स्वच्छता अभियान का नारा बुलंद कर रहा ये मेला

पटना के गांधी मैदान में आयोजित सरस मेला के प्रति लोगों का क्रेज देखते ही बन रहा है . उद्यमी महिलाओं को उनके उत्पादों की बिक्री का उत्कृष्ट मंच उपलब्ध कराने के उदेश्य से 12 दिसंबर से 26 दिसंबर तक आयोजित मेला लोगों के लिए सुकून भरा पल बिताने के लिए एक खुशनुमा स्थल बना हुआ है . मेला आम से लेकर खास तक के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है . छोटे-छोटे स्कूली छात्र – छात्राओं से लेकर युवा, बुजुर्ग और आम से ख़ास लोग सरस मेला का आनंद लेते हुए अपने मनपसंद वस्तुओं की खरीददारी और स्वाद के अनुसार व्यंजनों को चखते हुए नजर आ रहे हैं . सरस मेला में देश के विभिन्न राज्यों से आये स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाये , जीविका की दीदियाँ , स्वरोजगारी और ग्रामीण शिल्पकार अपने- अपने उत्पाद और अपने – अपने राज्य के मशहूर व्यंजनों को लेकर विभिन्न स्टॉल्स पर लोगों को लुभा रहे हैं .




मेला में प्रतिदिन लगभग  26 से 30 हजार लोग आ रहे हैं . सरस मेला के चौथे दिन की शाम तक लगभग 24 लाख रूपये की खरीद बिक्री का अनुमान है . इतने बड़े तादाद में लोगों के आने के बावजूद मेले में स्वच्छता अभियान का नारा भी बुलंद हो रहा है . दानापुर से आई आरती बताती हैं कि इतनी बेहतर व्यवस्था और साफ़-सफाई इससे पहले कही नहीं देखा.

सबसे ख़ास की इस बार मेला के संचालन की जिम्मेवारी जीविका की स्वयं सहायता समूह की दीदियों ने संभाल रखा है . बिहार के अलग अलग जिलों से आई 56 हुनरमंद दीदियाँ मेले की व्यवस्था बखूबी संभाल रही हैं.

 

मेला के माध्यम से ग्रामीण उद्यमिता कोबढ़ावा देने के साथ ही सामाजिक कुरीतिओं के उन्मूलन हेतु जन जागरूकता अभियान भी जारी है . प्रत्येक दिन किसी न किसी संस्थान द्वारा आयोजित विभिन्न कार्यक्रम इसका प्रमाण है . मेला के चौथे दिन किन्नरों ने बाल विवाह एवं दहेज़ उन्मूलन को लेकर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों से अभियान में शामिल होने की अपील की.

जनशिक्षा निदेशालय के तत्वावधानमें किन्नर कला जत्था द्वारा दोस्ताना  सफ़र के द्वारारेशमा के नेतृत्व में बाल विवाह एवं दहेज़ उन्मूलन अभियान के साथ ही 21 जनवरीको आयोजित राज्य स्तरीय मानव श्रंखला में शामिल होने के लिए भी लोगों से अपील की गई . नाटक के कलाकारों में सोनिया, सोनी, लक्ष्मी, संगीता, वीरा, रानी, रंजीता, रेशमा और संतोषी प्रमुख थी.  मुख्य मंच पर मध्य बिहार ग्रामीण बैंक के तत्वाधान में जादूगर बी. के.सम्राट ने बैंक के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं को लेकर जागरूक किया .

मेला का सबसे बड़ा आकर्षण है किसी भी स्वयं सहायता समूह के स्टॉल से 500 रुपये की खरीददारी पर लॉटरी सिस्टम के तहत प्रत्येक दिन प्रथम पुरस्कार के रूप में 5 हजार, दितीय 2 हजार और तृतीय 1 हजार रुपये का इनामी कूपन दिया जा रहा है .विजेता इस कूपन से मेला में मुफ्त में खरीददारी कर रहे है .