डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर ने शुरू किया फ्रेंचाइजी चेन

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर पैथोलॉजी सर्विस के क्षेत्र में एक जाना माना नाम है. जिसके पास है अत्याधुनिक तकनीक एवं मशीन से लैस अपना पैथोलॉजी लैब. जहां 24×7 ट्रेंड लैब टेक्निशियन बेहद कम समय में खून या दूसरे जांच सैंपल का परीक्षण कर तैयार करते हैं एक विश्वसनीय जांच रिपोर्ट. पहले मरीजों के खून या दूसरे सैंपल जांच के लिए राज्य के बाहर भेजना पड़ता था. लेकिन डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर ने इस समस्या को हमेशा के लिए खत्म कर बिहार में विश्वस्तरीय पैथॉलोजी सेवाएं उपलब्ध कराई हैं. अब यह जांच एक छत के नीचे आसानी से कम खर्च और कम समय में हो जा रही है. यह बिहार के मरीजों के लिए एक बड़ी सुविधा है. पहले इस तरह के जटिल जांच के लिए मरीजों को या तो बिहार से बाहर जाना पड़ता था या फिर उन लैब्स पर निर्भर रहना पड़ता था जो जांच के लिए मरीजों के सैंपल्स को बिहार के बाहर भेजते थे. इसका प्रतिकूल असर मरीज पर पड़ता था. रिपोर्ट मिलने में देरी होने के कारण सही समय पर इलाज शुरू नहीं हो पाता था. जिससे कई बार बिमारी गंभीर हो जाती थी या फिर कई मामलों में मरीज की आकस्मिक मौत तक हो जाती थी. हमारे संस्थान ने बिहार में कैंसर जैसे गंभीर बीमारियों के जांच सही समय पर कम खर्च में प्रदान कर मानव सेवा की दिशा में एक अहम पहल की है. अब यह लैब अपनी सेवाओं का दायरा बढ़ाने की दिशा में काम कर रहा है ताकि बिहार के सभी मरीजों को हमारी बेहतर सेवा का लाभ मिले और वो जल्दी से स्वास्थ्य लाभ ले सकें.
फ्रेंचाइजी मीट के अवसर पर प्रेस वार्ता में पैथोलॉजिस्ट डॉ प्रभात रंजन ने बताया कि इस संस्थान का एकमात्र लक्ष्य अपने राज्य के लोगों को कम समय मे आधुनिक चिकित्सा पद्धति द्वारा गुणवत्तापूर्ण जांच प्रदान करना है ताकि जटिल से जटिल बीमारियों के पहले चरण में उनकी पहचान कर उपचार किया जा सके और आकस्मिक मौत पर काबू पाया जा सके. डॉ प्रभात रंजन पीजीआई चंडीगढ़ से MD पैथोलॉजिस्ट हैं. उन्हें अपने देश के साथ-साथ विदेशों में भी सेवा देने का अनुभव प्राप्त है. इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए संस्थान ने बिहार के सभी सुदूरवर्ती जिले में फ्रेंचाइजी मॉडल के तहत लोगों को उनके अपने शहर में गुणवत्तापूर्ण जांच उपलब्ध कराने का फैसला किया है. ताकि जो असमर्थ लोग राज्य की राजधानी नहीं पहुंच पाते हैं उन्हें उनके शहर में जांच की सुविधा उपलब्ध हो. राज्य के सभी जिलों भाई लोगों ने डॉ प्रभात रंजन के इस मिशन के साथ सहभागी बनने के लिए उत्सुकता दिखाई है. डॉ प्रभात रंजन ने मीट में शामिल सभी लोगों का धन्यवाद देते हुए कहा कि आपके इस सहयोग से ही उन्हें अपने राज्य के लिए कुछ बेहतर करने की ऊर्जा मिलती है. उन्हें इस बात की खुशी है कि उनकी इस सोच को बिहार के लोगों ने समझा और मानव सेवा से जुड़े इस मिशन में साथ निभाने का वादा किया है. आइए हम अपने बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था और अर्थव्यवस्था को मजबूती देने की दिशा में साथ मिल कर कदम बढ़ाते हैं. अपने बिहार को स्वस्थ बनाते हैं.