है लेकिन अधिकतर दुकानों के बंद होने कि वजह से उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. कुछ  दूकाने, विद्यालय, बैंक, और अस्पताल  खुल गए हैं. सरकारी कार्यालयों में काम भी शुरू  हो गया है. पीरो से स्थानीय जगहों के लिए यातायात सामान्य हो गया है.  लेकिन बाजार में बंद पड़ी कुछ  दुकानें  ऐसे दिखती हैं जिनकी अपनी कुछ वेदना है. दरअसल ये उन लोगों की दुकानें हैं जो प्रशासन द्वारा एकतरफा कार्रवाई से नाराज हैं. ऐसे लोगों ने न्याय न मिलने तक दुकानों को बंद रखने का फैसला किया है. पीरो में एक आम सभा भी हुई जिसमें सभी समुदाय के लोगों शिरकत की .इस सभा को वीडियो रिकार्डिंग और पदाधिकारियों से दूर रखा गया. इस सभा में किसी भी पार्टी और दल से अलग आमजन के हित के लिए  आवाज उठाया गया जिसमें एकतरफा कार्रवाई में पकडे गए लोगों के रिहा होने तथा दोषियों के कार्रवाई होने तक दुकानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया.
भोजपूर जिला प्रशासन भी इस पर अपना ध्यान बनाए  हुए है और ऐसी आशा व्यक्त की जा रही है कि  सारे लोगों को जल्द ही छोड़ दिया जाएगा. हालांकि इस बारे में प्रशासन ने कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है. पुलिस के तमाम आलाधिकारी पीरो में अश्वारोही बल, बीएमपी, सैप और बिहार पुलिस बल के साथ अभी भी कैम्प कर रहे हैं.

रिपोर्ट -पीरो से ओ पी पांडेय