आईओसी पाइपलाइन्स वर्कर्स यूनियन का 35वां सम्मेलन संपन्न

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन पाइपलाइन्स वर्कर्स यूनियन का 35-वां सम्मेलन पदाधिकारियों के चुनाव के साथ संपन्न
इलाहाबाद के राजकिशोर सिंह केंद्रीय अध्यक्ष एवं इलाहाबाद के ही मुकेश कुमार उप महामंत्री निर्वाचित हुए
पटना के प्रेम कुमार पासवान महामंत्री एवं बरौनी के नवीन कुमार उप महामंत्री निर्वाचित हुए
बरौनी के पंकज गोस्वामी एवं कृष्ण मुरारी कुमार कार्यकारी अध्यक्ष निर्वाचित हुए
इलाहाबाद के जीतेंद्र कुमार कोषाध्यक्ष एवं बैद्यनाथ कुमार मंत्री प्रधान कार्यालय निर्वाचित हुए

पटना (पीएन रिपोर्ट) | 12 नवंबर से इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन पाइपलाइन्स वर्कर्स यूनियन का 35-वां सम्मेलन बरौनी रिफाइनरी कैंपस बिहार से आरंभ होकर झारखंड, बिहार एवं उत्तर प्रदेश के सभी लोकेशनों से होते हुए, इलाहाबाद में पदाधिकारियों के चुनाव के साथ देर रात सम्मेलन समाप्त हुआ. सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए एटक के उत्तर प्रदेश के संयोजक कॉमरेड अरविंद राज स्वरुप ने केंद्र सरकार की आर्थिक, औद्योगिक और विनिवेश की नीति को आड़े हाथों लिया और कहा कि यह सरकार केवल और केवल मजदूरों के के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है, देश में बेरोजगारी पैदा कर रही है, कमाने वाले सरकारी कंपनियों का विनिवेश कर रही है या बेचने का फैसला कर रही है, जो किसी भी रुप में देश के तमाम ट्रेड यूनियनों को मंजूर नहीं है. यह सरकार अपने गलत नीतियों के कारण देश को आर्थिक मंदी में धकेल दी है. देश में बेरोजगारी चरम सीमा पर है और उद्योग धंधे बंदी की तरफ जा रहे हैं, उत्पादन घट रहा है और बिक्री भी घट रही है जिससे देश में मजदूरों की छंटनी हो रही है. यह सरकार देश की जनता के साथ धोखा कर रही है और अपने गलत नीतियों के कारण देश के विकास को भी नजरअंदाज कर रही है. यही कारण है कि देश में दिन प्रति दिन बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जा रही है, जॉब सिक्यूरिटी खत्म हो रही है, नए उद्योग नहीं लग रहे हैं. विदेश जाकर वहां भी प्रधानमंत्री निवेश का न्योता देते रहते हैं, लेकिन कोई भी उद्योग-धंधे हिंदुस्तान में रोजगार का सृजन नहीं कर पा रहा है. मेरा इस सम्मेलन में आप सभी डेलीगेट्स साथियों से अपेक्षा है कि आने वाले दिनों में इस सरकार के खिलाफ एकजुट होकर एक बड़े संघर्ष की तैयारी करें. अंत में हम आपके 35-वें सम्मेलन की सफलता की शुभकामनाएं देते हैं. इस अवसर पर एटक के इलाहाबाद और यूपी के मंत्री कॉमरेड नसीम अंसारी ने भी केंद्र सरकार के मजदूर विरोधी नीतियों का जमकर आलोचना किया और सम्मेलन को शुभकामनाएं दी.
इस अवसर पर इंडियन ऑयल यू.पी. के महाप्रबंधक एम.के.धीमन एवं सहायक प्रबन्धक (मानव संसाधन), आर.के. मिश्रा ने भी संबोधित किया. साथ ही, पेट्रोलियम वर्कर्स यूनियन के सचिव, दिनेश कुमार दूबे ने भी संबोधित किया एवं सम्मेलन को शुभकामनायें दी.
सभा में यूनियन के सभापतित्व कर रहे यूनियन के अध्यक्ष कॉमरेड राज किशोर सिंह ने भी केंद्र सरकार एवं प्रबंधन के मजदूर विरोधी नीतियों का पुरजोर ढंग से आलोचना किया और कहा कि आगे आने वाले चुनौतियों का मुकाबला हम सब एक होकर ही कर सकते हैं. उन्होंने सभी साथियों से आह्वान किया कि अपनी एकजुटता बनाए रखें, एकता के बल पर ही हम सब आगे आने वाले चुनौतियों का मुकाबला कर पाएंगे.
चुनाव में निम्नलिखित पदाधिकारी निर्वाचित घोषित किए गए :
अमरजीत कौर मुख्य संरक्षक, आई.एम. उनियाल एवं मणि बाबू संरक्षक, राजकिशोर सिंह अध्यक्ष, पंकज कुमार गोस्वामी एवं कृष्ण मुरारी कुमार सह-सभापति, प्रेम कुमार पासवान महामंत्री, मुकेश कुमार एवं नवीन कुमार उप-महामंत्री, बैद्यनाथ कुमार यूनियन प्रधान कार्यालय के मंत्री एवं जितेन्द्र कुमार कोषाध्यक्ष चुने गए.
इसके अलावा, बरौनी से धनन्जय कुमार उप-सभापति एवं जितेन्द्र कुमार रावत मंत्री, पटना से सत्य प्रकाश उप-सभापति एवं देवेन्द्र शर्मा मंत्री, मुगलसराय से विकाश कुमार उप-सभापति एवं परमानंद कुमार मंत्री, लखनऊ से आकाश सिंह उप-सभापति एवं दिलीप कुमार मंत्री, कानपुर से दिनेश कुमार पासवान व जगरूप उप-सभापति एवं आलोक कुमार शुक्ला मंत्री, इलाहाबाद से अमर नाथ उप-सभापति एवं नरेन्द्र सिंह मंत्री, PHBPL से राजेश कुमार उप-सभापति एवं रविन्द्र प्रसाद मंत्री, जसीडीह से दिनेश कुमार यादव उप-सभापति एवं भाष्कर पकिरा मंत्री, एडमिन बरौनी से मृत्युन्जय कुमार मंत्री चुने गए. सह-कोषाध्यक्ष के पद पर बरौनी से प्रवीण कु शुक्ला, पटना से राशिद इकबाल, मुगलसराय से संजय कुमार एवं कानपुर से आलोक कुमार चुने गए. मंच का संचालन उप-महामंत्री मुकेश कुमार द्वारा किया गया.