विजय दिवस के रूप में धूमधाम से मनाया गया बाबू कुंवर सिंह जयंती

कोइलवर/भोजपुर (आमोद कुमार) | कोइलवर प्रखंड के बालक मध्य विद्यालय कुल्हाड़ियां में बाबू कुंवर सिंह की जयंती के अवसर पर बच्चो के बीच कुंवर सिंह के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई. कई कार्यक्रम में वाद विवाद , पेंटिंग, भाषण, लेख आदि बच्चो के बीच कराया गया. प्रधानाध्यापक डॉ राजेन्द्र प्रसाद ने बच्चो को संबोधित करते हुए कहा कि बाबू कुंवर सिंह भोजपुर जिले के जगदीशपुर अनुमंडल के रहने वाले थे. उन्होंने अस्सी वर्ष की उम्र में अंग्रेजो के छक्के छुड़ा दिए थे. इसलिए आज के दिन को हमलोग विजय दिवस के रूप में मनाते हैं. आज भोजपुर जिला में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं. इस अवसर पर शिक्षक वृज नंदन सिंह , धर्मेन्द्र सिंह, पवन कुमार, चंद्रशेखर मिश्र , गोपाल शरण, सुरेन्द्र कुमार, प्रीती देवी, संजय, धर्मेश, राकेश, सजेंदर, राहुल सहित सभी शिक्षक, छात्र और संकुल समन्वयक उदय जी उपस्थित रहे.

Read more

बाबू कुंवर सिंह की वीरगाथा को दर्शाती पेंटिंग्स देखनी हो, तो यहां आइए

अंजनी कुमार सिंह ने किया चित्रकला कार्यशाला का उद्घाटन बिहार के मुख्‍य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बाबू वीर कुंवर सिंह जी के 160 वें विजयोत्‍सव के अवसर पर रविवार को राजधानी पटना स्थित बिहार म्‍यूजियम के बहुउद्देशीय हॉल में चित्रकला कार्यशाला का उद्घाटन किया। कार्यशाला में कुल 13 कलाकार भाग ले रहे हैं, जिनके द्वारा बनाई गई पेटिंग भोजपुरी के आरा हाउस एवं किला मैदान जगदीशपुर में प्रदर्शित की जायेगी। सभी पेंटिंग बाबू वीर कुंवर सिंह की वीरगाथा को दर्शाती है। इस अवसर पर अंजनी कुमार सिंह ने बाबू वीर कुंवर सिंह के संघर्ष गाथा को आज के समय में भी प्रास‍ंगिक बताया और कहा कि एक अंग्रेज इतिहासकार होम्‍स ने कहा है कि तत्‍कालीन समय में अगर बाबू वीर कुंवर सिंह 40 वर्ष की उम्र में होते तो भारत को उसी समय आजादी मिल गई होती है। पटना से राजेश तिवारी

Read more