तो इसलिए हुई थी मछली बाजार में गोलीबारी


रंजीत नोनिया
नामजद आरोपितों में से एक की हुई गिरफ्तारी
शुक्रवार को मछली बाजार में हुई थी गोलीबारी
गिरफ्तार आरोपित के घर से कई बोतल देशी और विदेशी शराब बरामद
पटना के फुलवारीशरीफ में शुक्रवार को गोलीबारी मामले में पुलिस ने एक नामजद आरोपित रंजीत नोनिया को गिरफ्तार किया है. इसके साथ ही पुलिस ने इस मामले का खुलास करने का भी दावा किया है. पुलिस के मुताबिक अपराधियों ने मछली दुकानदार उषा देवी से रंगदारी मांगी थी. रंगदारी का मामला जमीन से जुड़ा है. जानकारी के मुताबिक उषा देवी अपनी जमीन पर घर बनवा रही है. स्थानीय अपराधी उषा देवी से रंगदारी देने या जमीन में हिस्सा देने की मांग कर रहे थे. जब उषा देवी ने उनकी बात नहीं मानी तो अपराधियों ने उषा देवी की हत्या करने के लिए कई राउंड फायरिंग की. हालांकि उषा देवी बाल-बाल बच गई और गोली रास्ते से गुजरते एक व्यक्ति के पैर में लग गई.

बता दें कि शुक्रवार को फुलवारीशरीफ के टमटम पड़ाव के पास मछली बाजार में अपराधियों ने अंधाधुंध फायरिंग की थी. इस मामले में पीड़ित मछली दुकानदार उषा देवी ने रंजीत, अजय शास्त्री, मो आफताब और रईस के खिलाफ नामजद मामला दर्ज कराया था. पुलिस ने एक नामजद अभियुक्त रंजीत नोनिया को गिरफ्तार किया और अपराधी के घर से 35 बोतल विदेशी शराब और देशी शराब बरामद की है.




करीब 7 साल पहले भी टमटम पड़ाव के पास दो शराब सेल्समैन की हत्या और एक साल पहले दर्जी की हत्या के मामले में भी रंजीत  और अजय शास्त्री जेल गये थे. ASP राकेश कुमार ने बताया कि वर्ष 2009 में मछली दुकानदार उषा देवी ने नोनिया टोली में आधा कट्ठा जमीन खरीदी थी. इसी जमीन को लेकर फायरिंग हुयी. पुलिस ने एक आरोपित रंजीत को गिरफ्तार किया है और बाकी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.
रिपोर्ट- फुलवारीशरीफ से अजीत