लोकतंत्र की हत्या है पत्रकार की हत्या: अमरेन्द्र

परिजनों के लिए नौकरी, 15 लाख की मुआवजा समेत पत्रकारों के सुरक्षा की मांग की

आरा, 4 अप्रैल. पीस ऑफ इंडिया ने गड़हनी के दिवंगत पत्रकारों की श्रद्धांजलि के लिए एक कैंडल मारवाह का आयोजन किया जो मंगलवार की संध्या में स्टेशन परिसर से होते हुए कलेक्ट्री घाट स्थित जे पी स्मारक पर समाप्त हुआ. कैंडिल मार्च के समापन के बाद संस्था के महानगर अध्यक्ष अमरेन्द्र कुमार ने कहा कि आये दिन जिस तरह पत्रकारो पर जानलेवा हमला हो रहा हैं और भ्रष्टाचार को दबाने के लिये लोकतंत्र के चौथे सतम्भ की हत्या हो रही हैं. ऐसी घटनाओं से पीस ऑफ इंडिया काफी आहत महसूस कर रही है. जिस तरह से बीते दिन गड़हनी में नवीन निश्चल और विजय सिंह की हत्या कर दी गई उससे साबित होता हैं कि हमारे बिहार के सभी पत्रकार असुरक्षित हैं और भ्रष्टाचार अपने चरम सीमा पर हैं, जो कि लोकतंत्र के लिए एक खतरा हैं.




उन्होंने कहा कि बिहार सरकार को इनकी सुरक्षा की गरंटी देनी चाहिए ताकि ये स्वतंत्रत और निष्पक्ष रूप से कार्य कर सके. साथ ही पत्रकार सुरक्षा अधिनियम कानून बनना चाहिय. ताकि ये लोग सुरक्षित रह सके. अमरेन्द्र ने दिवंगत पत्रकार नवीन निश्चल और विजय सिंह के परिवार के परिवार के किसी 1 सदस्य को सरकारी नॉकरी और कम से कम 15 लाख की मुआवजा देने की मांग की. इस अवसर पर पीस ऑफ इंडिया के पदाधिकारियों में मिथलेश कुशवाहा ,पिंटू चंद्रवंशी, पप्पु सिंह ,राजेश्वर सिंह, आशीष कुमार , दिनेश कुमार विनोद चौधारी ,संतोष लाल , मुकेश श्रीवास्तव , आलोक कुमार , संतोष सिन्हा , प्रदीप कुमार ,अभिषेक कुमार, पुष्पेंद्र कुमार , वरुण कुमार एव अन्य लोग उपस्थित थे .

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट