शराबबंदी मामले पर सीएम नीतीश का फूटा गुस्सा

अवैध शराब कारोबारी, अधिकारी हो या कर्मचारी किसी को नहीं छोड़ेंगे-सीएम नीतीश

सीएम ने कहा कि शराब कितनी खतरनाक चीज है, ये किसी से छिपी नहीं है




16 नवंबर को बुलाई गई है सभी अधिकारियों की बैठक

बिहार में लगातार जहरीली शराब से हो रही मौतों पर सीएम नीतीश कुमार बेहद सख्त नजर आये. जनता दरबार के बाद पत्रकारों से बात करते एक बार फिर सख्त लहजे में साफ-साफ बोला . नीतीश कुमार ने कहा कि किसी भी दोषी को नहीं बख्शा जाएगा, चाहे वह अवैध शराब कारोबारी हो या शराबबंदी का ठीक तरीके से पालन नहीं करवाने वाले अधिकारी से लेकर कर्मचारी किसी को नहीं छोड़ेंगे. सभी दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हम एक-एक चीज की समीक्षा कर रहे हैं. अपने गुस्से का का इजहार करते हुये अधिकारियों को भी सख्त लहजे में चेतावनी दे दी है कि लापरवाही बरतने वाले लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा. सीएम ने कहा कि शराब कितनी खतरनाक चीज है, ये किसी से छिपी नहीं है. बावजूद इसके कुछ लोग इस धंधे में लगे हुए हैं और जहरीली शराब बेच रहे हैं. लोग भी इसे खरीद कर पी रहे हैं, जिससे उनकी जान चली जा रही है. हम बार-बार कहते हैं कि यह सब कीजिएगा  तो नुकसान होगा, जो दो नंबर का धंधा करता है उस के माध्यम से लोग लेकर शराब का सेवन करते हैं, जिसका नतीजा यही होता है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

सीएम नीतीश कुमार ने कहा 16 नवंबर को हमने एक मीटिंग बुलाई है, जिसमें हर जिले से हर चीज की जानकारी लेंगे और समीक्षा करेंगे. साथ ही हमने अधिकारियों से यह भी पूछा है कि जहां से अवैध शराब बिहार में प्रवेश कर रहा रहा वहीं पर क्यों नहीं पकड़ा जा रहा है. आखिर किसकी लापरवाही से बिहार के अंदर शराब पहुंच रहा है, वैसे लोगों को चिन्हित कर उन पर कार्रवाई की जाएगी. सीएम ने कहा- बिहार में एक बार फिर से बड़े पैमाने पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा, लोगों को जागरूक किया जाएगा.

वहीं नीतीश कुमार ने इशारों-इशारों में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव  पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि हमने शराबबंदी कानून लागू किया. कुछ लोग हैं जो सिर्फ बयान देते हैं कुछ करते नहीं. अगर आपके पास जानकारी है तो क्यों नहीं पुलिस को जानकारी देते हैं, ताकि लोग पकड़ा जाते. लेकिन, कुछ लोग सिर्फ बयानबाजी करते हैं. सीएम ने कहा कि विधानसभा में सर्वसम्मति से तमाम पार्टियों ने शराबबंदी कानून लागू करने का फ़ैसला किया था, लेकिन आज वही लोग सिर्फ बयानबाजी कर रहे हैं. अगर आपके पास कोई सूचना है तो दीजिए, लेकिन सूचना देने के बजाय सिर्फ पत्र लिख दीजिएगा, मीडिया में बयान दे दीजिएगा, इससे क्या फायदा है? मुख्यमंत्री ने आपको क्या बनाया था आपको नहीं पता? लेकिन इसके बाद भी अगर आपको ज्ञान नहीं है तो उसका क्या फायदा? आपको तो सहयोग करना चाहिए. सीएम ने कहा कि सभी ने विधानसभा में खड़े होकर शराबबंदी के लिए शपथ लिया था, आज वही लोग शराबबंदी का विरोध कर रहे हैं.

PNC DESK #SHRABBANDI #biharkikhabar