भोजपुरी में पी जी में दाखिले का रास्ता खुला

भोजपुरी विभाग अब होगा छात्रों से गुलजार 

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा का स्नातकोत्तर भोजपुरी विभाग एक बार फिर छात्रों और छात्राओं से गुलजार होगा. बिहार सरकार के उच्च शिक्षा विभाग से इस आशय में एक पत्र जारी किया गया है जिसमें भोजपुरी विभाग में पी जी में एडमिशन के लिए रास्ता खुल गया है. यही नहीं सीटों की संख्या में भी वृद्धि की गयी है और पूर्व में उपलब्ध 52 सीटों के स्थान पर अब कुल 75 सीटों पर दाखिला होगा.




रंग लाया ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’

ज्ञात हो कि विश्वविद्यालय में भोजपुरी विभाग में छात्रों के दाखिले पर रोक लगा दी गई थी जिसके विरोध में 5 सितम्बर, 2016 को छात्र, युवा और समस्त शाहाबाद की जनता इस फैसले के वरोध में सड़कों पर उतर गई थी और एक अभूतपूर्व आन्दोलन खड़ा हो गया था.

भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो नरेंद्र सिंह नीरज ने उच्च शिक्षा विभाग के फिर से पढाई शुरू करने के फैसले पर हर्ष व्यक्त करते हुए बताया कि ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’ रंग लाया है और पूर्व कुलपतियों डॉ सैयद मुमताज़ुद्दीन और वर्तमान कार्यकारी कुलपति डॉ नंदकिशोर साह ने इस दिशा में काफी प्रयास किया जिसका परिणाम आज सामने हैं.

नैक ग्रेडिंग में होगा सकारात्मक असर 

जल्द ही  नैक टीम का आगमन होने जा रहा है, उम्मीद है कि भोजपुरी में पढ़ाई शुरू होने का सकारात्मक असर टीम पर पड़ेगा और विश्वविद्यालय को अच्छी रैंकिंग में मदद मिलेगी. भोजपुरी भाषी ह्रदय क्षेत्र शाहाबाद में अवस्थित इस विश्विद्यालय के भोजपुरी विभाग को एक शोध केंद्र के रूप में भी विकसित करने का अवसर मिलेगा.

 

आरा से ओ पी पांडेय व रवि प्रकाश सूरज की रिपोर्ट