कार्डबोर्ड पर जब कुंचियों ने शब्दों को दिया रंग तो बागी बन गयी तख्तियाँ

19वें दिन भी आन्दोलन जारी,भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष का मिला समर्थन

AITA ने वेबिनार के जरिये किया आन्दोलन का समर्थन




आरा : 19 जून. भोजपुरी पेंटिंग के सम्मान के लिए भोजपुर संरक्षण मोर्चा द्वारा 19वें दिन भी आन्दोलन जारी रहा. कलाकारों ने 19वें दिन पेंटिंग के तरीके को बदल शब्दों में रंग दिया और स्टेशन परिसर आरा में स्थिर प्रदर्शन किया. 18 दिनों से भोजपुरी कला की कलाकृत्तियों को उकेरने वाली कुंचियों ने शब्दों के आकार को गढ़ा और उसे नारे का रूप दिया. कार्डबोर्ड पर चित्रकारों ने इसे पहले लिखा और फिर उसे तख्तियों की तरह हाथों में ले शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया.

ये लिखे थे नारे:
“भोजपुरी संस्कृति जिंदाबाद,” “भोजपुरी कला संस्कृति को मान दो”, “हमको हमारा स्थान दो भोजपुरी कला संस्कृति की उपेक्षा बंद करो”, “हमको यह अभिमान है जारी यह अभियान है,” भोजपुरी कला का सम्मान करें”, “मान बढ़ाव शान बढ़ाव भोजपुरी के अभिमान बढ़ाव” आदि नारों को भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा से जुड़े चित्रकारों ने कार्डबोर्ड पर अंकित किया और उसके बाद मोर्चा के सभी सदस्यों ने स्थिर प्रदर्शन किया. बताते चलें कि शुक्रवार को रेलवे की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल ने आंदोलनकारियों से मिलकर उन्हें ट्रायल के लिए पेंटिंग बनाने का मौखिक प्रस्ताव रखा था लेकिन आंदोलनकारियों के प्रतिनिधि मंडल ने बोला कि जबतक कोई भी लिखित प्रस्ताव हमें नही मिलता न तो पेंटिंग सम्बन्धी कार्य ही होगा और न ही आन्दोलन रुकेगा.

वरिष्ठ चित्रकार और मोर्चा के कोषाध्यक्ष कमलेश कुंदन ने कहा कि पूरे शाहाबाद के रेलवे प्लेटफॉर्म पर भोजपुरी चित्रकला का अंकन होना चाहिए, जो बाहर से आनेवाले के लिए न केवल आकर्षक का केंद्र होगा और वे हमारी संस्कृति से रूबरू होंगें. ये हमारी पहली प्राथमिकता है. वरिष्ठ चित्रकार और मोर्चा के उप संयोजक विजय मेहता ने कहा कि भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा के द्वारा जारी इस आंदोलन को साहित्यकारों, संस्कृतिकर्मियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं अन्य बुद्धिजीवियों का व्यापक पैमाने पर समर्थन मिलने लगा है. अतएव यह आंदोलन अपने मंजिल पर अवश्य पहुँचेगा.
वही वरिष्ठ चित्रकार रौशन राय ने कहा कि भोजपुरीभाषी क्षेत्र में बनाये जाने वाले पीड़िया लेखन और कोहबर लेखन को मान-सम्मान के साथ रेलवे स्टेशन, सार्वजनिक स्थानों पर मान सम्मान के साथ बनवाया जाए.

AITA ने वेबिनार के जरिये किया आन्दोलन का समर्थन
ऑल इंडिया थियेटर कौंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक मानव ने बताया कि ऑल इंडिया थियेटर कॉउन्सिल के राष्ट्रीय वेबिनार में सभी सदस्यों ने भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा के इस आंदोलन को अपना समर्थन दिया. आंदोलन स्थल पर आकर भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य भारत भूषण पांडेय ने अपना समर्थन मोर्चा को दिया. हैदराबाद से भोजपुरिया अर्चना पांडेय ने कविता के माध्यम से अपना समर्थन दिया. आज के कार्यक्रम को सफल बनाने में रवींद्र भारती,कृष्णेन्दु,भास्कर मिश्र, संजय कुमार पाल,मनोज कुमार श्रीवास्तव,रूपेश कुमार पांडेय(ज्ञानपुरी),मनोज कुमार सिंह,शालिनी श्रीवास्तव,साधना श्रीवास्तव,संजय सिंह,किशन सिंह,रतन देवा,विवेकदीप पाठक ने उल्लेखनीय सहयोग प्रदान किया.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट