एमडीआर से तीन की मौत ,कई लोग रोग की चपेट में 

By pnc Sep 14, 2016
पीड़ित परिवार बता रहे टीवी एमडीआर रोग से हो रही मौतें 
नुजहत  की टूटी शादी , शादी के लिए बने गहने बेच हो रहा इलाज 
कई घरों के बच्चे और लड़कियां इस रोग से ग्रसित होने के कगार पर
 फुलवारी शरीफ. नगर के मिलकियाना कहारटोली में अज्ञात रोग की चपेट में आकर अबतक चार लोगों की मौत हो गई है .इनमें  दो माह पहले कयूम अंसारी की नतिनी रौशनी परवीन(10साल)की मौत हो गई थी  इसके बाद पडोसी कुद्दुस अंसारी  की बेटी शहनाज उर्फ़ सुरैया परवीन(16साल)की मौत भी इसी रोग से ग्रस्ति होने के कारण हो गयी.जिन मरीजो की मौत हो चुकी है उनका इलाज पीएमसीएच,एनएमसीएच,आईजीआईएमएस से लेकर कई निजी अस्पतालों में इलाज कराने ले गये लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका बकरीद के दिन मंगलवार को अकील अंसारी का 2 साल का  बेटा रेहान की मौत हो गयी जिससे मुहल्ले में बकरीद का पर्व मातम में बदल गया.सभी मौतों का कारण लोग टीवी एमडीआर रोग (मल्टी ड्रैग रेजिस्टेंस) को ही बता रहे हैं.

unnamed  ????????????????????????????????????unnamed-3
कहार टोली निवासी कयूम अंसारी की 16 साल की पुत्री नुजहत परवीन इस टीवी एमडीआर रोग से ग्रसित होकर हर पल मौत के दरवाजे की ओर कदम बढ़ा रही है. जवान बेटी को तिल-तिल मरता देख परिवार में कोहराम मचा हुआ हुआ है. नुजहत के पिता कयूम अंसारी और माँ रोते हुए बताया की नुजहत की शादी तय हो गयी थी, लेकिन बीमारी से ग्रसित होने के बाद रिश्ता टूट गया, इतना कह वह फफकते हुए बेटी को गले लगाती हुयी बताती है की जिन रुपये का इन्तेजाम कर नुजहत की शादी के लिए गहने जेवरात बनवाये थे, उसी गहनों को बेचकर अब इलाज कराने दिल्ली ले जाया जा रहा है.

अज्ञात टीवी एमडीआर रोग से कई जाने चली गयी फिर भी अबतक सरकारी स्तर पर कोई मदद नही मिल पाया. दो माह से अधिक समय से इस मुहल्ले में इस रोग ने कहर ढाया हुआ है लेकिन स्थानीय जन प्रतिनिधियों का ध्यान इस ओर नही गया है. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अभी तक इस रोग के प्रकोप और हुयी मौतों से अनजान बना हुआ है.इसी मुहल्ले का निवासी और मृतक सुरैया उर्फ़ शहनाज का मौसेरा भाई रजा अंसारी ने बताया की एक महिला और एक पुरुष  पहले से दिल्ली में इलाज करा रहे हैं. मुहल्ले वालों का कहना है की दो माह से इस  टीवी एमडीआर  रोग का प्रकोप इस कदर फैला हुआ है की कई घरों के बच्चे और लड़कियां इस रोग से ग्रसित होने के कगार पर खड़ी हैं. इस बीमारी के बारे में जागरूकता एक अभाव में लोग बीमार होने पर स्थानीय चिकित्सकों से दवा लेकर ठीक होने का इन्तेजार  में रहते हैं लेकिन बाद में स्थिति बिगड़ जाती है तो हाथ-पाँव पसार लेते हैं. इस मुहल्ले के कई परिवार के सदस्य दिल्ली में काम करने जाते हैं. वहां से ही इस रोग के वायरस इस मुहल्ले में फैलने की आशंका जाहिर की जा रही है. रजा अंसारी और अन्य लोगों ने बताया की पहले बुखार आता है फिर खांसी होने लगती है. इसके बाद लोग स्थानीय स्तर पर दवा लेकर ठीक होने के इन्तेजार में रहते हैं लेकिन बीमारी बढ़ती जा रही है.धीरे-धीरे रोगी का शरीर सूखने लगता है. सुदंर काया वाले बच्चे और लड़कियां अचानक से मौत के खाट पकड़ने लगते हैं.पैसे के आभाव में सही इलाज न होने के कारण धीरे धीरे काल के गाल में समा जा रहे हैं/ कहारटोली में जिन घरों में इस अज्ञात रोग टीवी एमडीआर का प्रकोप फैलता जा रहा है इसी मुहल्ले के ठीक सटा है कसाई मुहल्ला इस मुह्ल्ले के आस-पास के इलाके में लोगों को कई तरह के संक्रामक रोगों ने जकड़ रखा है. साफ़-सफाई के आभाव में लोग बीमारियों के शिकार होते रहते हैं.




इस सम्बन्ध में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ महेंद कुमार ने बताया की patnanow के जरिये ही इस रोग के प्रकोप की जानकारी मिली है .एक डॉक्टर के नेतृत्व में पांच सदस्यीय चिकित्साकर्मियों की टीम मुहल्ले में भेजा गया. इसके बाद पाया गया है की जो लोग यहाँ टीवी के रोग से ग्रसित थे,उन्होंने टीवी रोग का पूरा कोर्स नही कर पाए.इससे रोग पुनः खतरनाक ढंग से रोगियों और अन्य लोगों में फैलने लगता है.उन्होंने लोगों से आग्रह किया है की जो लोग टीवी ग्रसित मरीज हैं वे प्रमुखता से अपनी दवा का कोर्स पूरा करें सरकार इस रोग के लिए निःशुल्क दवा का इन्तेजाम कर रखी है. उन्होंने बताया की टीवी एमडीआर रोग (मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस) से ग्रसित सभी मरीजों को दवा उपलब्ध कराया जा रहा है.
फुलवारीशरीफ से अजीत की रिपोर्ट

Related Post