मानवता का उदाहरण बने ‘अविनाश’

ब्लड डोनेट कर अविनाश राव में दिया मानवता का परिचय
भोजपुर/गड़हनी. बदलते परिवेश और काम की अधिकता में एक दूसरे से ना मिलने की मजबूरी ने संवेदनहीनता की एक लकीर मानव जीवन में बना दी है. अपने कामों में व्यस्तता का यह आलम है  की जरूरतमंदों  हमारी आंखें  देख भी नहीं पाती  है लेकिन कौन कहता है कि मानवता मर गई है? अभी भी समाज में ऐसे लोग हैं जो अपने जीवन को दांव पर लगाकर दूसरों की जान बचाने के लिए हर तरह का प्रयास करते  हैं.  इसमें एक नाम अविनाश राव का भी लिया जा सकता है.  गड़हनी निवासी अविनाश राव वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा,छात्र जदयू के अध्यक्ष के साथ साथ मचान एनजीओ के सचिव भी है. अविनाश राव ने रक्तदान कर एक महिला को जीवन प्रदान किया है. दरअसल भोजपुर के जदयू नेता अमरेंद्र कुमार की भतीजी आरा के सदर अस्पताल में भर्ती थी,जिसकी डिलेवरी होनी थी,डॉक्टरों ने रक्त कम होने की  बात पीड़ित परिवार को बताई थी. अगर प्रसव पूर्व ब्लड नही चढ़ाया जाए तो बड़ी घटना घट सकती थी.
सदर अस्पताल के चिकित्सकों के अनुसार रक्त हर हाल में महिला को प्रसव के पूर्व चढ़ाया जाना था. अमरेंद्र ने ब्लड के लिए काफी जतन किया.  हर तरफ से निराश हो जाने के बाद भी ए पॉजीटिव रक्त की व्यवस्था नहीं हो सकी.  यहां तक की आरा रेड क्रॉस में भी ए पॉजीटिव ब्लड उपलब्ध नही था. इसकी जानकारी जैसे ही अविनाश राव को मिली, रक्तदान करने का निर्णय लिया. रक्तदान के उपरांत महिला को ब्लड चढ़ाया गया. जदयू नेता अमरेंद्र ने इस पुनीत कार्य के अविनाश राव का आभार व्यक्त किया. वहीँ  सामाजिक एवम राजनीतिक संगठन के लोग अविनाश राव के इस कार्य की प्रसंसा कर रहे हैं. फिलहाल डॉक्टरों के अनुसार अब महिला खतरे से बाहर है.
भोजपुर से ओ पी पाण्डेय की रिपोर्ट