हर घर तक पहुंचा भगवान महावीर का संदेश

कोरोना काल मे परिवार को किया एकजुट, श्रद्धा-भक्ति ने दी हर घर पर दस्तक

आरा (भोजपुर),25 अप्रैल. कोविड संक्रमण के दौर में भी जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती आज जिले में बड़े ही धूमधाम से मनाई गयी. इस बार की जयंती अबतक के जयंतियों से काफी अलग और सही मायने में देखा जाय तो सबसे ज्यादा प्रभावशाली,भक्ति और हर जन को सम्मिलित किये हुए था. अब आप यह सोच रहे होंगे कि ऐसा क्या था और अनोखा कैसे रहा आज का जयंती? दरअसल कोविड संक्रमण के इस दौर में बिहार में जहाँ 15 मई तक नाइट कर्फ्यू की वजह से मंदिर और सामुहिक जलसों में लोगों के मिलजुल पर रोक है.




आमतौर पर कोई पर्व,त्योहार या जलसों में सार्वजनिक स्थलों पर लोगों की भागीदारी और धूमधाम होती है. ऐसे जलसों में सबसे ज्यादा युवाओं की भागीदारी रहती है लेकिन बुजुर्ग अक्सर घरों में रहते हैं. कोरोना काल के कारण इस बार जैन समुदाय ने भगवान महावीर की जयंती सामूहिक न करके सभी लोगों को घर पर मनाने का फैसला लिया. इसका परिणाम यह हुआ कि सार्वजनिक स्थलों में जहां शहर के धर्मिक स्थलों पर भीड़ नही हुआ वही भगवान महावीर के प्रति श्रद्धा और उनके जयंती में हर घर के बुजुर्ग दम्पति भी शामिल हुए और पारंपरिक अनुष्ठानों के साथ अपने आराध्य की जयंती लोगों ने धूमधाम से मनायी. आपस मे परिवार वालों का एक साथ किसी अनुष्ठान में इतने व्यापक पैमाने पर बड़े दिनों बाद देखने को मिला. लोगों ने पूजा के बाद बड़ो का आशीर्वाद लिया और एक दूसरे को प्रसाद में मिठाइयां और फल भी बांटा.

प्रातः समय लोगों ने अपने-अपने घरों से ही भगवान महावीर का शुभ संदेशों का उद्घोष किया और नारे लगाये, जिसमें भगवान महावीर का अमर संदेश जियो और जिने दो, अहिंसा परमो धर्म, विश्व मे शांति हो, अहिँसा का प्रचार हो, आज क्या है महावीर जयंती है ऐसे अनेकों जयकारों से हर गली गूँजमान हो गया. जैन समाज के संयोजक डॉ शशांक जैन ने बताया कि आज चैत्र शुक्ल त्रियोदशी है जो कि बहुत ही शुभ दिवस है आज के ही दिन हमारे जिन शासन प्रभु वर्तमान शासन नायक भगवान महावीर का जन्मकल्याणक दिवस है. सुबह से ही हर घर-घर में अभिषेक, पूजन एवं शांतिपाठ हो रहे है. श्रावक कोविड नियमों का पूर्णतः पालन करते हुये अपने-अपने घरों में जैन ध्वज लगाकर व्रत, अनुष्ठान कर रहे है.

संध्या समय घरों में रंगोली बनाकर द्वीप प्रज्ज्वलित कर आरती, भजन एवं पाठ करेंगें. जैन समाज के मीडिया प्रभारी निलेश कुमार जैन ने बताया कि आज भगवान महावीर का 2620 वीं जन्मकल्याणक महोत्सव है हमलोग भगवान महावीर जन्म जयंती प्रत्येक वर्ष बड़े ही धूमधाम से मनाते है. जो प्रति वर्ष प्रभातफेरी, शोभायात्रा एवं अनेकों सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ संपन्न होता था, लेकिन कोरोना महामारी के इस विपक्ति काल में गत वर्ष एवं इस वर्ष भी सरकार द्वारा निर्देशित नियमों का पालन करते हुये सभी अपने-अपने घरों में भगवान महावीर जन्म उत्सव मना रहे है.

घर मे हुई सांस्कृतिक प्रस्तुतियां और सोशल मीडिया बना प्लेटफार्म
समाज के कई युवक-युवतियों ने सोशल मीडिया के माध्यम से भगवान के श्री चरणों में अपनी प्रस्तुति निवेदित किये जिसमें भाव नृत्य, गायन एवं लेख शामिल है. उन्होंने कहा कि अहिँसा प्रेरक वीतराग तीर्थंकर भगवान महावीर के पद चिन्हों पर चलकर ही सम्पूर्ण विश्व में शांति एवं जनकल्याण संभव है. इस अवसर पर जैन समिति के अखिलेश कुमार जैन के नेतृत्व में समाज के सहयोग से फल का वितरण डाक्टर, स्वास्थ्यकर्मियों एवं कई अन्य लोगों के बीच किया.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट