साहब डांस देखकर खुश होता है

                                                                                                                                          कविता
लोकतंत्र 944148_374684082631506_251297563_n
लोकतंत्र में लोक भीड़ है
तंत्र नकेल है
भीड़ का सिर नहीं होता
तंत्र का दिल नहीं होता
तंत्र लोक का रस निकालने की मशीन है
तंत्र बीन है
बीन बजते ही लोक नागिन डांस करने लगता है
साहब डांस देखकर खुश होता है
संपेरे की जेब नोटों से भर देता है

संपेरा का रोम रोम खिल जाता है
                                                                                                  खेल खत्म होता है

snake                                 नाग टोकरी में डाल दिया  जाता है

                                    वह सरक कर सो जाता है
                                    लोकतंत्र का लक्ष्य पूरा होता है.
                             –धनंजय कुमार