जब दीपावली बन गयी ‘अमावस की काली रात’

दीपावली में निकला आरा के दो प्रतिष्ठानो का दिवाला

आरा, 28 अक्टूबर. आज पूरा शहर दीवाली की खुशियों के बीच दीये और पटाखे जला के खुशियों को बांटने की कोशिश कर ही रहा था की शहर के बीचों बीच दो स्थानों पर आग ने अपना काम भी शुरू कर दिया और अग्नि ने भयानक रूप ले शहर के दो प्रतिष्ठित प्रतिष्ठानों पर अमावस्या की काली परत चढ़ा दी और पूरे व्यवसाय को अपनी कालिमा में निगल लिया .




हम बात कर रहें है आज शहर में हुए दो प्रतिष्ठानों की जो शहर का हमेशा से नाक रहा है. पहली घटना हरि जी का हाता में tvs बाइक के सर्विस सेंटर में घटी और दूसरी बाबू बजकर स्थित आरा का सबसे पुराना बेकरी के दुकान केक प्लेस के. सुबह का 3:15 बज चुका है और आग पर काबू पका लिया गया है. लेकिन इन दोनों प्रतिष्ठानों में बैजे राख और बुझ चुकी आग से निकल रही धुँआ की लपटें अपने अस्तिव का बयान कर रही है.

पूरे जिले को केक खिलाने वाला केक प्लेस में अभी धुँआ और गीली राख के अलावा कीच भी नही बचा है. आरा में बेकरी की यह वह पुरानी दुकान है जहां से निर्मित पावरोटी,बिस्किट और अन्य खाद्य सामग्रियों को स्कूल के बच्चे अपने स्कूलों में टिफिन में बड़े चाव से खाया करते थे. दूसरी घटना प्रताप TVS शो रूम की है जो पूरे जिले को TVS की बाइक मुहैया कराता था.बताते चलें कि प्रताप TVS पहले महिंद्रा की बाइक और स्कूटी का शऔ रूम हुआ करता था.


प्रथम दृष्टया अंदाजा लगाया जा रहा है कि आग शार्ट सर्किट के कारण हुई है. लेकिन दिन दीवाली का और शार्ट सर्किट से आरा के दो प्रतिष्ठानो में आग लगने की बात पर लोग बात करें तो अजीब सा लगता है. प्रथम दृष्टया शार्ट सर्किट से यह घटित यह आग की घटना लगती है. लेकिन अब तो जांच के बाद ही आग लगने के मुख्य कारणों का पता चल पाएगा. घटना जैसे भी घटी होयह भोजपुर जिले के लिए बहुत दुःखद खबर है कि आरा के शान को और पक्का करता यह दो प्रतिस्ठान खाक में तब्दील हो गया.

आरा से सत्य प्रकाश सिंह की रिपोर्ट