डॉक्टरों के भीष्म पितामह डाॅ0 दिलीप सेन का निधन; CM ने शोक व्यक्त किया

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बिहार की पुरानी संस्था सेन डाइग्नोस्टिक के संस्थापक एवं प्रख्यात पैथोलाॅजिस्ट डाॅ0 दिलीप सेन का शनिवार सुबह पटना में निधन हो गया. वे वर्ष के थे. पिछले कुछ दिनों से वे बीमार चल रहे थे. उन्हें डॉक्टर के ग्रूपों में भीष्म पितामह कहा जाता रहा है. उनकी माध्यमिक क्लास की पढ़ाई गर्दनीबाग स्थित पटना हाई स्कूल से हुई थी. 1965 में उन्होंने सेन डाइग्नोस्टिक की स्थापना की थी.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की
मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा कि एक प्रख्यात पैथोलाॅजिस्ट थे. 1965 में सेन डाइग्नोस्टिक की नींव रखने के बाद उन्होंने अपने बलबूते सेन डाइग्नोस्टिक को आसमान की ऊंचाइयों तक पहुंचाया. उन्होंने कहा कि डॉ0 दिलीप सेन द्वारा जो काम किया गया है, वह चिकित्सा के क्षेत्र में आने वाली पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी होगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सेन डायग्नोस्टिक की इतनी ख्याति है कि इस संस्थान के द्वारा किया गया टेस्ट अंतर्राष्ट्रीय स्तर के अस्पताल और चिकित्सक बेहिचक मानते हैं. उन्होंने कहा कि डॉ0 दिलीप सेन ने चिकित्सा के क्षेत्र में जो काम किया है, वह बिहार और देश के लिए गौरव की बात है. उनका निधन चिकित्सकीय क्षेत्र के लिए एक अपूरणीय क्षति है. मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शान्ति तथा उनके परिजनों एवं प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है.