गोल्डन ग्लोब रेस 2018

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | भारतीय नौसेना के कमांडर अभिलाष टोमी एक अनूठी समुद्री यात्रा करने के लिए तैयार हैं. यह अधिकारी गोल्डन सम्मानित ग्लोब रेस (जीजीआर) में भाग लेने के लिए आमंत्रित एकमात्र एशियाई है जो यात्रा रविवार 1 जुलाई को फ्रांस में लेस सैबल्स डी ओलोन हार्बर से आरंभ हुई.

गोल्डन ग्लोब रेस का परिचालन ब्रिटेन के सर रॉबिन नॉक्स जॉनसन द्वारा 1968 में आरंभ किए गए विश्व के पहले नॉन स्टॉप सरकमनेविगेशन की याद में किया जा गया. कमांडर अभिलाष टोमी भारत के सर्वाधिक प्रमुख नाविकों में से एक हैं.  उन्होंने सेल के भीतर 2012-13 में ग्लोब की सोलो नॉन स्टॉप सरकमनेविगेशन समेत 53,000 नॉटिकल माइल कवर किया है. वह कीर्ति चक्र, मैक ग्रेगर एवं तेनजिंग नॉर्गे पुरस्कारों के विजेता भी हैं.




कमांडर अभिलाष टोमी सहैली की प्र्रतिकृति पर यात्रा करते हुए भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. इस रेस के अप्रैल 2019 में लेस सैबल्स डी ओलोन में संपन्न हो जाने की उम्मीद है. रेस की प्रगति को जीजीआर की आधिकारिक वेबसाइट  (http://www.goldengloberace.com) पर देखा जा सकता है.