क़ानून की परीक्षा में ही उड़ रही है कानून की धज्जियाँ

पूर्व वित्त अधिकारी के परीक्षा में स्पेशल ट्रीटमेंट ने लॉ परीक्षा का बिगाड़ा खेल
NSUI ने किया इसका जोरदार विरोध
कुलपति ने दिए जांच के आदेश

परीक्षा में स्पेशल ट्रीटमेंट लेकर चोरी करते पूर्व वित्त अधिकारी 




f5c2cf32-c431-4a27-b262-d0b420662563

वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय में कुछ काम हो और जग जाहिर न हो तो फिर कुछ अटपटा लगता है. विवादों का दूसरा नाम ही है वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय. हर परीक्षा की तरह इस बार लॉ के परीक्षा में भी हंगामा हो ही गया. दो दिनों तक ख़ामोशी में चली इस परीक्षा के तीसरे दिन हंगामा ने जन्म तब लिया जब विश्विद्यालय के पूर्व वित् अधिकारी ने बिना किसी के अनुमति के लॉ की परीक्षा महिला कॉलेज में अलग कक्ष में अकेले दे रहे थे. उनके अकेले परीक्षा देते हुए किसी छात्र ने वीडियो बना लिया और फिर ये वीडियो वायरल हो गया. वीडियो वायरल होते ही छात्र संगठन ने महिला कॉलेज की प्राचार्य कामिनी सिन्हा से सम्पर्क किया. फिर ये मामला परीक्षा नियंत्रक प्रसुन्जय सिंहा के पास गया और फ्लाइंग स्क्वैड ने कॉलेज में धावा  बोला. लेकिन इसके पूर्व ही मामले को रफा- दफा करने के लिए महिला कॉलेज कि प्रचार्या ने वित् पदाधिकारी को बाकि परीक्षार्थियों के साथ बैठा दिया था. मीडिया में मामले के आने के बाद छात्र संगठन NSUI के जिलाध्यक्ष अभिषेक द्विवेदी ने आज कुलपति को घेरा. विश्वविद्यालय में परीक्षा में आये दिन विवि प्रशासन की मनमानी से गुस्साए छात्र नेताओं ने कुलपति के कार्यालय के सामने हंगामेदार प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के बाद कुलपति से वार्ता कर जांच कर दोषियों को सजा और परीक्षा को स्वच्छ कराने की मांग की. मामले की आफत में कुलपति ने अपने आप को घिरते देख मीडिया में आयी रिपोर्ट पर स्वतः संज्ञान लेते हुए इस मामले की त्वरित जांच के लिए एक टीम गठित करने का वादा किया.

 

 

37cc31db-8cd8-45c5-88c1-7c51e0b668a8

img-20161124-wa0016

 

बताते चलें कि इसके पूर्व भी जैन कॉलेज में स्नातक में 40 अवैध नामांकन को लेकर धांधली की जांच के लिए टीम गठित हुयी थी  जिसका जांच सीसीडीसी डॉ ज़मिल अख्तर को बनाया गया था लेकिन जाँच के लिए विजिट के बाद उन्होंने जाँच से अपने आप को अलग रखने की प्रार्थना की. इसका मुख्य कारण था कि वो जैन कॉलेज में अध्यापक भी थे. पूर्व के इस जांच की रिपोर्ट भी NSUI ने कुलपति से माँगा. कुलपति ने बताया कि नयी जांच समिति गठित कर दी गयी है जो जल्द ही उसका रिपोर्ट विवि को सौपेगी साथ ही लॉ परीक्षा में स्पेशल ट्रीटमेंट के साथ परीक्षा दे रहे पूर्व वित् अधिकारी पर भी जाँच जल्द कर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी. जाँच की माँग करने वालों में जिलाध्यक्ष अभिषेक द्विवेदी, प्रशांत ओझा, द्विवेदी दिनेश,दुलदुल सिंह, आकाश कुमार, कृष्णा हरी, राहुल यादव, अमित कुमार, सोनू विकास, राजाबाबू तिवारी, नविनशंकर पाठक आदि थे.