इलेक्ट्रिक कार से दिल की बीमारी का बढ़ा खतरा !




आप भी सस्ती इलेक्ट्रिक कार लेना चाहते हैं तो पढ़ लें ये खबर

दिल के मरीज़ के लिए कितनी सुरक्षित है इलेक्ट्रिक कार!

कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण भेज सकता है सिग्नल

कार्डियक इम्प्लांट को अनुपयुक्त रूप से काम करने में करता है भ्रमित

चार्जिंग के दौरान सबसे अधिक विद्युत उत्सर्जन

इलेक्ट्रिक कार के डिफाइब्रिलेटर से लगता है दिल को झटका

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की वार्षिक बैठक अनाहेम, कैलिफ़ोर्निया में प्रस्तुत किए गए शोध से पता चला है कि  इलेक्ट्रिक वाहन कुल कार बाजार का एक छोटा हिस्सा हैं, बिक्री सालाना 30 से 40 प्रतिशत बढ़ रही है और इस बात की चिंता है कि इलेक्ट्रिक वाहन प्रौद्योगिकियां किसी तरह पेसमेकर और प्रत्यारोपित डिफाइब्रिलेटर के साथ हस्तक्षेप कर सकती हैं. 34 वरिष्ठ नागरिकों पर किये गए एक नए अध्ययन से पता चला है जिनके पास डिवाइस थे, उन्हें खतरनाक अनियमित दिल की धड़कन का सामना करना पड़ा हैं. ये वैसी गाड़ियाँ थी जो इलेक्ट्रिक तो थी मगर दिल के बचाव से संबंधित उपकरण नहीं लगे थे.

एक अध्ययन में पाया गया है कि सिर्फ टेस्ला के कार में “कार्डियक डिफाइब्रिलेटर वाले रोगियों में टेस्ला इलेक्ट्रिक वाहन की सुरक्षा को प्रदर्शित करता है और यह स्थापित करने में पहला कदम है कि ये वाहन कार्डियक उपकरणों वाले रोगियों के लिए सुरक्षित हैं. हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अपुर पटेल ने निष्कर्षों की समीक्षा कहा कि अन्य वाहनों में ऐसी सुविधा लगाने  की आवश्यकता होगी.डॉ. पटेल न्यूयॉर्क शहर के लेनॉक्स हिल अस्पताल में कार्डियक इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी के निदेशक हैं . उनका मानना ​​​​है कि अध्ययन को “अन्य वाहनों में  दोहराने की आवश्यकता होगी,” लेकिन यह भी ध्यान दिया कि “टेस्ला ने चार्जिंग के दौरान सबसे अधिक विद्युत गतिविधि उत्पन्न की.

डेटन, ओहियो में गुड सेमेरिटन अस्पताल के थेन तुन आंग और अब्दुल वासे इस प्रश्न को सुलझाने में मदद करने के लिए, डेटन टीम ने 69 वर्ष की औसत आयु के 26 पुरुषों और आठ महिलाओं के परिणामों को ट्रैक किया. सभी में एक प्रत्यारोपित कार्डियक डिफाइब्रिलेटर था. प्रतिभागियों के उपकरणों की विद्युत चुम्बकीय हस्तक्षेप के लिए निगरानी की गई थी क्योंकि वे टेस्ला एस पी 90 डी में या उसके पास थे क्योंकि इसे 220 वोल्ट चार्जिंग स्टेशन पर चार्ज किया गया था. लोगों का परीक्षण विभिन्न पदों पर किया गया जो ड्राइवर की सीट पर, यात्री की सीट पर, पिछली सीट पर और चार्जिंग पोर्ट के बगल में बैठे थे .

एएचए समाचार विज्ञप्ति के अनुसार डिफाइब्रिलेटर्स की सबसे संवेदनशील सेटिंग में किए गए परीक्षणों से पता चला है कि उपकरणों ने “इलेक्ट्रिक वाहन बैटरी से विद्युत चुम्बकीय संकेत को महसूस नहीं किया. शोधकर्ताओं ने कहा कि इस बात का कोई सबूत नहीं था कि चार्ज करते समय कार में या उसके पास होने से डिफाइब्रिलेटर से झटका लगा या अन्यथा इसमें हस्तक्षेप हुआ.

डॉ. खबीर बजसिन न्यूयॉर्क शहर के लेनॉक्स हिल अस्पताल में कार्डियक इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी के निदेशक हैं. उन्होंने बताया कि सैद्धांतिक रूप से, कम से कम, कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण सिग्नल भेज सकता है जो कार्डियक इम्प्लांट को अनुपयुक्त रूप से काम करने में भ्रमित कर सकता है. नए निष्कर्षों पर  उन्होंने कहा कि यह अध्ययन प्रभावी रूप से दर्शाता है कि इलेक्ट्रिक वाहनों द्वारा उत्सर्जित विद्युत चुम्बकीय हस्तक्षेप का स्तर (प्रत्यारोपित डिफाइब्रिलेटर्स) में हस्तक्षेप करने के लिए बहुत कम है मगर चिंता इस बात की है कि सभी कार निर्माता इस बात पर गंभीरता से कार्य करें. एक अन्य अध्ययन में पाया गया है कि सस्ते इलेक्ट्रिक कार में वैसी सुविधाएं नहीं मिल पाती है जो एक इलेक्ट्रिक कार में सुरक्षा मिलनी चाहिए.

PNCDESK