बाल दिवस पर जब सताई सबके स्वास्थ्य की चिंता


निःशुल्क हुई 3000 लोगों की चिकित्सा

आरा. बाल दिवस के मौके पर इस बार शहर में कुछ अनूठे कार्यक्रम देखने को मिले. स्कूलों में जहां बच्चे जल संरक्षण के लिए चिंतित दिखे वही आम लोगों के स्वास्थ्य की चिंता भी कुछ समाजसेवियों को सताया तो उन्होंने बाल दिवस सबके लिए एक स्वास्थ्य दिवस के रूप में मना डाला. यह काम किया भोजपुर जिले के जगदीशपुर प्रखंड के हेतमपुर गांव में समाजसेवी अखिलेश कुमार चौबे ने.




भोजपुर जिले के जगदीशपुर प्रखंड के हेतमपुर गांव में बाल दिवस को एक निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया जिसमें सिविल सर्जन भोजपुर का काफी सहयोग रहा. शिविर का उद्घाटन भोजपुर के तेजतर्रार पुलिस कप्तान सुशील कुमार के द्वारा किया गया. कार्यक्रम का संचालन अभिषेक तिवारी बड़े के द्वारा किया गया. कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में समाजसेवी अंजनी तिवारी, शिवपुर पंचायत के मुखिया महेश ठाकुर एवं हेतमपुर पंचायत के मुखिया ध्रुव राय उपस्थित रहे. कार्यक्रम में करीब 3000 मरीजों का निःशुल्क स्वास्थ्य जांच कर दवाइयां उपलब्ध कराई गई.

निःशुल्क जांच किया गया तथा अन्य सभी प्रकार के रोगों का इलाज निःशुल्क किया गया. शिविर में विशेष भूमिका जगदीशपुर रेफरल अस्पताल के चिकित्सकों की रही, जिसमें नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर राजेंद्र रजक की विशेष भूमिका रही. जिन्होंने अकेले करीब 1000 मरीजों का इलाज किया. कार्यक्रम में सभी सम्मानित अतिथियों का समाजसेवी अखिलेश कुमार चौबे ने अंगवस्त्र एवं पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया. इस मौके पर भोजपुर के पुलिस अधीक्षक एवं इस कार्यक्रम के उद्घाटनकर्ता सुशील कुमार ने कहा कि मनुष्य को स्वस्थ रहने के लिए इस तरह के शिविर का आयोजन करना अत्यंत जरूरी है.

उन्होंने यह भी कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ दिमाग का वास होता है. उन्होंने शिविर की व्यवस्था से खुश हो यह भी कहा कि अखिलेश कुमार चौबे जब-जब इस तरह का आयोजन करते रहेंगे तब तक मैं किसी भी कोने में रहूँ ऐसे आयोजन में शरीक होता रहूंगा. कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अंजनी तिवारी ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम को करने से समाज में आपसी मेल-जोल बढ़ता है,और समाज में स्वास्थ्य के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ती है. मौके पर सोनू मिश्रा, गणेश यादव, टुनटुन यादव, नागेंद्र यादव, छोटक, अखिलेश यादव, बाबुल मिश्रा इत्यादि बहुत सारे सामाजिक कार्यकर्ताओं के द्वारा शिविर में भरपूर योगदान दिया गया। कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन बिमलेश कुमार चौबे जी के द्वारा किया गया.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट