दोहरे हत्या कांड में खुलासा : जानिए किसने की हत्या और क्यों की

एसएसपी मनु महाराज ने दोहरे हत्याकाण्ड का किया खुलासा
केयर टेकर शोएब से हुई महिला की हत्या
एसएसपी ने कहा कि अनुसन्धान के दौरान पता चला कि पति पत्नी के आपसी झगडे मे मारा गया था पति
पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बृहस्पतिवार 6 सितम्बर की रात एक रिटायर्ड कमिश्नर हरेंद्र प्रसाद सिंह और उनकी पत्नी स्वप्ना की हत्या के मामले में पुलिस ने हत्यारे का खुलासा कर दिया. शनिवार को पटना के एसएसपी मनु महाराज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि हरेन्द्र के केयर टेकर शोएब ने स्वप्ना की हत्या की थी जबकि खुद कमिश्नर हरेंद्र प्रसाद सिंह की हत्या स्वप्ना ने की थी.
गौरतलब है, हरेंद्र और उनकी पत्नी स्वप्ना, दोनों के शव उनके घर बुद्धा कॉलोनी के दुजराचक, मुर्गा फार्म गली स्थित बी-6 के प्रथम तल्ले के बेडरूम से मिले थे. हरेंद्र ने दो शादियां की थीं. पहली पत्नी कंकड़बाग में रहती है तथा उनसे दो बेटे हैं, जबकि दूसरी पत्नी स्वप्ना से एक बेटा ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह और एक बेटी गेली है. ब्रजेंद्र दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल में डॉक्टर हैं, जबकि बेटी ऑस्ट्रेलिया में रहती है.
स्वप्ना ने अपने पति हरेन्द्र को मारा
एसएसपी ने बताया कि केयर टेकर से पूछताछ और घटना स्थल से मिले साइंटिफिक साक्ष्यों के आधार पर पुलिस प्रथम दृष्टया इस नतीजे पर पहुंची कि कमिश्नर की पत्नी स्वप्ना की हत्या केयर टेकर ने की थी. एसएसपी के मुताबिक गुरुवार 6 सितम्बर की रात तीज में होने वाले खर्च को लेकर रिटायर्ड कमिश्नर और उनकी पत्नी स्वप्ना के बीच झगड़ा हुआ था. दोनों के बीच पहले भी झगड़ा हुआ करता था. घटना की रात हरेंद्र की चीख सुनकर दुसरे कमरे में सोफा साफ़ कर रहा केयर टेकर शोएब जब रूम के अंदर गया, तो उसने देखा कि हरेंद्र जमीन पर पड़े थे. उनका सिर फट गया था और पत्नी स्वप्ना दास उन्हें पीट रही थी. संभवतः इसी पिटाई के चलते पति हरेंद्र की मौत हुई.

शोएब ने स्वप्ना का गला दबाते हुए जमीन पर गिरा दिया
शोएब ने जब देखा कि हरेंद्र गिरे पड़े हैं तो वह उन्हें बचाने की कोशिश करने लगा. इसपर स्वप्ना ने शोएब पर भी हमला कर दिया. शोएब और स्वप्ना के बीच हाथापाई होने के दौरान शोएब ने स्वप्ना का गला दबाते हुए उसे जमीन पर गिरा दिया. चूँकि स्वप्ना के हार्ट में पेसमेकर लगा था इसलिए जमीन पर गिरते ही उसकी भी मौत हो गई.
शर्ट पर खून के छोटे धब्बों से पकड़ा गया शोएब
इस कांड की सूचना मिलने पर करीब 10.30 बजे रात में पुलिस घटनास्थल पर पहुंची. पुलिस को इस बात का अंदेशा हो गया था कि हत्या को किसी नजदीकी व्यक्ति ने ही अंजाम दिया है. अनुसन्धान के क्रम में पुलिस को शोएब के रूम से एक शर्ट मिला था, जिसपर खून के छोटे छोटे दाग थे. पूछने पर शोएब ने बताया कि चूंकि वह पेंटर का काम भी करता है, इसलिए ये पेंट के निशान हैं. लेकिन जब एफएसएल की टीम ने जांच की तो पता चला कि ये रंग नहीं बल्कि इंसानी खून के दाग हैं. इसके बाद कड़ाई से हुई पूछताछ से शोएब टूट गया और उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया. फिर उसने पूरी वारदात के बारे में पुलिस को बताया. उसके अनुसार, स्वप्ना की हत्या उसने जानबूझ कर नहीं की बल्कि अपने मालिक हरेन्द्र को बचाने के क्रम में गलती से हो गई.