‘पेपर लीक कांड की जांच सही दिशा में, नहीं होगी CBI जांच’

सोमवार को मुख्यमंत्री के लोक संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने आखिरकार साफ कर दिया कि BSSC पेपर लीक कांड की CBI जांच नहीं होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले में SIT की जांच बिल्कुल सही चल रही है और इसलिए और किसी एजेंसी से जांच की जरुरत नहीं है. बता दें कि रोज हो रहे नए खुलासे और मामले में कई मंत्री और विधायकों के नाम आने की चर्चा के बाद विपक्षी पार्टियां पेपर लीक कांड की CBI जांच की मांग कर रही हैं.




क्या कहा सीएम ने BSSC पर-

BSSC पेपरलीक मामले पर पूछे गये सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में समाचार पत्रों में खबर छपी थी उसे पढ़कर हमने मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक को अपने स्तर से जाॅच करने तथा कार्रवाई करने का निर्देश दिया. पुलिस महानिदेशक ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट मुख्य सचिव को सौंपी. रिपोर्ट के आधार पर मुख्य सचिव द्वारा परीक्षा रद्द करने की सिफारिश की गयी. प्राप्त सिफारिश के आलोक में परीक्षा रद्द की गयी तथा जाॅच के लिये स्पेशल इंवेस्टिगेटिंग टीम पटना के वरीय पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में बनायी गयी. सीएम ने कहा कि जैसा पहले इंटरमीडिएट परीक्षा के मामले में भी इंवेस्टिगेशन किया गया था, आपने देखा कि इसका कितनी जल्दी नतीजा आया, इस मामले में भी कार्रवाई की जा रही है. मामले के लिये और जांच की जरूरत नहीं है. मामले में कार्रवाई हो रही है.

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमारा शुरू से सिद्धांत रहा है कि ना किसी को बचाने में विश्वास है ना ही फंसाने में, कानून अपना काम करेगा. किसी को भी विशिष्टता प्राप्त नहीं है, कानून की नजर में सब बराबर हैं. पुलिस इंवेस्टिगेशन पर भरोसा करना चाहिये.  राजगीर में फिल्म सिटी निर्माण के संबंध में पूछे गये सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राजगीर में फिल्म सिटी निर्माण के संदर्भ में अग्रतर कार्रवाई की जा रही है. सांसद शत्रुध्न सिन्हा के साथ इस संबंध में बातचीत हुयी है. अधिकारियों द्वारा भी इस दिशा में विभिन्न स्तरों पर बातचीत की जा रही है.

बता दें कि मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में लोक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस बार लोक संवाद कार्यक्रम में सामान्य प्रशासन, पुलिस, गृह, निगरानी, पंचायती राज, सहकारिता, नगर विकास एवं आवास, मद्य निषेध निबंधन एवं उत्पाद विभाग, वाणिज्य कर, राजस्व एवं भूमि सुधार, खान एवं भू-तत्व, परिवहन तथा आपदा प्रबंधन विभाग से संबंधित मामलों पर 15 लोगों द्वारा मुख्यमंत्री को अपना सुझाव दिया गया.
आयोजित लोक संवाद कार्यक्रम में पटना के राकेश कुमार शर्मा, मधुबनी के सुशील कुमार, पटना के अनिमेष रंजन, पटना के अमलेश कुमार चैहान, पटना के प्रभाषचन्द्र शर्मा, दरभंगा के मो रिजवान, किशनगंजन के राकेश कुमार, पटना के  मनोज कुमार, समस्तीपुर के शंभूशरण, भागलपुर के दीपक कुमार झा, पटना के सुरेश कुमार शर्मा, औरंगाबाद के दिनेश प्रसाद सिंह, दरभंगा के खुर्शीद आलम, अररिया के आशीष कुमार, बेगुसराय के शुवेन्दु कुमार ने अपने-अपने सुझाव एवं राय मुख्यमंत्री को दिये. लोक संवाद कार्यक्रम में सहकारिता मंत्री  आलोक कुमार मेहता, नगर विकास एवं आवास मंत्री महेश्वर हजारी, राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री डाॅ मदन मोहन झा, परिवहन मंत्री चन्द्रिका राय, खान एवं भूतत्व मंत्री मुनेश्वर चौधरी, आपदा प्रबंधन मंत्री चन्द्र शेखर, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, पुलिस महानिदेषक पीके ठाकुर, प्रधान सचिव मंत्रिमण्डल समन्वय ब्रजेश मेहरोत्रा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा सहित संबंधित विभागों के प्रधान सचिव/सचिव उपस्थित थे.