दुनिया का पहला नेटिव वीडियो कॉल असिस्टेंट (बॉट) | Reliance Jio

आईएमसी 2019 में दुनिया के पहले नेटिव वीडियो कॉल असिस्टेंट (बॉट) को प्रस्तुत किया
जियो का पेटेंट फाइल्ड एआई आधारित ग्राहक सहभागिता प्लेटफॉर्म हेल्प-लाइन पर असंख्य कॉल्स को संभाल सकता है, लंबे इंतजार से मिलेगी मुक्ति
जियो बॉट मेकर टूल अपने स्वयं के वीडियो कॉल असिस्टेंट बनाने के लिए छोटे व्यवसायों को सक्षम करके अधिक अवसर प्रदान करेगा

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | इंडिया मोबाइल कांग्रेस (आईएमसी) 2019 में, रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (जियो) ने अपने पेटेंट-फाइल इनोवेशन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) आधारित वीडियो कॉल असिस्टेंट (बॉट) को प्रस्तुत किया. इस बॉट को किसी अन्य एप्लीकेशन को इंस्टाल किए बिना एक 4जी फोन कॉल से एक्सेस किया जा सकता है.
जियो ने प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से बताया कि वीडियो कॉल असिस्टेंट में ग्राहक सहायता और ग्राहक संचार उपयोग मामलों में एक बड़ा बदलाव लाने की क्षमता है. इसके साथ, मौजूदा ग्राहक की सबसे बड़ी मुश्किल अंतहीन समय तक कॉल होल्ड म्यूजिक को सुनना या कभी खत्म ना होने वाला आईवीआर इंतजार, अब अतीत की चीजें बन सकती हैं.
जियो के अबुसार, इनोवेटिव ग्राहक सहभागिता वीडियो असिस्टेंट सॉल्यूशन को जियो द्वारा अमेरिका स्थित रेडिसिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहायक कंपनी और दुनिया भर में सेवा प्रदाताओं को खुले दूरसंचार समाधान प्रदान करने के लिए एक लीडर कंपनी के साथ मिलकर विकसित किया गया है. एआई आधारित जियो वीडियो कॉल असिस्टेंट बिजनेसेज और अन्य उपयोगकर्ताओं को अपने ग्राहकों से दोहराए गए प्रश्नों के त्वरित और सरल समाधान के साथ सशक्त बनाता है, जिससे उनका फ्रंटएंड कम्युनिकेशन सहज हो जाता है. यह ब्रांडों को एक कुशल और सरल उच्च गुणवत्ता वाले ग्राहक जुड़ाव अनुभव प्रदान करने में भी मदद करता है.
जियो वीडियो बॉट ग्राहकों के सवालों को सुनने और उनके लिए सबसे उपयुक्त तरीके से जवाब देने के लिए एक पॉवरफुल एआई आधारित प्लेटफॉर्म का उपयोग करता है. इसके अलावा, प्लेटफॉर्म में एक अद्वितीय ऑटो-लर्निंग सुविधा है जो उत्तर देने की सटीकता में सुधार करने में मदद करती है.
जियो बॉट मेकर, एक ऐसा टूल है, जिसका उद्देश्य जियो बॉट प्लेटफॉर्म के साथ आने वाले छोटे व्यवसायों को सक्षम बनाने के लिए सिस्टम को अधिक लोकतांत्रिक बनाना है. इससे वे ऐसे एआई आधारित बॉट का उपयोग कर सकेंगे, जिसमें नो-कोडिंग है और इसमें अधिक प्रयास भी नहीं करना पड़ता है.
वीडियो बॉट को ह्यूमन जैसी सहभागिता प्रदान करते हुए विभिन्न ग्राहक जुड़ाव आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अत्यधिक कस्टमाइज किया जा सकता है.
वीडियो कॉल बॉट को एक अनोखा अवतार प्रदान करने के लिए ब्रांड्स द्वारा कस्टमाइज किया जा सकता है. ये अवतार पारंपरिक कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव, सीईओ, ब्रांड एंबेसडर या किसी अन्य व्यक्ति या ब्रांड द्वारा चुने गए कैरेक्टर का हो सकता है.
जियो विज्ञप्ति के हवाले से बताया गया है कि इस एआई आधारित कस्टमर केयर अवतार को यूजर्स द्वारा केवल एक वीडियो कॉल सक्षम हेल्पलाइन डायल करके प्राप्त किया जा सकता है. एआई वीडियो कॉल बॉट बहुभाषी क्षमताओं के साथ आएगा, जिससे ब्रांड अपनी पसंद की भाषा में ग्राहकों के साथ संवाद कर सकेंगे.
मैथ्यू ओमन, प्रेसिडेंट, रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने कहा कि ‘‘जियो अपने संचालन को और अधिक कुशलता से संचालित करने के लिए बिजनेसेज को सक्षम और सशक्त बनाने के लिए इनोवेटिव और प्रासंगिक डिजिटल समाधान लाने के लिए प्रतिबद्ध है और वीडियो कॉल असिस्टेंट भारत में लाखों व्यवसायों के लिए वास्तव में अभिनव और आकर्षक उत्पाद लाने का एक ऐसा उदाहरण है. रेडिसिसा हमें हर किसी के लिए एआई को सुलभ बनाने में मदद कर रही है, ताकि व्यवसाय- छोटे या बड़े, नई और उभरती टेक्नोलॉजीज के लाभों को प्राप्त कर सकें. रेडिसिस के इनोवेशन लगातार 5जी और आईओटी और ओपन सोर्स आर्किटेक्चर एडह्वॉप्शन में जियो के ग्लोबल इनोवेशन और टेक्नोलॉजी लीडरशिप में तेजी लाने में मदद करता है.’’
जियो के अनुसार, एआई आधारित वीडियो कॉल बॉट सभी व्यवसायों-बड़े या छोटे को अत्यधिक लाभ पहुंचा सकता है. सभी इंडस्ट्रीज के लिए, ये सॉल्यूशन ब्रांड्स, बड़े या छोटे, अपने ग्राहकों के साथ पूरी तरह से डिसरप्टिव और मैत्रीपूर्ण तरीके से बातचीत करने में मदद करेगा.