150 वर्ष के इतिहास में पहली बार कोई भारतीय बना है ट्रस्टी

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | नीता अंबानी को बुधवार 13 नवंबर को न्यूयॉर्क में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट के ट्रस्ट में चुना गया. नीता इस संग्रहालय के 150 साल के इतिहास में ट्रस्टी की भूमिका निभाने वाली पहली भारतीय होंगी.
म्यूजियम के चेयरमैन डैनियल ब्रोडस्की ने नीता अंबानी के बोर्ड में शामिल होने की घोषणा की. ब्रोडस्की ने कहा कि भारतीय कला एवं संस्कृति को संरक्षित करने और प्रोत्साहित करने की नीता अंबानी की प्रतिबद्धता वास्तव में असाधारण है तथा उनके बोर्ड में शामिल होने से म्यूजियम की क्षमताओं में इजाफा होगा. नीता अंबानी का स्वागत करते हुए उन्होंने अपनी खुशी प्रकट की.

इस अवसर पर बोलते हुए रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता अंबानी ने कहा कि पिछले कई वर्षो से यह देखना सुखद रहा है कि भारतीय कलाओं के प्रदर्शन में मेट्रोपॉलिटन म्यूज़ियम ऑफ आर्ट ने दिलचस्पी दिखाई है. उन्होंने आगे कहा कि म्यूजियम द्वारा वैश्विक मंचों पर भारतीय कला के समर्थन और रूचि ने उन्हें काफी प्रभावित किया है जो हमारी प्रतिबद्धताओं से मेल खाता है. सम्मान पाने पर उन्होंने आगे कहा कि यह सम्मान उन्हें भारत की प्राचीन विरासत के लिए उनके प्रयासो को दोगुना करने में मदद करेगा.




नीता अंबानी विशेष रूप से भारत की कला, संस्कृति और विरासत के संरक्षण और संवर्धन के लिए प्रतिबद्ध हैं. रिलायंस फाउंडेशन भारत की सांस्कृतिक पहचान को बनाए रखने और उनकी प्रासंगिकता सुनिश्चित करने के कई प्रयास करता रहा है.
2017 में भी मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट ने एक खास कार्यक्रम में नीता अंबानी को सम्मानित किया था. यह कार्यक्रम उन हस्तियों के सम्मान में किया जाता है जो कला की दुनिया में विविधता और समावेश को बढ़ावा देते हैं. नीता ‘द मेट्स इंटरनेशनल काउंसिल’ की भी सदस्य है.
बताते चले कि नीता अंबानी को 2017 में रिलायंस फाउंडेशन के काम के लिए भारत के राष्ट्रपति से प्रतिष्ठित राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार मिला था. 2016 में, फोर्ब्स ने नीता को एशिया के 50 सबसे शक्तिशाली कारोबारी महिलाओं की लिस्ट में शामिल किया था. वह अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की सदस्य भी हैं और इस भूमिका को निभाने वाली वे पहली भारतीय महिला हैं.