राज्यपाल ने गांधी मैदान में फहराया तिरंगा

राज्यपाल रामनाथ कोविन्द ने किया झंडोत्तोलन

कारगिल स्मृति स्थल पर शहीद सैनिकों को दी श्रद्धांजलि




68वें गणतंत्र दिवस पर गुरुवार को राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने पटना के गांधी मैदान में झंडा फहराया. इससे पहले राज्यपाल कारगिल स्मृति स्थल गए और अमर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. राज्यपाल के गाँधी मैदान पहुँचने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्वागत किया.

इसके बाद राज्यपाल ने खुली जीप में परेड का निरीक्षण किया.  राज्यपाल ने ‘मार्च पास्ट’ की भी सलामी ली और गणतंत्र दिवस-2017 के अवसर पर ‘शौर्य पुरस्कार’ से अलंकृत विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किया. 

राज्यपाल ने गाँधी मैदान में ‘गणतंत्र दिवस’ के अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए उन्हें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ दी. राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकार ने सुशासन एवं न्याय के साथ विकास के लिए सार्थक प्रयास किया है. उन्होंने कहा कि बिहार में ‘कानून का राज’ स्थापित रखना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. और राज्य सरकार भ्रष्टाचार के विरूद्ध ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर कायम है. उन्होंने ‘बिहार लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम’, ‘सुशासन के कार्यक्रम’, ‘विकसित बिहार के सात निश्चय’, ‘लोक संवाद कार्यक्रम’, ‘बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना’, ‘मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना’, ‘कुशल युवा कार्यक्रम’, ‘बिहार स्टार्ट अप नीति-2016’, ‘बिहार औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन अधिनियम-2016’ आदि का उल्लेख करते हुए इनके सफल कार्यान्वयन की बात कही.


समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि -राज्य में बिजली की स्थिति को सुधारने का काम राज्य सरकार ने चुनौती मानकर स्वीकार किया है और इसमें सुधार हुआ है. उन्होंने कहा कि बिहार में पूर्ण मद्य-निषेध लागू कर सामाजिक परिवर्तन की बुनियाद रखी गई है. राज्यपाल कोविन्द ने कहा कि विगत् 21 जनवरी 2017 को 3 करोड़ से अधिक बिहार वासियों ने लगभग 11 हजार 400 किलोमीटर लंबी अभूतपूर्व एवं ऐतिहासिक राज्य व्यापी मानव-श्रृंखला बनाकर शराबबंदी एवं नशामुक्ति के पक्ष में अपने संकल्प को प्रकट किया है. उन्होंने गुरू गोबिन्द सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाशपर्व के सफल आयोजन को अविस्मरणीय बताते हुए कहा कि बापू के ‘चम्पारण सत्याग्रह’ की ऐतिहासिक स्मृति का सौंवा साल ‘चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह’ के रूप में मनाया जायेगा और बापू के संदेशों को घर-घर पहुँचाया जायेगा. राज्यपाल ने बिहार वासियों को समाज में सद्भाव और भाईचारा का वातावरण बनाए रखने का आह्वान किया, ताकि बिहार, विकास के शिखर तक पहुँच सके.