बदनाम हुआ ‘कोयला’….

“कोयले” के काले रंग में हो रही थी ‘काली कमाई
कोयले के ट्रक में मिला 1000 किलो गांजा

पटना सिटी, 30 मार्च.अभी तक आपने शराब की तस्करी से काली कमाई के तरीकों को रोज नयाब ढंग से करते विभिन्न माध्यमों से सुना होगा. शराब के इन तस्करों के के तरीकों को अगर बॉलीवुड अपने फिल्मो में दिखाना चाहे तो कई फिल्में कम पड़ जाएं. लेकिन क्या कभी आपने गांजा को कोयले की काली साया में कमाई करते सुना है? चौंक गए न? जी हां ये कोई कही सुनाई बात नही बल्कि हक्कीत है पटना में पकड़े गए एक कोयले के ट्रक का जिसमे पुलिस को करोड़ो रूपये मूल्य का गांजा मिला है.




पटना पुलिस को गुरुवार एक बहुत बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. नदी थाना क्षेत्र के मोजीपुर इलाके में पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर गांजा से लदे ट्रक को धर दबोचा. पकड़े गए ट्रक में लगभग 1000 किलो गांजा बरामद किया गया, जिसकी कीमत करोड़ो की आंकी जा रही है. पकड़ा गया करोड़ो रूपये का गांजा कोयले की आड़ में लाया जा रहा था. कोयले के ट्रक पर गांजा ढोने का यह खेल बहुत दिनों से चल रहा था, जिसे पुलिस ने मौके पर पकड़ इस खेल का पर्दाफाश कर दिया. पुलिस इसे बहुत बड़ी कामयाबी मान रही है. मामले की पुलिस जांच में जुटी है. SSP मनु महाराज ने बताया कि इस संदर्भ में प्रदीप यादव, बिप्लव दास गुप्ता और आशीष राय को गिरफ्तार किया गया है.

अबतक अपने काले रंग की दाग की वजह से बदनाम कोयले पर गांजा ने ऐसा दाग लगा दिया जिसे उसका काला रंग भी कभी नही छुपा पायेगा. कोयले ने अपने काले रंग की आड़ में बहुतों को सफेदपोश बना दिया, जिन्होंने कोयले का साथ कभी नही छोड़ा लेकिन कोयले की आड़ में पकड़ा गया गांजा न तो काले रंग में छुप पाया और ना ही अब इस दाग से लगा कोयला कभी बेदाग होगा.

पटना नाउ के लिए ओ पी पांडेय की रिपोर्ट