क्या आपने दी है जन्मदिन पर ये सौगात?


जब भाई ने लिख दी बहन पर ही फ़िल्म

पटना,20 जून. आमतौर पर किसी का जन्मदिन केक काटकर या बधाईयाँ देकर मनाया जाता है. कुछ लोग दुनिया के महंगे से महंगे वस्तुओं को देकर भी जन्मदिन को यादगार मनाते हैं. यही नही किसी को सरप्राइज गिफ्ट के तौर पर अनोखे चीजो को देना या किसी खास व्यक्ति का उस मौके पर शामिल करना अनोखी यादगार होती है. कभी-कभी तो बॉलीवुड के सितारे को भी जन्मदिन के मौके पर शामिल कर कई लोगों ने इसे यादगार बनाया है. अब आप यह सोच रहे होंगे कि यह किसका जन्मदिन है या कौन है वह बहन जिसके जन्मदिन पर भाई ने इतना बेहतरीन तोहफा दे दिया. हम बात कर रहे बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा नीतू चंद्रा की. आज नीतू का जन्मदिन है और इस मौके पर उनके भाई नितिन चंद्रा ने सोशल मीडिया पर बहुत ही शानदार पोस्ट लिखा है जिसमे उन्होंने लिखा है कि उनकी बहन न सिर्फ एक अच्छी कलाकार बल्कि इंटरनेशनल खिलाड़ी भी रह चुकी हैं. उनके लिए नीतू एक आदर्श हैं और उन्होंने उनके जीवन पर एक फ़िल्म तक लिख दी है. नितिन ने लिखा है-




“वैसे तो नीतू मेरी बहन है लेकिन कई बार अपने आपको detach करके भी देखा और सोचा है नीतू के बारे में | नीतू की अभी तक की जिंदगी गजब की रही है | Sir Einestien ने गांधी जी के बारे में कहा था “Generations to come will scarce believe that such a one as this ever in flesh and blood walked upon this earth.” बस वैसा ही कुछ | मैंने तो फ़िल्म लिख दी है नीतू के अभी तक के जीवन पर l

आपको लग रहा होगा की मैं ज्यादा बोल रहा हूँ | लेकिन जो लोग इस लड़की को करीब से जानते हैं वो आपको किस्से सुना देंगे | बक्सर जिले के डुमरांव से आये हुए पटना में 25 लोगों के joint फॅमिली में तमाम रूढ़िवादिता और तकलीफ़ों के ख़िलाफ़ बड़ी होकर गजब की अंतर राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी बन गयी | फ़िलिपींज़ हांग कांग में जैकी चैन से मिली ही नहीं, पुरस्कार भी ग्रहण किया l बिहार राज्य का 8 अलग खेलों में प्रतिनिधित्व किया और भारत की तरफ से दो अलग खेलों में | पटना में स्कूटर पर चलाने वाली एक लड़की दिखती थी | स्पोर्ट्स चैम्पियन लगातार कई साल तक | आवारा लड़कों की पिटाई कर डाली तो कभी दूसरी लड़कियों को आवारा लड़कों से बचाया | बचपन में नीतू ने मुझे पटना की गलियों में स्कूटर सिखाया, कभी गाय सुअर को सड़क पे बचाने के लिए हम गिरे l 🤣 कभी मेरी कराटे टीचर बनी l लेकिन हमसे कहाँ होने वाला था स्पोर्ट्स और वो थी चैम्पियन l कभी घर चलाने के लिए पटना में टीचर बन गयी तो कभी घर के सब लोगों के लिए पिता | दिल्ली के कॉलेज ने एडमिशन देने से मना किया तो ऐसा काम किया की उसी कॉलेज के प्रेजिडेंट बनी और प्रधानमन्त्री श्री अटल बिहारी बाजपाई ने सम्मानित भी किया | कभी प्रगति मैदान में बनफूल तेल के लिए काम किया तो कभी किसी कंपनी में सेक्रेटरी बनी ताकि अपना किराया दे सके | फिर किसी ने कहा की लम्बी हो एक्टिंग करो लेकिन रंग ढंग तो कराटे चैम्पियन वाले थे | लेकिन ढल गइ l

एक्टिंग में आई तो वहाँ भी कमाल | 40 ad फिल्म फिर फिल्मों में अक्षय जॉन अमिताभ दिबाकर बनर्जी मधुर भंडारकर प्रियदर्शन राम गोपाल वर्मा इत्यादि इत्यादि के साथ काम | एक्टिंग के साथ निर्माता बनी तो वो कर दिखाया जो बड़े बड़े नहीं कर पाए, देसवा और मिथिला मखान जैसी दो कड़क बिहारी भाषा की फिल्म दीं | एक फिल्म IFFI तो दूसरी राष्ट्रीय पुरस्कार | फिर बेजोड़ चैनल को खड़ा किया जिसमे बहुत से साथियों ने मदद की | लेकिन नीतू के बिना असम्भव सा काम भोजपुरी मैथिली के लिए सम्भव हुआ l

आज उसका जन्मदिन है, मैं नीतू को बधाई देता हूँ | हम आज तक अइसन लईकी के कहानी नइखीं जानत जे बक्सर/पटना जइसन छोट जगह से उठकर बंबई में जोरदार पहचान बनवले बाड़ी | तहार जन्मदिन के बधाई आ शुभकामना बाटे |”

हिंदी के साथ ही अपनी मातृभाषा भोजपुरी में नितिन ने अपनी बहन को बधाइयां दी है. पटना नाउ की ओर से भी मल्टी टैलेंटेड नीतू को ढेर सारी बधाईयां. आपसे बिहार ही नही देश को उम्मीद है. उम्मीदों के इस आसमान पर आप विजय पताका यूँ ही फहराते रहिए और भी बहन का प्यार इस मिट्टी के लिए ऐसे ही बना रहे.

मशहूर पत्रकार अजय ब्रह्मात्मज ने भी नीतू को जन्मदिन पर बधाइयां दी है

साभार : नितिन नीरा चंद्रा
प्रस्तुति : ओ पी पांडेय