गलियां-सड़क चकाचक पर ‘नल’ से नहीं टपक रहा ‘जल’

गड़हनी,22 अप्रैल. भोजपुर जिले का गड़हनी प्रखंड के लगभग 6 किलोमीटर पर स्थित बलिगांव पंचायत है.बलिगांव पंचायत की पहचान अंग्रेजों द्वारा स्थापित कोठी से जाना जाता हैं. बताया जाता है कि इस कोठी में अंग्रेजों ने इस क्षेत्र का अपना ऑफिस बनाया था. इस कोठी में छह रूम, कुआँ सहित कई चीजें हैं जो आज जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं. जब-तब लोग इसे देखने जाते हैं या बाहर से आये लोगो को दिखाने ले जाते हैं. यह कोठी इस पंचायत की खास पहचान है. वही दूसरी पहचान बाबू कुँवर सिंह 1857 के लड़ाई में बलिगांव रुक कर पोखरा में स्नान ध्यान किए थे, जो आज उसी पोखरा के किनारे बाबा बलीश्वर नाथ का शिव मंदिर बनाया गया हैं. पोखरा के सौन्दर्यीकरण नही होने से छठ पूजा के दौरान छठव्रतियों की भी परेशानी होती हैं. पंचायत सरकार भवन पिछले साल 2020 में बन कर तैयार है लेकिन अभी तक पंचायत के मुखिया सुनील कुमार को हैंड ओवर नही हुआ हैं. पंचायत के सात निश्चय योजना, पंचम वित्त आयोग चौदहवीं एवं पन्द्रहवीं योजना के अंतर्गत लगभग ढाई करोड रूपये का काम किया गया गया है.मुखिया ने बताया कि पंचायत में राशि भरपूर नही मिला हैं जिससे बलिगांव पंचायत का भरपूर विकास नही हुआ हैं, जिसका आरोप प्रशासनिक अधिकारी पर लगाया है. पंचायत में कुल गांव बलिगांव , श्रीनगर , अजनाप, रौशनटोला, ललित के बथान, खेलाड़ी टोला, लालगंज, छोटकी तेंदुनी, डिहरी, महथिनटोला, डीह पर , भगवान टोला शामिल हैं. पांच वर्षो में पंचायत में काफी कम फंड मिलने के बावजूद भी संभवत सभी 16

Read more

नही रही भोजपुरी की इनसाइक्लोपीडिया रेखा तिवारी !

एक हफ्ते से थी सांस में तकलीफ, बुधवार को लिया अंतिम साँस पटना,21 अप्रैल(ओ पी पांडेय). भोजपुरी की इनसाइक्लोपीडिया के नाम से विख्यात 48 वर्षीय लोक गायिका रेखा तिवारी ने आज बोकारो में अंतिम सांस लिया. वे पिछले 14 अप्रैल से अस्पताल में इलाजरत थीं. कोरोना की वजह से साँस लेने में तकलीफ के कारण वे अस्पताल में ऑक्सीजन पर थीं. उनका स्वास्थ्य सुधर भी रहा था लेकिन मंगलवार से उनका बीपी लो होने लगा और लगातार ऑक्सीजन लेवल भी कम होने के कारण बुधवार की अहले सुबह लभगग 5.30 बजे उनका देहावसान हो गया. लोकसंगीत की बात हो और रेखा तिवारी का नाम न आये ये संभव नही है. शायद ही कोई भोजपुरी का लोकोत्सव हो या लोकपर्व जो उनसे अछूता रह गया हो. हमेशा चेहरे पर मुस्कान और आवाज में भोजपुरी की सोंधी खुश्बू के साथ जब उनकी टांस सुनने को जिसे मिकता वो उनका मुरीद हो जाता था. उनकी आवाज का जादू सबके सिर चढ़कर बोलता था. किसी बात की जब चर्चा होती उनके पास उसके लिए गीत मौजूद होता था. ऐसी त्वरित डिमांड पेश करने वाली बहुचर्चित लोकगायिका रेखा तिवारी का निधन बुधवार को कोरोना की वजह से हो गया. उनकी तबियत पिछले एक हफ्ते से खराब चल रही थी. उन्हें साँस लेने में तकलीफ थी. यह सांस की तकलीफ भोजपुरी के सुरों की सांस छीन लेगा ये कोई नही जानता था. रेखा तिवारी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव थीं. उन्होंने अभी हाल के चैत नवरात्रि का पूजन भी लोगों से शेयर किया था इसके पहले

Read more

आज नहींं रिलीज होगा आरण्य चालीसा

आरण्य चालीसा पर कोरोना का कहर! चैत नवमी को रिलीज होने वाली आरण्य चालीसा स्थगित आरा की अधिष्ठात्री आरण्य देवी की आरती और चालीसा की हुई थी शूटिंग आरा,21 अप्रैल. कोरोना ने आम जन जीवन मेंं इस कदर तबाही ला दी है कि लोग अपनी दिनचर्या तक भी ठीक नहींं कर पा रहे हैं. मनुष्य का सामाजिक से धार्मिक परिवेश बदल चुका है. यहाँ तक कि अब देवी-देवताओं से जुड़े कार्यों पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं. मंदिर में भगवान तो पहले ही कैद हो चुके हैं. अब इनके भजन,चालीसा और आरती पर भी संकट के मेघ उमड़ रहे हैं. जी हाँ सुनने में आश्चर्य जरूर लग रहा होगा लेकिन यह यथार्थ है. शाहाबाद जनपद की अधिष्ठात्री,आरण्य देवी का चालीसा और आरती पिछले दिनों शूट किया गया था जिसका वीडियो नवमी को रिलीज होना तय हुआ था. लेकिन कोरोना की वजह से अब यह चालीसा और आरती अधर में लटक गया है. चैत नवमी को शक्ति की देवी का दिन माना जाता है और हिन्दू नववर्ष की शुरुआत भी मानी जाती है. इसी पावन दिवस को ध्यान में रखकर निर्माता ने यह आरती माँ को समर्पित करने का प्लान किया था लेकिन वह फिलहाल कोरोना के कहर से स्थगित हो गया है. कोरोना से जबतक स्थिति सामान्य नहींं होती रिलीज की अगली डेट का अनुमान निर्माता नही बता पा रहे हैं. बता दें कि माँ आरण्य क्रिएशन के बैनर तले आरा की अधिष्ठात्री देवी माँ आरण्य का चालीसा और आरती के ऑडियो का निर्माण पिछले वर्ष ही जारी

Read more

युवा मोर्चा ने मनाई बाबा साहेब की जयंती

आरा (भोजपुर). भारतीय जनता युवा मोर्चा ने जिलाध्यक्ष प्रकाश सिंह के नेतृत्व में भारत रत्न डॉ भीमराव अंबेडकर की जयंती, बुधवार को पश्चिमी रमना रोड स्थित बाबा डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यापर्ण कर मनाई. इस अवसर पर जिलाध्यक्ष ने कहा कि डॉ भीमराव अंबेडकर को बाबा साहेब अंबेडकर के नाम से भी जाना जाता है, वो महान समाज सुधारक, राजनीतिज्ञ, न्यायविद और देश के संविधान के निर्माता भी है. उन्होंने कहा कि सामाजिक विषमताओं को खत्म करने का उनका प्रयास सदा प्रेरणा देते रहेंगे. इस अवसर पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष संतोष तिवारी, रितेश कुमार वर्मा, जिला मीडिया प्रभारी निलेश कुमार जैन, कमल क्लब के संयोजक कुन्दन सिंह तोमर, प्रवक्ता सुमित सिंह, नगर अध्यक्ष नीरज सोनी, कार्यसमिति सदस्य हिमांशु प्रताप सिंह मौजूद थे. Pncb

Read more

वरिष्ठ नागरिकों व पत्रकारों समेत 130 लोगों ने लिया वैक्सीन, 5 निकले कोरोना पॉजिटिव

गड़हनी. स्थानीय प्रखंड मुख्यालय स्थित प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र समेत क्षेत्र के विभिन्न गाँव मे बुधवार को कुल 130 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया. इनमें सबसे ज्यादा 60 वर्ष की उम्र से उपर के वरिष्ठ नागरिक व 45 वर्ष तक के लोग शामिल थे. वहीं लोक तंत्र के चौथे स्तम्भ कहे जाने वाले मीडिया बन्धु ने भी कोविड का पहला डोज लिया. हिन्दुस्तान अखबार संवाददाता मुरली मनोहर जोशी,बोलता भोजपुर पोर्टल, बिरसा वाणी व सोनभद्र अखबार संवाददाता अविनाश कुमार राव और केवल सच मासिक पत्रिका के जिला ब्यूरो गुड्डू कुमार सिंह,चन्दन सोनी को भी कोरोना टीका का पहला डोज दिया गया. स्वास्थ प्रभारी डॉ० रीता शर्मा ने बताया कि गड़हनी पीएचसी व प्रखंड क्षेत्र में कुल 130 लोगों को टीका लगाया गया. गड़हनी में 5 लोगों का रिपोर्ट आया कोरोना पोजेटिव प्रखंड में लगातार कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. बुधवार को 5 नए लोगों का रिपोर्ट कोरोना पोजेटिव आया है. पीएचसी प्रबन्धक अनिल कुमार ने बताया कि कुल 70 लोगों का कोरोना जाँच किया गया जिसमें 5 लोगों का रिपोर्ट पोजेटिव आया है.पोजेटिव लोगों को डॉक्टरी सलाह के बाद होम कोरेटाइन कर दिया गया है. बराप टोला,बजेन, सिकटी,गड़हनी धमनिया गाँव से एक एक व्यक्ति कोरोना पोजेटिव पाए गए हैं. गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट

Read more

सरकारी स्कूलों में एडमिशन चालू तो प्राइवेट स्कूलों में क्यों नहीं!

पटना । पिछले डेढ़ सालो से कोरोना के आड़ में पुरे देश में शिक्षा व्यवस्था ठप्प करने पर तत्पर है केंद्र एवं राज्य सरकार उक्त बातें प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद शमायल अहमद ने एक प्रेस वार्ता में एसोसिएशन के प्रधान कार्यालय में कही. उन्होंने कहा की केंद्र सरकार के आदेशानुसार मार्च 2020 से लॉक डाउन के तहत सभी विद्यालयों को भौतिक तौर पर संचालित करने पर रोक लगाया गया था जिसके फलस्वरूप सभी विद्यालयों में पठन-पाठन बंद कर दिया गया.पिछले 3 महीनों से बिहार सरकार के आदेश अनुसार कक्षा प्रथम से आठवीं तक विद्यालय सुचारू रूप से चले है और इतने दिनों में किसी भी विद्यालय में कोई भी कोरोना का मामला प्रकाश में नहीं आया है. इस दौरान सभी संचालक अपने अपने विद्यालय में कोरोना गाइडलाइन्स के सभी मानकों का अक्षरशः पालन करते हुए विद्यालयों का संचालन करते रहे है उसके बाद भी बिहार सरकार के गृह विभाग के विशेष शाखा द्वारा पुलिस महानिदेशक, बिहार एवं मुख्य सचिव, बिहार के संयुक्त आदेश पत्रांक संख्या 34 दिनांक 03 अप्रैल 2021 के माध्यम से सभी विद्यालयों को 05 अप्रैल से 11 अप्रैल तक बंद करने का आदेश पारित कर दिया गया साथ ही पत्रांक संख्या 2020 – 2623 दिनांक 09 अप्रैल 2021 के माध्यम से विद्यालयों को 18 अप्रैल तक बंद करने का निर्देश पारित किया गया है. राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद शमायल अहमद ने कहा की किसी भी आदेश के पूर्व किसी भी विद्यालय समिति को लॉक डाउन के दौरान पठन-पाठन करवाने के सम्बन्ध में

Read more

बिहार में कोरोना विस्फोट जारी, अस्पतालों में भी जगह नहीं

बिहार में पिछले 24 घंटे में 3756 पॉजीटिव मरीज मिले हैं. पटना में 1382, भागलपुर में 302, गया में 290 और मुजफ्फरपुर, सिवान, बेगूसराय और मुंगेर में भी 100 से ज्यादा मरीज रविवार को मिले हैं. इधर पटना एम्स में रविवार को एक व्यक्ति की मौत कोरोना से हो गयी जबकि 10 नए मरीजोंं को एडमिट कराया गया है जिनकी जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकली है. एम्स कोरोना नोडल आफिसर डॉ संजीव कुमार के मुताबिक पटना एम्स में जहानाबाद के 90 वर्षीय शिवा यादव कि मौत हो गयी है . वहीं सोमवार को एम्स के आइसोलेशन वार्ड में 10 नये कोविड 19 पॉजिटिव मरीजो को भर्ती किया गया है जिसमे जमुई, पटना, नालंदा, छपरा, सितामढ़ी के मरीज शामिल हैं . इसके अलावा एम्स में 4 लोगों ने कोरोना को मात दे दिया जिन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया. वहीं रविवार शाम तक एम्स आइसोलेशन वार्ड में कुल कोरोना संक्रमण से ग्रस्त 109 मरीजों का इलाज चल रहा था . अजीत

Read more

रंग छतिसा के संस्थापक का निधन

चला गया कलाकार छोड़ गया सवाल हमारे चेहरों पर : दीपक तिवारी स्मृति शेष वह विस्तर पर रोज मरता रहा और उसका परिवार भी रोज तिल-तिल मरता रहा, पटना. रंग छत्तीसा के संस्थापक व शानदार अभिनेता, गायक,और नर्तक दीपक तिवारी का शनिवार को निधन हो गया. उनसा रंगकर्मी सदियों में एक होता है. वे भारत लोक रंगकर्म के ईश्वरीय देन थे जिन्हें रंगधुनी हबीब तनवीर ने ढूँढा था. 19 अक्टूबर 1959 को जन्में दीपक ने सितारा बिलासपुर के मंगला गांव से अपनी रंग यात्रा की शुरुआत की और दुनिया में अपने रंग का चमक बिखेर राजनांदगांव से शनिवार को विदा हो गया. सबको अपने अभिनय से अविभूत करने वाले दीपक ने बेहद कष्ट, और अभाव में आखिरी साँसे ली. दीपक तिवारी को बेहद करीब से जानने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय में कार्यरत सहायक प्रोफेसर एम के पांडेय ने उनके निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है. दीपक तिवारी को आइये जानते है उनकी जुबानी…. Patna now special उस रोज 2017 का संगीत नाटक अकादमी अवार्ड कलाकारों को हमेशा की तरह राष्ट्रपति भवन में मिलना था. मैं जैनेंद्र के साथ भिखारी ठाकुर के संगी कलाकार रामचंद्र मांझी के लिए गया हुआ था. पुरस्कारों के बाद भोजन के समय व्हील चेयर पर बैठे दीपक तिवारी पत्नी और नया थियेटर की कमाल कलाकार पूनम तिवारी (बाई) और उनकी बेटी से मुलाकात हुई. फिर थोड़ी बतकुच्चन हुई पर अफसोस हुआ कि दीपक न ठीक से बोल पा रहे थे, न ही अधिक हिलडुल रहे थे. पूनम उनको संभाल-संभाल कर सामने वाले की बात बता रहीं

Read more

मुहल्ले में साक्षी का बजा डंका

मुहल्ले वासियों ने घर जाकर दी बधाई आरा. जब किसी मुहल्ले या शहर में कोई अपने पढ़ाई, खेल या किसी अन्य विशेष कलाओं से उस जगह का नाम रौशन करता है तो वहाँ के लोग भी उस शख्स की सफलता पर बधाई देता है और उसके हौसले को और उड़ान पर जाने के लिए अपने उत्साह से उसे लबरेज कर देता है. कुछ ऐसा ही आजकल मिश्र टोला की रहने वाली साक्षी के साथ है. साक्षी कुमारी ने मैट्रिक में 85 प्रतिशत अंको(425) के साथ उतीर्ण हो अपने मुहल्ले में डंका बजाया है. हालांकि जिले में कई छात्रों ने इससे अधिक अंक अर्जित किया है और उन्हें कई संस्थानों और अधिकारियों ने सम्मानित किया है,लेकिन साक्षी अपने मुहल्ले की अभी स्टार है. साक्षी हरखेंन कुमार गायन स्थली की छात्रा है. साक्षी के पिता शैलेश ओझा एक दवा कम्पनी में कार्य करते हैं और माता ममता देवी गृहणी है. बेटी की सफलता पर परिवार ही नही पूरा मुहल्ला गदगद है. अपनी सफलता के बाद साक्षी ने बताया कि वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती है. वह अपने सफलता का सारा श्रेय अपने माता-पिता और गुरुजनों को देती है. वह कहती है कि जबतक माता-पिता शिक्षा के लिए बच्चियों को प्रेरित नही करेंगे शिक्षा का अलख नही जलेगा. वह अपने गुरु अमरेंद्र कुमार सिंह और वंशीधर मिश्रा के प्रति काफी कृतज्ञता जाहिर करती है जिन्होंने लॉक डाउन जैसे समय मे भी ऑनलाइन पढ़ाई के जरिये छात्रों को शिक्षा से वंचित नही रहने दिया. वह कहती है इसी तरह वह आगे भी अपने लक्ष्य

Read more

व्यवसायियों ने अपराधियों के खिलाफ खोला मोर्चा

व्यवसायी मंच का होगा निर्माणसुरक्षा के लिए हथियार निर्गत करने के साथ पुलिस पिकेट की हुई माँग आरा. सरदार पटेल बस पड़ाव, आरा से जुड़े हुए व्यवसायियों की एक बैठक शनिवार को बस स्टैंड रोड स्थित एक उत्सव भवन में आयोजित की गई. यह बैठक पिछले दिनों किराना व्यवसायी महेंद्र प्रसाद के साथ हुई लूटपाट और बस स्टैंड के इलाके में बढ़ रहे अपराध को लेकर की गयी. बैठक में निर्णय लिया गया कि आने वाले दिनों में व्यवसाय संगठन का निर्माण कर भोजपुर एसपी से मिलकर बढ़ते अपराध और वयवासियों की सुरक्षा, व्यवसायियों को हथियार का लाइसेंस देने, और बस स्टैंड में पुलिस पिकेट की स्थापना के लिए प्रयास किये जायेंगे. उक्त निर्णयों को लागू नही करने पर चरणबद्ध आंदोलन चलाने का निर्णय भी लिया गया. बैठक में भाकपा माले के नगर सचिव दिलराज प्रीतम, अधिवक्ता अमित कुमार गुप्ता उर्फ बंटी गोपाल प्रसाद, दीना गुप्ता, बबलू गुप्ता राजेश सिंह, नवीन कुमार, संजय सिंह, राजेश सिंह, व रंजीत गुप्ता जैसे दर्जनों लोगो ने अपनी बात को रखा और अपराध के खिलाफ संघर्ष तेज करने का आह्वान किय. PNC

Read more