पत्रकारिता जगत में बढ़ते खतरे का संकेत है पत्रकारों की हत्या

पत्रकारों की हत्या पर UN सहित इंटरनेशनल मीडिया में हलचल

आरोपी डब्लू को रिमांड पर लेने के लिए पुलिस ने दी अर्जी




आरा, 31 मार्च. भोजपुर में घटित दोहरे पत्रकार हत्याकांड सहित मध्यप्रदेश में भी पत्रकार की हत्या की गूंज यूएन तक पहुंच गई है. इस घटना को न सिर्फ विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय अखबारों ने प्रमुखता दी है बल्कि यूएन में पत्रकारों की ऐसी हत्याओं पर गहरी चिंता ब्यक्त की है.

मोटरसाइकिल पर 25 मार्च को रामनवमी की कवरेज कर लौट रहे दैनिक भास्कर के पत्रकार नवीन निश्चल और उनके दोस्त विजय सिंह इरादतन Scorpio चढ़ाकर हत्या की घटना ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को के झकझोर दिया दिया है. पाकिस्तान के अखबार द डॉन ने भी इस खबर को मुख्य खबर बनाया है और कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट एशिया प्रोग्राम रिपोर्टर आयुष सोनी नवीन निश्चल की हत्या कांड पत्रकारों से संपर्क में है. कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट मानवाधिकार संगठन है है जो पत्रकारों पर अत्याचार और शोषण के खिलाफ आवाज उठाता है. वही संयुक्त राष्ट्र संघ में भी या मामला गुंजा है.

संयुक्त राष्ट्र के  चीफ  एंटोनियो गुटेरेज ने बिहार और मध्य प्रदेश में हुई पत्रकारों की हत्या पर गहरी चिंता जताई है. गुटेरेज के डिप्टी स्पोक पर्सन फरहान हक ने एक बयान में कहा कि दुनिया में कहीं भी पत्रकारों के शोषण के खिलाफ हिंसा की घटना चिंतनीय है वही द गार्जियन अखबार ने भी पत्रकारों की हत्या पर चिंता व्यक्त करते हुए लिखा है कि भोजपुर और और मध्य प्रदेश में हुए पत्रकारों की हत्या पत्रकारिता जगत में बढ़ते खतरे का का संकेत है. गार्जियन के इंडिया ब्यूरो के वरिष्ठ पत्रकार माइकल साफी ने नवीन विजय और संदीप शर्मा की मौत पर दुख व्यक्त किया है. साथ ही बताया कि दिल्ली ऑफिस के प्रतिनिधि काकोली भट्टाचार्य इस घटना पर नजर बनाए हुए हैं. जबकि बीबीसी भी इस खबर पर लगातार अपडेट ले रहा है.

इधर भोजपुर पुलिस में में पुलिस में में नवीन निश्चल और विजय सिंह सिंह की हत्या कांड में आत्मसमर्पण कर चुके डब्लू को रिमांड पर पर रिमांड पर पर लेने की तैयारी में जुटी है. पुलिस ने जेल में बंद गड़हनी की पूर्व मुखिया साजिदा परवीन के बेटे डब्लू को 2 दिनों के रिमांड पर  लेने के लिए कोर्ट को अर्जी दी है. कोर्ट में डायरी सबमिट करने के बाद पुलिस डब्लू को रिमांड पर ले जा सकती है. ऐसी संभावना है की पुलिस सोमवार तक कोर्ट को डायरी प्रस्तुत करेगी. बताते चलें कि हत्या के बाद फरार आरोपी डब्लू ने एसीजेएम कोर्ट में पुलिस के बढ़ते दबिश के कारण 36 घंटे के बाद आत्मसमर्पण किया था, जहां कोर्ट ने उसकी जमानत को खारिज करते हुए 9 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया था. आरोपी का पिता हंसू मियां भी जेल में बंद है जिसे पुलिस में 26 मार्च को गिरफ्तार किया था.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट