कभी पुरस्कार भी मिले कभी सस्पेंड भी हुए भोजपुर SP राकेश दुबे

पटना: तीन महीने पहले बनाये गए भोजपुर के Sp राकेश दुबे को अबविभाग ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है और विभागीय कार्रवाई चलने तक उन्हें निलंबित रखा जाएगा इस दौरान उन्हें सिर्फ जीवन यापन के लिए आंशिक राशि ही मिलेगी। आरा में sp के पद पर काम करते हुए उन्होंने तीन माह में शराब,अवैध बालू और क्राइम पर काम किया लेकिन विभाग ने उन्हें उसी बालू के अवैध उत्खनन में बालू माफियाओं की मदद करने का आरोप लगा कर उन्हें निलंबित कर दिया है।आप को बताते चलें कि देवघर (झारखंड) के रहने वाले राकेश कुमार दुबे कई सालों तक सीबीआइ में भी काम कर चुके हैं। वे बिहार के चर्चित चारा घोटाले के अनुसंधानकर्ता भी थे। जब बिहार में रंगदारी के लिए हत्याएं और फिरौती के लिए अपहरण का दौर चरम पर था, तब अपराध पर लगाम लगाने के लिए राकेश कुमार दुबे ने बतौर डीएसपी काफी सुर्खियां बटोरीं थीं। तीन साल तक पटना टाउन डीएसपी रहे और इस दौरान उन्होंने मुठभेड़ में आधा दर्जनों दुर्दांत अपराधियों को मार गिराया था। राकेश कुमार दुबे तक एसटीएफ में भी अपनी सेवा दे चुके हैं। आरा में वार्ड पार्षदों की शराब पार्टी का में पहुंच कर 13 से अधिक लोगों को गिरफ्तार भी किया था ।

Read more

भोजपुर एसपी राकेश दुबे का तबादला

पटना पुलिस मुख्यालय भेजे गए औरंगाबाद के SP सुधीर कुमार पोरिका का भी तबादला आरा, बालू के अवैध उत्खनन के मामले में कार्रवाई करने पर भोजपुर के एसपी राकेश दुबे और औरंगाबाद के एसपी को हटा कर उन्हें पुलिस मुख्यालय में योगदान करने को कहा गया है। गृह विभाग ने आज ही सुधीर कुमार पोरिका और राकेश कुमार दुबे का स्थानांतरण कर दिया है । आपको बता दें कि राकेश दुबे ने भोजपुर में पद सम्भालते ही शराब माफिया और बालू माफिया पर कार्रवाई करते हुए बड़ा काम किया। हाल ही कई वार्ड पार्षदों को शराब की पार्टी में छापेमारी कर राकेश दुबे ने शराब माफियाओं और बालू माफियाओं की कमर तोड़ कर रख दी थी। उनके भोजपुर जिले में पदस्थापन के बाद से किसी भी मामले में त्वरित कार्रवाई को लेकर राजनीतिक हलकों में चर्चाओं का बाजार गर्म था । 42वीं बैच के बिहार पुलिस सेवा के अधिकारी से आइपीएस अधिकारी बने राकेश दुबे भोजपुर के 99वें नए एसपी के रूप में जिले की बागडोर संभाल कर कई महत्वपूर्ण मामलों का निपटारा किया था । Pnc

Read more