2022 तक दोगुनी होगी किसानों की आय

केंद्र सरकार 2022 तक किसानों की आय को दुगना करने उनके कल्याण में सुधार लाने के लिए वचनबद्ध है। इसके लिए 2018 खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागत का डेढ़ गुना बढ़ा दिया है। पटना में प्रेस वार्ता के दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने बताया कि अब किसानों को अपनी फसल की लागत का डेढ़ गुना ज्यादा कीमत मिलेगा। उन्होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए जरूरी नीति में बदलाव किया जाएगा.




कृषि मंत्री ने कहा की नई नीति जिसके तहत किसानों के लिए न्यूनतम 50% लाभ मार्जिन सुनिश्चित किया जा सके सुधारों की श्रृंखला में एक दूसरा प्रगतिशील उपाय है, जिसके लिए सरकार विगत 4 सालों से कार्यरत है।

कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने बताया 2018-19 में जहां धान का उत्पादन लागत मूल्य 1166 प्रति क्विंटल था।

न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹50 यानी उत्पादन लागत पर 50% लाभ किसानों को मिलेगा। वही ज्वार खरीफ फसल के किसानों का लागत मूल्य 1619 जो न्यूनतम समर्थन मूल्य 24 से ₹30 हुआ। 50.59% की बढ़ोतरी हुई. जब जहां तिलहन की बात करें 2018 में उत्पादन लागत 4166 रुपया था। वही न्यूनतम समर्थन मूल्य 6249 रुपया हुआ, यानी 50.1% की वृद्धि हुई.

राजेश तिवारी