भारतीय नेवी को सलाम जिसने हमें नई जिन्दगी दी

समुद्री तूफ़ान में फंसे 1900 लोगों को नेवी ने बचाया

2 लोग भोजपुर के आरा से भी




हनीमून ट्रिप के लिए गए थे नवविवाहित

अंडमान द्वीप पर समुद्री तूफ़ान में फंसे लगभग 1900 सैलानियों को भारतीय नेवी ने सुरक्षित राजधानी पोर्ट ब्लेयर पंहुचा दिया है. इन सैलानियों में दो लोग आरा के भी हैं जो अपना हनीमून मनाने के लिए अंडमान गए थे. लेकिन उन्हें क्या पता था कि समुद्री तूफ़ान में वो 1900 लोगों के साथ घिर जायेंगे. दक्षिणी अंडमान से 40 किलोमीटर दूर हैवलॉक और नील टापू पर आए समुद्री तूफान तथा घनघोर वारिस के चलते करीब 1900 सैलानी पिछले 6 दिसम्बर से वहाँ फंसे हुए थे.
ffa2ea26-abce-4121-99eb-747c2f564a42नगर थाना क्षेत्र के जगदेव नगर निवासी अभिषेक अपनी पत्नी निधि के साथ हनीमून मनाने नील टापू पर गए थे जहाँ वे पिछले 3 दिन से समुद्री तूफान में फंसे थे. निल टापू पर सरकार द्वारा भेजे गए राहत बचाव कार्य नहीं पहुंचने की वजह से अभिषेक के परिवार वालों ने गृह मंत्रालय से गुहार लगाई थी. लेकिन समुंदरी तूफान के चलते बचाव कार्य बाधित हो रहा था. सरकार द्वारा भेजे गए 4 शिप-Ns बित्रा,बंगारम,कुम्भीर,और LSU 38 बंदरगाह से काफी दूर थे. अभिषेक के परिवारजनो से या जानकारी मिलते ही पटना नाउ ने अभिषेक से संपर्क करना चाहा पर कल देर शाम तक वॉइस ब्रेक की वजह से बात नहीं हो पायी. अभिषेक के चाचा अनिल राय ने बताया कि तूफ़ान की वजह से टापू पर बिजली बाधित हो गयी है जिसकी वजह से मोबाइल या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक यंत्र काम नहीं कर पा रहा था. इधर समुद्री तूफ़ान की वजह से नेवी की बचाव राहत टीम निल टापू से दूर थी. तीन दिनों से लोगों के पास खाने के सारे सामान ख़त्म हो गए थे तथा पीने के पानी की भी दिक्कतें हो गयी थी. देर रात नेवी के बचाव दल ने समुद्री तूफ़ान में फंसे सारे सैलानियों को हेलीकॉप्टर से पोर्ट ब्लेयर पहुँचाया. आज सुबह परिवार वालों से अभिषेक की बात हुई है जिसने भारतीय नेवी का शुक्रिया अदा भी किया और बताया कि कितनी बहादुरी से हमारी सेना ने कई लोगों की जिंदगियों को बचाया.

 

रिपोर्ट -आरा से ओ पी पांडेय