पटना एम्स के दस डॉक्टरों पर प्राथमिकी दर्ज

एम्स में मारपीट के मामले में दस डाक्टरों  पर प्राथमिकी दर्ज

पुलिस छावनी में तब्दील हुआ  पटना एम्स




एम्स पहुंची फुलवारी, जानीपुर ,बेउर और खगौल की पुलिस

मीडियाकर्मियों को भी नहीं बख्शा ,कैमरे भी तोड़े 

नर्सिंग स्टाफ  केशांति पूर्ण प्रदर्शन  पर  जूनियर डाक्टर ने दौडा दौडा कर  महिला कर्मियों को भी पीटा, चार घायल 
राम भरोसे चल रहा है पटना एम्स 
एम्स में फैला हैअराजका का महौल
निदेशक,उप निदेशक ,और अस्पताल अधीक्षक भी नहीं 
कोइ अधिकारी बात करने केलिए तैयार नही 
एक  दूसरे पर टाल मटोल कर रहे है एम्स अधिकारी 
मरीजों में भी अफरा तफरी का महौल 
 पटना एम्स के नर्सिंग स्टाफ का शांति पूर्ण प्रदर्शन के दौरान उस समय अफरा तफरी मच गयी जब  जूनियर डाक्टरों ने आकर शांतिपूर्णप्रदर्शन कर रहे नर्सिंग स्टाफ  को गाली गालौज देते हुए मारपीट शुरू कर दी . इतना ही नही  जूनियर डाक्टरोंने गुंडागर्दी करते हुये नर्सिग  स्टाफ को भी  दौडा दौडा कर पीटा और महिला कर्मियो को भी पिटाई कर दी . मारपीट की सूचना मिलते ही कवरेज करने गए  मीडिया कर्मी को भी जूनियर डाक्टर नही बख्शा और छायाकार का कमैरा भी तोड दिया . इस संबध में पटना एम्स नर्सिंग स्टाफ यूनियन  के उपाध्यक्ष दीपक यादव ने कहा कि शाम पांच बजे तक हम लोगोंका शांति पूर्ण प्रदर्शन प्रशासनिक भवन के सामने चल रहा थां.इस दौरान  एम्स केप्रशासनिक अधिकारी  ने बात करने का न्योता दिया.
बात करने गये यूनियन के अध्यक्ष धनराज , कोषाअध्यक्ष प्रहलाद  गये तो इसी दौरान शेष नर्सिंग स्टाफ शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे इस दौरान जूनियर डाक्टरों ने आकर  हमलोगों पर हमला कर दिया और दौड़ा दौड़ा कर  पीटना शुरू कर दिया. जिससे चार लोगें को चोटें भी आई है इतना ही नहीं जूनियर डाक्टरों ने  महिला नर्सिंग स्टाफ को भीदौड़ा दौड़ा कर पीटा . मार पीट की सूचना मिलते ही  मीडिया कर्मी और छायाकार  कवरेज करने पहूंचे तो जनूनियर डाक्टरों ने उनके साथ भी गाली गालौज की और मार पीट करने लगे. इस दौरान एक मीडियाकर्मी को उठा कर लेजाने की कोशिश की गयी. किसी तरह से मीडियाकर्मी जान बचा कर निकले.इस घटना से भर्ती मरीजों और परिजनों मे भी अफरा तफरी का महौल बन गया  घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौकेपर पहूंची तो सारे डाक्टर मौके से निकल गये.
पटना एम्स पूरी तरह से राम भरोसे चल रहा है आये दिन डॉक्टरों की गुंडागर्दी से एम्स में अराजकता फैली हुई  है . एम्स मे ना  तो निदेशक है ना ही  तो उप निदेशक  और  न ही  अस्पताल अधीक्षक है. एम्स के अधिकारी इस बाबत मीडिया  से बात करने सेबच रहे थे. डीन एम्स डा पी पी गुप्ता  ने बताया कि मै कोई बात नही करूगां क्योंकि मै अधिकारी तौर कुछ नहीं बोल सकता .अस्पताल अधीक्षक  डा उमेश भदानी से बात करने पर बताया कि मैछुटटी पर हूं और वर्तमान में मुम्बइ मे हूॅ . उप अस्पताल अधीक्षक  डा योगेश  इस संबध में कुछ भी कहने से इंकार किया । ए अेएम्स कामता प्रसाद भारती नेकहा कि मे कुछ नही बोल सकता है बार बार पुछने पर सिर्फ इतना कहा कि  चार सदस्यी टीम जांच केलिए गठित हुई  है.जांच केबाद ही कोइ कारवाईहोगी .
मालूम हो कि शिशु विभाग के  डा शाशंक ने बुधवार को बच्चा वार्ड मेभर्ती  मरीज  को देखने के लिए गये थे इस दौरान डयूटी पर तैनात नर्सिंग स्टाफ के साथ  कुछ बात को लेकर  कमिर्याेंसे धक्का मुक्की और दुव्र्यवहार ,गाली गौलज  किया था.जिसका विरोध नर्सिंग स्टाफ शांतिपूर्णढंग से प्रदर्शन कर रहे थे .
 पटना एम्स में नर्सिंग स्टाफ के साथ मार पीट के मामले में नसिैग स्टाफ यूनियन ने दस जूनियर डाक्टर डा शाशांक डा अमरजीत, डा निसीत ,डा अरशद , डा मनीष , डा राजेश , डा शहनवाज , डा प्रयूषण , डा गौतम , डा धीरेन्द्र ,समेत अन्य जूनियर डाक्टर के खिलाफ फुलवारी शरीफ थाना में दर्ज कराया हैं . इस घटना के बाद पूरे  पटना एम्स के परिसर में पुलिस छावनी मे तब्दील कर दी गई है . नर्सिंग स्टाफ ने बताया की जूनियर डॉक्टरों ने पहले तो मार पीट की और गोली मार देने की धमकी भी दी है जिसके चलते पूरे परिसर मे तनाव की स्थिति बनी हुई है . एम्स के नर्सिंग स्टाफ दहशत में है. हालत को काबू में करने के लिए फुलवारी, जानीपुर ,बेउर और खगौल थाने की पुलिस पहूंच कर मामले की छान बीन कर रही है . थानेदार मो मुस्ताफा कमाल कैसर ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांचकर रही है . एम्स में एहतियातन पुलिस फ़ोर्स को मुस्तैद रखा गया है. इस घटना के बाद नर्सिंग स्टाफ ने डॉक्टरों को अविलम्ब गिरफ्तार करने की मांग कर रहे है. स्थानीय लोगों के अनुसार पहले भी इस प्रकार की घटना हो चुकी है .

 

रिपोर्ट- फुलवारीशरीफ से अजीत