लुभाते मशाल और रंगोली…अब बनेगी डॉक्यूमेंट्री भी..

मानव श्रृंखला के लिए आकर्षिक करते मशाल और रंगोली, बनेगी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म भी

जिले की गतिविधियों को कैप्चर करेगी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म की 10 टीमें




कहीं जुलूस तो कहीं रंगोली के सहारे फैलाई जा रही है जागरूकता

आरा, 8 जनवरी. आजकल प्रखंडो और गांव में मशाल और रंगोली अपना जलवा बिखेर रहे हैं. अब आप यह सोच रहे होंगे कि मशाल से कौन सा जलवा? तो बता दें कि इस ठिठुरती ठंड में मशाल की आग 19 जनवरी को बनने वाले मानव श्रृंखला के लिए लोगो को अपनी ओर आकर्षिक कर रही है. वही महिलाएं सुंदर रंगोली से मानव श्रृंखला के जागरूक तो कर ही रही हैं जल-जीवन और हरियाली का सन्देश भी दे रही हैं.मानव श्रृंखला को ले जिलाधिकारी भोजपुर के नेतृत्व में लगातार बैठकों का दौर चालू है. बेहतर श्रृंखला के साथ लोगो को मानसिक तौर पर जोड़ने के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे है. इसी क्रम में आज पटना की टीम ने भोजपुर का दौरा किया तथा जिलाधिकारी से भेंट कर संपूर्ण गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की. सूचना एवं जनसंपर्क विभाग,पटना द्वारा सूचीबद्ध एजेंसी इनफोकस एडवरटाइजर, मानव श्रृंखला की संपूर्ण गतिविधियों पर आधारित इस डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाएगी. उन्होंने बतलाया कि ड्रोन कैमरा से श्रृंखला निर्माण का फोटो कैप्चर किया जाएगा तथा श्रृंखला निर्माण के महत्वपूर्ण रूटलाइन पर 10 टीमों के द्वारा गतिविधियों की शूटिंग की जाएगी. इस दौरान जिला की महत्वपूर्ण जागरूकता कार्यक्रमों को कैमरे में कैद किया जाएगा तथा उसे फिल्म में जगह दी जाएगी. इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों का साक्षात्कार तथा महत्वपूर्ण धार्मिक एवं पौराणिक स्थलों में को जगह दिया जाएगा. इस प्रकार भोजपुर की पावन भूमि पर निर्मित अटूट मानव श्रृंखला के भव्य, आकर्षक एवं ऐतिहासिक स्वरूप को फिल्म के माध्यम से जीवंत बनाया जाएगा.

जिला स्तर पर मानव श्रृंखला के जन जागरूकता हेतु तीन प्रमुख विभागों शिक्षा विभाग जीविका एवं आईसीडीएस के लिए प्रतिदिन संपन्न होने वाले कार्यक्रमों का विवरण तैयार किया गया है तथा संबंधित विभागों को निर्देश दिया गया है कि वह प्रतिदिन के कार्यक्रमों का फोटो एवं प्रतिवेदन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे.

बुधवार को तरारी एवं पीरों में सरकारी एवं गैर सरकारी व्यक्तियों ने मशाल जुलूस निकाला जो विभिन्न मार्गों से गुजरते हुए मानव श्रृंखला में लोगों को शामिल होने का संदेश दिया.

वहीं दूसरी ओर आंगनबाड़ी केंद्रों पर रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें केंद्र की सहायिका सेविका एवं लाभुकों ने भाग लिया. बृहस्पतिवार को कृषि भवन से 3 प्रचार वाहन शहर के विभिन्न मार्गो में प्रचार-प्रसार हेतु निकाली जाएगी जिसे जिलाधिकारी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया जाएगा साथ ही बृहस्पतिवार को कृषि भवन परिसर से मोटरसाइकिल जुलूस निकाली जाएगी, जिसे जिलाधिकारी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया जाएगा. कृषि भवन के मुख्य गेट पर लगे टीवी स्क्रीन पर मानव श्रृंखला पर आधारित लघु फिल्म का लगातार प्रदर्शन जारी है जिसके माध्यम से समाहरणालय आनेवाले व्यक्ति आकर्षित हो रहे हैं.

बताते चलें कि बीते दिनों जिलाधिकारी रोशन कुशवाहा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी सहित प्रखंड स्तरीय अन्य अधिकारियों के साथ मानव श्रृंखला के सफल एवं सुचारू आयोजन हेतु बैठक की थी. समीक्षात्मक बैठक में जिलाधिकारी ने प्रखंडवार श्रृंखला की लंबाई, अनुमानित मानव बल की संख्या, मानव बल की उपलब्धता के स्रोत तथा रूट लाइन पर कर्मियों की प्रतिनियुक्ति संबंधी फीडबैक प्राप्त किया तथा श्रृंखला की सुदृढ़ व्यवस्था हेतु आवश्यक निर्देश भी दिया.

इन जगहों पर मानव श्रृंखला की ये होगी लंबाई

समीक्षा के क्रम में पाया गया कि पीरो प्रखंड अंतर्गत 41 किलोमीटर तरारी में 37 किलोमीटर, जगदीशपुर में 50 किलोमीटर,शाहपुर में 13 किलोमीटर,बिहिया में 25 किलोमीटर,आरा सदर में 55 किलोमीटर, कोइलवर में 21 किलोमीटर, बड़हरा में 35 किलोमीटर,सहार में 19 किलोमीटर, संदेश में 16 किलोमीटर, अगिआंव में 19 किलोमीटर, गड़हनी में 17 किलोमीटर, और उदवंतनगर में 45 किलोमीटर श्रृंखला का निर्माण किया जाएगा जिसमें मुख्य मार्ग एवं उप मार्ग दोनों की लंबाई शामिल है.

प्रखंडवार श्रृंखला की लंबाई के विश्लेषण से स्पष्ट है कि आरा सदर,जगदीशपुर एवं उदवंतनगर में श्रृंखला की लंबाई सर्वाधिक रहेगी जबकि संदेश,गड़हनी एवं अगिआंव में श्रृंखला की लंबाई अपेक्षाकृत कम रहेगी. जिलाधिकारी ने कहा कि जिला एवं प्रखंड स्तर पर संचालन समिति की बैठक संपन्न हो चुकी है उसी प्रकार से सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी पंचायतों में भी संचालन समिति की बैठक कराना सुनिश्चित करेंगे. साथ ही जिलाधिकारी ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को वार्ड सभा एवं ग्राम सभा का आयोजन करने का निर्देश दिया.

100 मीटर पर नायक दल व 5 किमी पर सेक्टर अधिकारी रहेंगे नियुक्त
इसके अतिरिक्त मेनरूटलाइन पर उपलब्ध मानव बल द्वारा एक-एक पौधा लगाने को कहा ताकि श्रृंखला के साथ-साथ ‘जल-जीवन- हरियाली’ के तहत भोजपुर की पावन भूमि को हरित आवरण से आच्छादित किया जा सके. उन्होंने श्रृंखला में मानव बल की फुलप्रूफ व्यवस्था हेतु प्रति 100 मीटर पर नायक दल , प्रति किलोमीटर पर नायक, प्रति 5 किलोमीटर पर सेक्टर तथा प्रत्येक रूट लाइन के लिए अलग-अलग अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति करने तथा उनके दायित्व का निर्धारण तथा मानव बल उपलब्ध कराने की ठोस रणनीति तैयार कर प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया. उन्होंने आरा शहर क्षेत्र में श्रृंखला के सफल आयोजन हेतु अलग से एक कमेटी का गठन करने तथा उसकी बैठक करने का निर्देश दिया. उन्होंने आम लोगों की सहभागिता सुनिश्चित करने हेतु स्वयंसेवी संगठन छात्र संगठन खेल संगठन जनप्रतिनिधियों पंचायत प्रतिनिधियों ट्रक एसोसिएशन, जन वितरण प्रणाली के विक्रेताओं के साथ बैठक करने तथा उनका सहयोग एवं सहभागिता सुनिश्चित करने हेतु आवश्यक व्यवस्था करने का निर्देश दिया. जिलाधिकारी ने बैठक में प्रत्येक प्रखंड विकास पदाधिकारी को पंचायतवार प्रोग्राम आयोजित करने का निर्देश दिया जिसमें उस प्रखंड के वरीय पदाधिकारी सहित प्रखंड स्तरीय एवं पंचायत स्तरीय तमाम अधिकारी एवं कर्मी भाग लेंगे. इस आयोजन के तहत साइकिल रैली, पदयात्रा , हर घर दस्तक, मशाल जुलूस आयोजित करने को कहा जिसका स्वरूप आकर्षक एवं भव्य हो तथा उस क्षेत्र के अधिकाधिक व्यक्तियों की सहभागिता हो. बैठक में उप विकास आयुक्त अंशुल अग्रवाल, अपर समाहर्ता कुमार मंगलम, जिला परिवहन पदाधिकारी माधव कुमार सिंह, डायरेक्टर डीआरडीए प्रमोद कुमार, स्वच्छ भारत प्रेरक निखिल कुमार जिला शिक्षा पदाधिकारी कौशल किशोर सहित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रखंडों में सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी संबद्ध थे.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट