अब तीसरी आंख से होगी निगरानी

रेल ट्रैक पर लगातार बढ़ती आतंकी घटनाओं के मद्देनजर लिया गया फैसला
तीसरी आंख की जद में होंगे बक्सर, डुमरांव और दिलदारनगर रेलवे स्टेशन
मॉनिटरिंग कक्ष में शिफ्ट वाइज तैनात रहेंगे RPF और GRP के जवान

कानपुर और मोतिहारी में रेलवे ट्रैक पर विस्फोट कर आतंक मचाने की ISI की साजिश के खुलासे के बाद रेलवे अब ट्रेनों की सुरक्षा को चाक-चौबंद करने की कोशिश में है. इसके तहत अब महत्वपूर्ण स्टेशनों पर तीसरी आंख से निगरानी होगी.




निर्भया फंड के तहत बक्सर, डुमरांव और दिलदारनगर स्टेशनों पर CCTV कैमरे लगाये जायेंगे. यूं कहें कि अब ये तीनों स्टेशन पूरी तरह से तीसरी आंख के जद में होगा. बक्सर में 20 फिक्स तथा 3 मूविंग कैमरे, डुमरांव में 15 जबकि दिलदारनगर में 15 कैमरे लगाये जायेंगे. रेलवे ने इसकी तैयारी भी कर ली है. कैमरे के द्वारा लोगों पर नजर रखने के लिए एक मॉनिटरिंग कक्ष बनाया जायेगा. जहां शिफ्ट के अनुसार RPF और GRP के जवान तैनात रहेंगे.
इसमें बक्सर और डुमरांव रेलवे स्टेशन पर 41 कैमरे लगाये जाने का रेलवे द्वारा प्रस्ताव तैयार किया गया है. कैमरे लग जाने के बाद स्टेशन की हर गतिविधि कैमरे में कैद होगी. ट्रैक पर हुए धमाके के बाद रेलवे सुरक्षा को लेकर काफी चौकस हो गया है. पहले चरण में रेलवे ग्रेड A 1, ग्रेड A व ग्रेड B के स्टेशनों पर कैमरे लगाये जाएंगे. कैमरे की मदद से स्टेशन आने वाले हर व्यक्ति पर नजर रखी जा सकती है. इससे विशेष रूप से महिलाओं की सुरक्षा पर भी ध्यान रखा जा सकेगा.
स्टेशनों पर दो तरह के कैमरे लगाये जाने की योजना है. इसके तहत बक्सर स्टेशन पर 20 फिक्स कैमरे और डुमरांव में 15 फिक्स कैमरे लगाये जाएंगे. साथ ही दोनों स्टेशनों पर 3-3 PTZ कैमरे लगाये जाएंगे. वहीं दिलदारनगर में भी 15 फिक्स कैमरे लगाये जाएगे. पूर्व मध्य रेलवे में कुल 979 फिक्स और 154 PTZ सहित 1133 कैमरे लगाये जाएंगे.
रिपोर्ट- बक्सर से ऋतुराज पांडेय