CBSE बोर्ड के आदेश का पालन नहीं कर रहे है स्कूल  

अभिभावक दे देते हैं ज्यादा किताबें

किताबें ज्यादा खरीदनी पड़ती है




एक दूसरे के सिर दोष मढ़ रहे है अभिभावक और स्कूल

स्मार्ट क्लास और अन्य विकल्पों के जरिए किताबों का बोझ कम हो

भोजपुर में कई स्कूल नहीं मानते CBSE के गाइड लाइन

अभिभावकों ने कहा कारवाई हो

रिपोर्ट -आरा से ओपी पाण्डेय      

CBSE बोर्ड द्वारा बच्चों के बस्ते को कम करने के आदेश के बाद अब स्कूल प्रबंधन और अभिभावक सकते में हैं. जहाँ एक ओर स्कूल प्रबंधन के लिए ये चुनौती गई तो वहीँ  अभिभावकों  के लिए एक ख़ुशी भरा सन्देश. लेकिन क्या कुछ झेल रहे हैं बच्चे. आइये जानते हैं पटना नाउ की तहकीकात में अभिभावक शिक्षक और बच्चों की प्रतिक्रियाएं—

952b2831-43a6-42a4-974f-1c6f23ad8ec2

जॉ पॉल स्कुल की प्राचार्या मधु सिन्हा कहती हैं कि हमने कभी भी बस्ते पर बोझ डाला ही नहीं है. हम तो अभिभावकों से ये अपील करते हैं कि वे बच्चों को उनके बस्ते में वो ही किताबें देकर भेजें जिसकी उस दिन पढ़ाई होने वाली हो. लेकिन अधिकतर अभिभावक कई किताबों को भी बच्चों के बैग में भर देते हैं और स्कुल प्रबंधन पर ये बोझ मढ़ दिया जाता है. वे कहती हैं कि अभिभावकों की मीटिंग वो हर बार करती हैं लेकिन अभिभावकों की उपस्थिति पर्याप्त नहीं हो पाती है इसलिए उन्होंने अभिभावकों की उपस्थति पर भी 2 मार्क्स बच्चों के प्रोग्रेस रिपोर्ट में जोड़ दिया है. जिससे अब कुछ संख्या बढ़ी है. इसके अतिरिक्त जो अच्छे ड्रेस, स्वच्छता और अच्छे लैंग्वेज में सलीके से बात करता है उसको 10 मार्क्स इस सलीके के लिए दिया जाता है. साथ ही 10 मार्क्स अच्छी लिखावट के लिए दी जाती है. ये सब प्रयास बच्चों के सर्वांगीण विकास से जुड़ा है ये पढ़ाई के साथ दूसरी कलाएं हैं. इस विकास के लिए अभिभावकों का तत्पर होना बहुत जरुरी है.

 

d210f7e4-2b34-4a4f-9b4c-8ef620678426

वहीँ इसी स्कुल की क्लास 6 की छात्रा सृष्टि रंजन बताती है कि वो हर दिन 8 किताबें और आठ कॉपी के साथ डायरी ले जाती है. साथ में टिफिन और वाटर बोतल. लगभग 5-7 किलो का वजन होता है. ये जाहिर तौर पर भारी तो होता ही है लेकिन इतना तो ले जाना है पढाई के हिसाब से.

 

e86da3bd-3fbc-426c-923a-7aa69f736813   सृष्टि रंजन के पिता मनोज सिन्हा CBSE बोर्ड द्वारा दिए गए इस फैसले का स्वागत करते हैं और कहते हैं कि ये बिलकुल सही फैसला है. प्राइवेट स्कुल केवल ज्यादा पैसे किताबों और अन्य सुविधाओं के नाम पर वसूलते हैं. जब पैसे लेते हैं तो उन्हें किताबों के अलावा स्मार्ट क्लास और अन्य विकल्पों के जरिए  बच्चों के किताबों का बोझ कम करना चाहिए. साथ ही वो ये भी कहते हैं कि वे अपने बच्चे के बैग में उतनी किताबें ही देते हैं जिनकी पढ़ाई उस दिन होने वाली होती है.

 

74395742-68a0-4eb6-b7fa-15fb840e4bcd

वहीं इसी स्कुल के 7वीं कक्षा का छात्र आदित्य कुमार कहते है ही वो हर दिन सात किताब और सात कॉपी के अलावा एक रफ कॉपी और डायरी ले जाता है. उसे बस्ते के बोझ सामान्य से ज्यादा लगता है.

 

 

af099162-33f6-42f2-8120-caa5c08fec0b

 

सम्भावना जुनियर स्कूल की  चौथी वर्ग की छात्रा मदुरई के अनुसार बैग ले जाने में उसे दिक्कत होती गई चुकी किताबों का बोझ ज्यादा होता है. लेकिन अगर स्कुल में ही ऐसा कोई व्यवस्था हो जाये जिससे किताबें ढोना न पड़े.

 

a7ef4c3c-23fb-47c1-bff2-f68ce0abf123

वहीं मदुरई की मम्मी स्मिता बहादुर बताती हैं कि स्कुल तो बस वही किताबें बच्चों को देते हैं जिसकी पढ़ाई होती है लेकिन किताबों की संख्या स्कुल ही ज्यादा करता है. जो उनकी कमाई का जरिया है. अब 9 सब्जेक्ट की पढ़ाई होती है फिर 14 किताब स्कुल खरीदने पर क्यों मजबूर करता है. CBSE के इस निर्णय से हमे ख़ुशी है कि स्कूलों का मोनोपॉली किताबों के लिए कम होगा.

 

 

बच्चों के स्वास्थ्य के हितों को ध्यान में रख कर सीबीएसई की ओर से भेजे गए गाइड लाइन का पालन होता नहीं दिख रहा है.बच्चे आज भी भारी स्कूल बैग कंधे पर टांग कर पहले तो बस का इन्तजार करते है और फिर स्कूल और घर.इन बच्चों की नींद भी पूरी नहीं होती.लिहाजा सीबीएसई बोर्ड का फरमान कब लागू होता है स्कूल में और कब मिलती है बच्चों को भारी बस्ते से मुक्ति.