गैंगरेप का विरोध करने पर जिंदा जलाई गई नाबालिग की मौत




मरने से पहले बोली- मुझे न्याय दिलाना

20 दिन बाद तड़प-तड़पकर हुई मौत

पेट्रोल और किरोसिन डाल कर जलाया गया था नाबालिग़ को

सीतामढ़ी में गैंगरेप का विरोध करने पर 15 साल की एक नाबालिग को जिंदा जला दिया गया था. इस कारण वह बुरी तरह घायल हो गई थी. इलाज को दौरान मुजफ्फरपुर केएसकेएमसीए में उसने दम तोड़ दिया है. बिहार के सीतामढ़ी में एक 15 साल की नाबालिग से दुष्कर्म की कोशिश की गई थी. नाबालिग ने इसका विरोध किया तो दुस्साहसियों ने उस पर तेजाब और किरोसिन तेल डालकर जलाकर मारने की कोशिश की. इसके बाद काफी नाजुक हालत में उसे एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर में भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के दौरान पीड़िता ने दम तोड़ दिया. मौत से 10 घंटे पहले पीड़िता ने पुलिस को बयान दिया है. उसने कहा है कि मेरे मरने के बाद भी मुझे न्याय जरूर दिलवाइएगा.

लड़की का इलाज मुजफ्फरपुर एसकेएमसीएच के बर्न वार्ड में चल रहा था. मौत से दस घंटे पहले लड़की ने अहियापुर पुलिस के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया था. इसमें गांव के ही युवकों को उसने नामजद किया था. पुलिस पदाधिकारी से उसने कहा कि  उनका विवाद मेरे पिता से था. फिर दरिंदों ने मेरे साथ दरिंदगी क्यों की. मरने के बाद भी मुझे न्याय जरूर मिलना चाहिए. नहीं तो मेरी आत्मा को शांति नहीं मिलेगी.उधर परिजनों को मांग है कि मेरी बेटी की हत्या करने वालों को फांसी की सजा मिले.

PNCDESK